Hindi Ashram Review Webs 2020: धर्म की छतरी के नीचे चलते धंधे और ढोंग की खुलती पोल सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Ashram Review Webs 2020: धर्म की छतरी के नीचे चलते धंधे और ढोंग की खुलती पोल


Hindi Ashram Review Webs 2020: धर्म की छतरी के नीचे चलते धंधे और ढोंग की खुलती पोल
Hindi Ashram Review Webseries 2020: धर्म की छतरी के नीचे चलते धंधे और ढोंग की खुलती पोल



 
निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा ने अपनी पहली वेबसीरीज आश्रम में धर्म की आड़ में चलने वाले अनेक गोरखधंधों की परतें उघाड़ी है. पिछले कुछ बरसों में जेल गए कई ढोंगी, पाखंडी, लुटेरे, बलात्कारी और हत्यारे बाबाओं की करतूतें बताती है आश्रम की कहानी.


Hindi Ashram Review
 धर्म का धंधा करने वाले कभी टॉर्च की रोशनी भक्तों की आंखों में झोंक कर उनकी पॉकेट मारा करते थे मगर अब वह हैलोजन लाइट से उन्हें नहलाते हैं और 360 डिग्री एंगिल में अपना बिजनेस फैलाते हैं. सिर्फ समाज के पिछड़े, गरीब, दुखियारे ही इन धंधेबाजों से गंडा नहीं बंधवाते बल्कि बड़े रईस, व्यापारी, उद्योगपति और राजनेता भी उनकी शरण में जाते हैं. इन रसूखदारों के धर्म की छतरी के नीचे आने से यह धंधा अब बड़ा गोरखधंधा बन चुका है. निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा ने अपनी पहली वेबसीरीज आश्रम में इसी गोरखधंधे की परतें उघाड़ी है. आश्रम का पहला सीजन शुक्रवार को एमएक्स प्लेयर पर रिलीज हुआ.

Bollywood Webseries ashram
प्रकाश झा ने बड़े कैनवास पर आश्रम की तस्वीर उतारी और वह सधे हुए दृश्यों से बात रखते हैं. हालांकि पहले ही यह वैधानिक सूचना देते हैं कि यह धर्म की असली तस्वीर नहीं है. वह केवल उन लोगों की कारगुजारियां सामने ला रहे हैं जो धर्म की आड़ में भोले-गरीबों को बहला कर उन्हें बकरा बनाते हैं. हम अपने पुराने अनुभवों से कह सकते हैं सहनशील सनातन समाज आश्रम की कथा उसी भाव से स्वीकार करेगा, जैसे वह संसार को माया मानकर पूरी लगन से अपने जीवन का निर्वाह करता है. जैसे सच्चे भक्त अंधे होते हैं, वैसे ही सच्चे दर्शक रेनकोट पहन कर मनोरंजन के शॉवर में नहाते हैं.




Latest Hindi Webseries ashram

इधर के समय में कहानियां और हकीकत एक-दूसरे में मिक्स हो चुके हैं. कब कहानी में हकीकत आती है और कब हकीकत किसी कहानी जैसा दिल बहलाने लगती है, फर्क करना मुश्किल हो जाता है. आश्रम में सच और एंटरटेनमेंट के सारे तत्व घुले-मिले हैं. एक हैं काशीपुर वाले बाबा. एक रूप-महास्वरूप बाबा निराला सिंह (बॉबी देओल). उन्हें गरीबों के बाबा, नसीब वालों के बाबा और न जाने क्या-क्या कहा जाता है. प्रकाश झा सधे हुए फिल्मकार हैं और सामाजिक थ्रिलर उनका मैदान है. इसलिए उन्होंने इस वेबसीरीज में बाबा की एंट्री के लिए पहले मजबूत जमीन तैयार करने का काम किया. फिर असली कहानी की तरफ बढ़े. उन्होंने पहले जातियों की ऊंच-नीच, नफरत-सहानुभूति का खेल दिखाया है, जिसमें बाबा आसानी से पैर जमा लेता है. फिर चलती है बाबा के अतीत की फिल्म, बिजनेस के साथ राजनीति की गलबहियां, जंगल-जमीन की लूट, पुलिस का भ्रष्टाचार और मजबूरियां, मोक्ष दिलाने के नाम पर छल, नारी उद्धार के नाम पर शोषण, अस्पतालों और शिक्षा की आड़ में भक्त-भेड़ें पालने का धंधा. प्रकाश झा आश्रम की दिव्यता के पतन का सच सामने लाते हुए एक के बाद एक दरवाजे खोलते हैं. रंगीन झालरों से सजे हर दरवाजे के पीछे एक गहरी कालिख वाला अंधेरा है.


2020 Webseries ashram

यहां बाबा अपने लाखों भक्तों को राजनीतिक दलों के वोट बैंक में बदल देता है तो कभी प्रताड़ित नारी उद्धार का झंडा बुलंद करने के लिए सैकड़ों सेक्स वर्करों को पुलिस से पकड़ा कर अपने दीन-हीन सेवादारों से उनका ब्याह करा देता है. युवाओं को आकर्षित करने के लिए वह यूथ आइकन नशेड़ी पॉप गायक को उठवा लेता है तो किसी सेवादार की बीवी पसंद आने पर सेवादार को आत्मिक शुद्धिकरण के नाम पर नपुंसक बनवा देता है. अपने खिलाफ जांच करने वाले उच्च पुलिस अधिकारी को वह विषकन्या के जाल में फंसाता है तो अपने राज बनाए रखने लिए किसी की हत्या करके दफन कराने में भी पीछे नहीं रहता. ये सारी बातें आश्रम की कहानी में आते हुए सच का ही आभास देती हैं. बीते कुछ वर्षों में दर्जनों ढोंगी, पाखंडी, लुटेरे, बलात्कारी और हत्यारे बाबाओं का पर्दाफाश हुआ और वह जेलों में भी गए. आश्रम की कई घटनाएं साफ बताती हैं कि इसके लेखकों की टीम ने इन्हीं बाबा-लोग की करतूतों से प्रेरणा ली है.




आश्रम में बॉबी देओल अपनी भूमिका में फिट हैं और यह किरदार उनकी लीड रोल में वापसी पर मुहर लगाता है. लेकिन उन्हें मुख्य सेवादार भूपा जी बने चंदन रॉय सान्याल का अच्छा साथ मिला है. काले कारनामे करती यह जोड़ी जब सामने आती है तो नया गुल खिलाती है. पुलिस अधिकारी के रूप में दर्शन कुमार प्रभाव छोड़ते हैं. प्रकाश झा ने उजागर सिंह (दर्शन कुमार) के बहाने पुलिस महकमे में काबिल और कोटे से आए/प्रमोशन पाने वाले पुलिस अधिकारियों के बीच तनाव को आश्रम की कहानी के सामानंतर खूबसूरती से उभारा है. यह अलग बात है कि उजागर का पोस्टमार्टम करने वाली डॉक्टर नताशा (अनुप्रिया गोयनका) से प्रेम का ट्रेक फिल्मी आभास देता है. आश्रम की कहानी भले ही पहलवान पम्मी (अदिति पोहनकर) से शुरू होती है मगर सीजन वन में उसके बाबा निराला की भक्त बनने के साथ इस किरदार में ठहराव आ जाता है. दूसरे सीजन में पम्मी से करिश्मे की उम्मीद रहेगी. पम्मी के भाई बने तुषार पांडे और उनकी पत्नी बनी त्रिधा चौधरी की कहानियां भी अगले सीजन में अधिक विस्तार के साथ सामने आएंगी. प्रकाश झा ने सीजन वन को ऐसे मोड़ पर छोड़ा है, जहां से आप दूसरे सीजन का इंतजार करेंगे.


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे