पत्नी पति की धमाकेदार लड़ाई...पढ़िए मजेदार जोक्स Jokes Pappu Love Jokes Chutkule Husband Wife Jokes Viral Jokes Social Media Jokes सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पत्नी पति की धमाकेदार लड़ाई...पढ़िए मजेदार जोक्स Jokes Pappu Love Jokes Chutkule Husband Wife Jokes Viral Jokes Social Media Jokes

पत्नी पति की धमाकेदार लड़ाई...पढ़िए मजेदार जोक्स Jokes Pappu
 पत्नी पति की धमाकेदार लड़ाई...पढ़िए मजेदार जोक्स Jokes Pappu



हंसना ( Jokes Pappu) कुदरत का अनुपम उपहार है Jokes। यह कई रोगों की अचूक दवा भी है । Chutkule Husband Wife आप भी जिंदगी के उतार - चढ़ाव में अपने चेहरे की Husband Wife Jokes मुस्कुराहट को मत गंवाइए , परेशानियां अपने आप खत्म हो जाएंगी Social Media Jokes


1

वकील की पत्नी- हम औरतों को ही
 सुबह - शाम खाना बनाकर खिलाना है ,
 यह कौन से कानून में है ?
 वकील- जिनेवा समझौते के अनुसार
 प्रत्येक कैदी को भोजन देना अनिवार्य है ।

2


  अंग्रेजी के अलावा हिंदी में भी कुछ शब्द
 साइलेंट होते हैं । जब कोई दुकानदार भाव
 करते समय कहता है कि ' आपको ज्यादा
 नहीं लगाएंगे तो इसमें ' चूना ' शब्द छिपा होता है ।
 विदाई के वक्त जब दूल्हे से कहा जाता है
 ख्याल रखना ' तो इसमें अपना ' शब्द साइलेंट रहता है ।
 जब नेता कहता है कि गरीबी हटाऊंगा , तब ' अपनी शब्द साइलेंट होता है ।



3

  शरीर कहता है कसरत कर ले और आत्मा
 को रबड़ी , जलेबी , समोसे , कचौड़ी , छोले भटूरे और गोलगप्पे चाहिए ।
 शरीर नश्वर है और आत्मा अजर - अमर , इसलिए आत्मा की ही सुननी चाहिए ।





4


 ऐसे ही कोरोना का प्रसार जारी रहा ,
तो कुछ दिनों बाद क्वारंटीन में उन लोगों को रखा जाएगा ,
जिन्हें कोरोना नहीं है ।
पॉजिटिव लोग सड़कों पर आराम से घूम सकेंगे ।




Jokes, funny hindi jokes, husband wife jokes, girlfriend boyfriend jokes, jokes in hindi, jokes in hindi for whatsapp, latest jokes in hindi, latest whatsapp joke in hindi, hindi chutkule, chutkule, chutkule in hindi, hindi chutkule hd, जोक्स इन हिंदी, हिंदी चुटकुले,






दून दिल से
 पतझड़ भी हिस्सा है जिंदगी के मौसम का फर्क सिर्फ इतना है
कुदरत में पत्ते सूखते हैं और हकीकत में रिश्ते ...






6


इम्तिहान
 जिगर में हौसला सीने में जान बाकी है ,
अभी पाने के लिए आसमान बाकी है ।
हारकर बीच में मंजिल के बैठने वालों ,
अभी तो और सख्त इम्तिहान बाकी है ।
लविनीता सती






7

: व्हॉट्सएप जोक
युवक : साहब 50 रुपये दे दो कॉफी पीनी है ।
आदमी : लेकिन कॉपी तो 25 रुपये की आती है ।
युवक : साहब गर्लफ्रेंड को भी पिलानी है ।
आदमी : तो भिखारी ने भी गर्लफ्रेंड बना ली है ।
युवक : नहीं साहब , गर्लफ्रेंड ने भिखारी बना दिया है । :



8



व्हॉट्सएप ज्ञान
भूलकर भी कभी मुसीबत में न पड़ना '
सहिब ' ... खामखां ,
अपने और परायो की पहचान हो जाएगी !!!





9


दून दिल से जिंदगी जिंदगी संवारने को
तो जिंदगी पड़ी है अभी बस वो लम्हा ही संभाल लो ,
जहां जिंदगी खड़ी है ....


ये भी पढ़ें- Raksha Bandhan Special 2020: Kahani






Teacher student jokes, funny jokes, boyfriend girlfriend jokes, very funny jokes, santa banta jokes, best funny jokes, hindi jokes for whatsapp, hindi jokes, husband wife jokes in hindi, जोक्स, हिंदी जोक्स, Humour News in Hindi, Humour News in Hindi, Humour Hindi







10


व्हॉट्सएप ज्ञान दो जहां के बीच फर्क ,
एक सांस का चल रही है तो यहाँ ,
रुक गई तो वहां ...



11

व्हॉट्सएप जोक
शादीशुदा महिलाओं द्वारा बोला जाने वाला सबसे बड़ा झूठ ... '
इनसे पूछना पड़ेगा ' और ...
विवाहित पुरुषों द्वारा बोला जाने वाला सबसे बड़ा झूठ ... "
उससे क्या पूछना












12


बाबा जी का ज्ञान...
खुद को इतना मजबूत बनाओ कि ऊपर वाला भी सोचने पर मजबूर जाये कि...
.
.
.
मैंने तो इसे मिट्टी का बनाया था, ये अंबुजा सीमेंट कैसे बन गया...!!!

 




13



पत्नी - सूजी के हलवे में चीनी कम है
.
.
पति - लेकिन ये तो उपमा बनाया था मैंने...
.
.
पत्नी - अच्छा, फिर नमक ज्यादा है उपमा में..!!
.
पति बेहोश...

 




14



पत्नी - चल तो रहे हो,
मायके लड़ना मत
वो मेरे पापा का घर है।
.
.
.
.
पति (झुंझलाकर) - तो तुम्हारे पापा का घर क्या कुरुक्षेत्र है,
जो रोज वहां महाभारत होगा...!!!
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे