दुर्गावती, के निर्देशक ने मिलाया ड्रीमगर्ल, के निर्देशक से हाथ, साथ मिलकर बनाने जा रहे ये धमाल हॉरर कॉमेडी सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दुर्गावती, के निर्देशक ने मिलाया ड्रीमगर्ल, के निर्देशक से हाथ, साथ मिलकर बनाने जा रहे ये धमाल हॉरर कॉमेडी

 साथ मिलकर बनाने जा रहे ये धमाल हॉरर कॉमेडी




‘दुर्गावती’ के निर्देशक ने मिलाया ‘ड्रीमगर्ल’ के निर्देशक से हाथ, साथ मिलकर बनाने जा रहे ये धमाल हॉरर कॉमेडी 

 

G Ashok Will Produce Of Bhaagamathie Hindi Remake Durgavati With Raj Shandilya
दुर्गावती, के निर्देशक ने मिलाया ड्रीमगर्ल, के निर्देशक से हाथ, साथ मिलकर बनाने जा रहे ये धमाल हॉरर कॉमेडी Bhaagamathie, durgavati, raj shandilya, g ashok, भागमती, दुर्गावती, राज शांडिल्य, जी अशोक, Bollywood Photos,
 
 
 

छह साल की उम्र से कैमरे के आगे पीछे अलग अलग तरह के करतब दिखाते रहे तेलुगू फिल्म इंडस्ट्री के चर्चित कलाकार जी अशोक का नाम शायद आपने कम ही सुना होगा। लेकिन, आपने सुपरस्टार अनुष्का शेट्टी की फिल्म ‘भागमती’ की फिल्म का नाम जरूर सुना होगा। जी अशोक इसी फिल्म के निर्देशन से पूरे देश में चर्चा में आए और फिल्म की शोहरत का ही कमाल है कि वह अब अपनी इस फिल्म को हिंदी में बना रहे हैं। इस फिल्म के बाद उनका अगला कदम है एक हॉरर कॉमेडी बनाने का और इसके लिए उन्होंने फिल्म ‘ड्रीमगर्ल’ निर्देशक राज शांडिल्य से हाथ मिलाया है।

 

Bhaagamathie

फिल्म ‘भागमती’ एक आईएएस अफसर की कहानी है जिसे सीबीआई एक मामले में गिरफ्तार कर उससे पूछताछ करती है। लेकिन ये आईएएस अफसर पूरे मामले को एक डरावनी लोककथा में तब्दील कर देती है। पूरी फिल्म में कहानी दो अलग अलग ट्रैक्स पर चलती रहती है और रोमांच का रहस्य आखिर तक दर्शकों को बांधे रखता है। इसी फिल्म को जी अशोक अब हिंदी में अभिनेत्री भूमि पेडनेकर के साथ बना रहे हैं। इस फिल्म के निर्माताओं में अक्षय कुमार भी शामिल हैं।

 

दुर्गावती, के निर्देशक ने मिलाया ड्रीमगर्ल



अक्षय कुमार व अन्य निर्माताओं के लिए अपनी ही बनाई फिल्म ‘भागमती’ का रीमेक ‘दुर्गावती’ बना रहे जी अशोक अब खुद भी निर्माता बन गए हैं। जानकारी के मुताबिक उन्होंने एक हिंदी फिल्म के लिए ‘ड्रीमगर्ल’ के निर्देशक राज शांडिल्य के साथ हाथ मिलाया है। ये फिल्म एक हॉरर कॉमेडी हो सकती है। इस बारे में अभी कोई आधिकारिक घोषणा तो नहीं हुई है लेकिन समझा जाता है कि दोनों के बीच लॉकडाउन के दौरान इस मसले पर लगातार बातचीत होती रही है।

 


दुर्गावती, के निर्देशक ने मिलाया ड्रीमगर्ल


2010 में अपना निर्देशन करियर शुरू करने वाले जी अशोक की पहली ही फिल्म अकासा रामन्ना ने लोगों को प्रभवित किया। फिर नानी और हरिप्रिया के साथ बनी उनकी फिल्म ‘पिल्ला जमींदार’ ने खूब सुर्खियां बटोरी और उनकी तीसरी फिल्म ‘सुकुरमारुडू’ में आदि और निशा अग्रवाल के काम की भी चर्चाएं खूब रहीं। 2018 में रिलीज हुई ‘भागमती’ को तमिल में भी रिलीज किया गया। इसी फिल्म ने जी अशोक का नाम हिंदी पट्टी के दर्शकों तक पहुंचाया।

 

दुर्गावती, के निर्देशक ने मिलाया ड्रीमगर्ल



छह साल की उम्र में अपनी पहली फिल्म बतौर बाल कलाकार करने वाले जी अशोक को सिनेमा का नटराज भी कहा जाता है। वह 13 तरह के भारतीय शास्त्रीय व लोक नृत्यों में पारंगत बताए जाते हैं। बाल कलाकार के रूप में 15 फिल्में करने के बाद वह डीकेएस बाबू, स्वर्णलता, लॉरेंस और राजू सुंदरम जैसे मशहूर नृत्य निर्देशकों के सहायक रहे। बाद में नृत्य निर्देशक के रूप में भी जी अशोक ने खूब नाम कमाया।



हिंदी, तमिल व तेलुगू फिल्मों के अलावा जी अशोक की मंशा दूसरी भारतीय भाषाओं में भी अपने काम का विस्तार करने की है। उन्होंने अपनी सहकर्मी मानसी बागला के साथ मिलकर तीन दक्षिण भारतीय फिल्मों के राइट्स और खरीदे हैं। इनमें से एक फिल्म के मराठी रीमेक का निर्देशन खुद मानसी कर रही हैं।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे