Best Saleeq Besaleeqa Shayari Collection सलीका शायरी इन हिंदी

 
Saleeq Besaleeqa Shayari Collection सलीका शायरी इन हिंदी
सलीका शायरी इन हिंदी

 Salika shayari, salika shayari in hindi,  तरीका शायरी, शायरी सलीका, सलीका शायरी, सलीका शायरी इन हिंदी, बेसलीका शायरी
 
 
 कुछ बोल गुफ़्तुगू का सलीक़ा न भूल जाए
शीशे के घर में तुझ को भी रहना न भूल जाए
- किश्वर नाहीद


इस इब्तिदा की सलीक़े से इंतिहा करते
वो एक बार मिले थे तो फिर मिला करते
-अनवर मसूद
 
 


 

बात चाहे बे-सलीक़ा हो 'कलीम'
बात कहने का सलीक़ा चाहिए
- कलीम आजिज़
 
 
 


शर्त सलीक़ा है हर इक अम्र में
ऐब भी करने को हुनर चाहिए
-मीर तक़ी मीर
 


किसी दरख़्त से सीखो सलीक़ा जीने का
जो धूप छाँव से रिश्ता बनाए रहता है
- अतुल अजनबी
 
 

मिलने-जुलने का सलीक़ा है ज़रूरी वर्ना
आदमी चंद मुलाक़ातों में मर जाता है
- निदा फ़ाज़ली

रोने वाले तुझे रोने का सलीक़ा ही नहीं
अश्क पीने के लिए हैं कि बहाने के लिए
-आनंद नारायण मुल्ला
 
 

सलीक़ा बोलने का हो तो बोलो
नहीं तो चुप भली है लब न खोलो
-वक़ार मानवी
 


खुल के मिलने का सलीक़ा आप को आता नहीं
और मेरे पास कोई चोर दरवाज़ा नहीं
-वसीम बरेलवी
 
 

अपनी मिट्टी ही पे चलने का सलीक़ा सीखो
संग-ए-मरमर पे चलोगे तो फिसल जाओगे
-इक़बाल अज़ीम
 


वो झूट बोल रहा था बड़े सलीक़े से
मैं ए'तिबार न करता तो और क्या करता
-वसीम बरेलवी
 
 
 

आँखों को देखने का सलीक़ा जब आ गया
कितने नक़ाब चेहरा-ए-असरार से उठे
- अकबर हैदराबादी


अपनी मिट्टी ही पे चलने का सलीक़ा सीखो
संग-ए-मरमर पे चलोगे तो फिसल जाओगे
- इक़बाल अज़ीम
 
 

हमें सलीक़ा न आया जहाँ में जीने का
कभी किया न कोई काम भी क़रीने का
- फ़ारिग़ बुख़ारी


है कुछ अगर सलीक़ा है कुछ अगर क़रीना
मरने की तरह मरना जीने की तरह जीना
- मुनव्वर लखनवी