Best Lyrics Navratri Special 2020: शारदीय नवरात्रि मां दुर्गा की महिमा सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Best Lyrics Navratri Special 2020: शारदीय नवरात्रि मां दुर्गा की महिमा


शारदीय नवरात्रि मां दुर्गा की महिमा  मैं कुछ filmy bhajans shardiya navratri 2020
 filmy bhajans shardiya navratri 2020
 

शारदीय नवरात्रि मां दुर्गा की महिमा  मैं कुछ filmy bhajans shardiya navratri 2020
naam re sabse bada tera naam | mata jinko yad karen | navratri shubh muhurat 2020 |
navratri kalash sthapana muhurat

 

 

1979 में रिलीज फिल्म 'सुहाग' में अमिताभ और रेखा पर फिल्माए इस गीत में 'मां' की महिमा का वर्णन किया गया है। मोहम्मद रफ़ी और आशा भोसले की आवाज़ तथा लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के संगीत के बीच यह गीत काफी लोकप्रिय हुआ था। 



काल के पंजे से माता बचाओ, जय माँ अष्ट भवानी
काल के पंजे से माता बचाओ, जय माँ अष्ट भवानी
हे नाम रे, सबसे बड़ा तेरा नाम,
ओ शेरों वाली, ऊँचे डेरों वाली,

बिगड़े बना दे मेरे काम।

ऐसा कठिन पल, ऐसी घड़ी है,
विपदा आन पड़ी है।
तू ही दिखा अब रास्ता,
ये दुनिया रास्ता रोके खड़ी है।
मेरा जीवन बना इक संग्राम।

भक्तों को दुष्टों से छुड़ाए,
भुजती जोत जगाई।
जिसका नहीं है कोई जगत में,
तू उसकी बन जाए।
तीनो लोक करे तोहे प्रणाम।

हे, क्या भेट चढ़ाऊं तुझपे,
तू प्रसन्न हो जाए।
दुश्मन थर थर काँपे माँ,
जब तू गुस्से में आये।
 
1983 में रिलीज 'अवतार' फिल्म में राजेश खन्ना और शबाना आजमी पर फिल्माए गए इस गीत को नरेंद्र चंचल ने गाया है। यह गीत बहुत लोकप्रिय हुआ। 'मां' की महिमा का इससे बेहतर ढंग से वर्णन अन्य किसी गीत में नहीं है।

माता जिनको याद करे, वो लोग निराले होते हैं।
माता जिनका नाम पुकारे, किस्मत वाले होतें हैं।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।

सारे जग मे एक ठिकाना, सारे गम के मारो का,
रास्ता देख रही है माता, अपने आंख के तारों का।
मस्त हवाओं का एक झोखा यह संदेशा लाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
जय माता दी॥ जय माता दी॥

जय माता की कहते जाओ, आने जाने वालो को,
चलते जाओ तुम मत देखो अपने पीछे वालों को।
जिस ने जितना दर्द सहा है, उतना चैन भी पाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
जय माता दी॥ जय माता दी॥

वैष्णो देवी के मन्दिर में, लोग मुरादे पाते हैं,
रोते रोते आते हैं, हस्ते हस्ते जाते हैं।
मैं भी मांग के देखूं, जिस ने जो माँगा वो पाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
जय माता दी॥ जय माता दी॥

मैं तो भी एक माँ हूँ माता, माँ ही माँ को पहचाने।
बेटे का दुःख क्या होता है, और कोई यह क्या जाने।
उस का खून मे देखूं कैसे, जिसको दूध पिलाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।

प्रेम से बोलो, जय माता दी॥
ओ सारे बोलो, जय माता दी॥
वैष्णो रानी, जय माता दी॥
अम्बे कल्याणी, जय माता दी॥
माँ भोली भाली, जय माता दी॥
माँ शेरों वाली, जय माता दी॥
झोली भर देती, जय माता दी॥
संकट हर लेती, जय माता दी॥
ओ जय माता दी, जय माता दी॥  


1980 में रिलीज फिल्म 'आशा' में जितेंद्र और रामेश्वरी पर फिल्माए गए इस गीत में भी नरेंद्र चंचल ने अपनी मधुर तान बिखेरी है। गीत के हर बोल में मां की महिमा का भावुक वर्णन किया गया है।  आनंद बक्षी के बोल को लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने संगीत से सजाया है। 



साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार।

तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
ज्योता वालिये, पहाड़ा वालिये, मेहरा वालिये॥

तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

सारा जग है इक बंजारा, सारा जग है इक बंजारा,
सब की मंजिल तेरा द्वारा।
ऊँचे परबत लम्बा रास्ता, ऊँचे परबत लम्बा रास्ता,
पर मैं रह ना पाया, शेरा वालिये॥
 तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये॥

सूने मन में जल गयी बाती,
तेरे पथ में मिल गए साथी।
मुंह खोलूं क्या तुझ से मांगू, मुंह खोलूं क्या तुझ से मांगू,
बिन मांगे सब पाया, शेरा वालिये॥
 तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये॥

कौन है राजा, कौन भिखारी,
एक बराबर तेरे सारे पुजारी।
तुने सब को दर्शन दे के, तुने सब को दर्शन दे के,
अपने गले लगाया, शेरा वालिये॥

तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

प्रेम से बोलो, जय माता दी॥
सारे बोलो, जय माता दी॥
आते बोलो, जय माता दी॥
जाते बोलो, जय माता दी॥
कष्ट निवारे, जय माता दी॥
पार निकले, जय माता दी॥
देवी माँ भोली, जय माता दी॥
भर दे झोली, जय माता दी॥
वादे के दर्शन, जय माता दी॥
जय माता दी, जय माता दी॥


1985 में रिलीज फिल्म 'मर्द' में ओ मां शेरावाली गीत अमिताभ बच्चन ने गाया है। इसमें उन्होंने अपनी मां से मिलाने की प्रार्थना की है। शब्बीर कुमार ने इस गीत में अपनी आवाज़ दी है। अन्नु मलिक ने संगीत दिया है।  

ओ माँ शेरोवाली आ आ
ओ मां शक्तिशाली
माँ मेरी माँ से मिला दे मुझे
ममता का मैं वास्ता दे तुझे
दर से न तेरे जाऊंगा खाली
माँ शेरों वाली ओ माँ शेरों वाली
माँ मेरी माँ से मिला दे मुझे
ममता का मैं वास्ता दे तुझे
दर से न तेरे जाऊंगा खाली
माँ शेरों वाली ओ माँ शेरों वाली

माँ चुप है बेटा रोता है
ऐसा जग में कब होता है
पत्थर के मंदिर में रहकर दिल
दिल भी क्या तेरा माँ हो गया पत्थर
दिल भी क्या तेरा माँ हो गया पत्थर
तेरी दया को जग दूंगा रोकर
मैं तुझको रुला दूंगा
पिघलेगी कब तू पहाड़ों वाली
माँ शेरों वाली ओ माँ शेरों वाली
माँ शेरों वाली ओ माँ शेरों वाली

सब की माता तब तुझे
मानू मेरा दुःख पहचाने तोह जानू
सब की माता तब तुझे
मानूं मेरा दुःख पहचाने तो जानूं
जो न दिखाई माँ की सूरत
उठा ले जाऊंगा मैं तेरी मूरत
सब कुछ है धन वालों
का निर्धन के बस मात पिता
दौलत यह मेरी क्यों तूने छुपा ली
माँ शेरों वाली ओ माँ शेरों वाली

अपने भक्तों की तुझको कसम
दिल के सच्चों की तुझको कसम
तेरे बच्चों की तुझको कसम
न अपनों को दे यह सजा
अपने भक्तों की तुझको कसम
दिल के सच्चों की तुझको कसम
तेरे बच्चों की तुझको
कसम न अपनों को दे यह सजा
ओ माँ शेरों वाली ओ माँ शक्तिशाली
त्रिशूल तेरा उठा लूंगा चरणों
पे सर को चढ़ा दूंगा
रंग देगी तुझको लहू की लाली
माँ शेरों वाली ओ माँ शेरों वाली

दुरी मिटा दे माँ से मिला दे
या मेरी माँ का रूप धर ले
 


मनोज कुमार और दिलीप कुमार अभिनीत प्रसिद्ध फिल्म 'क्रांति' के इस गीत को महेंद्र कपूर और मीनू पुरुषोत्तम ने गाया है। संतोष आनंद ने इस गीत को लिखा है। लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने इसमें संगीत दिया है। 



जयकारा… शेरों वाली का
बोलो सांचे दरबार की जय

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ

बोलो जय माता दी, जय हो
बोलो जय माता दी, जय हो
जो भी दर पे आए, जय हो
वो खाली न जाए, जय हो
सबके काम है करती, जय हो
सबके दुख ये हरती, जय हो

मैया शेरोवाली, जय हो
भर दो झोली खाली, जय हो
मैया शेरोवाली, जय हो
भर दो झोली खाली, जय हो

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
मेरी माँ... शेरोवालिये

पूरे करे अरमान जो सारे,
पूरे करे अरमान जो सारे,
देती है वरदान जो सारे
देती है वरदान जो सारे
दुर्गे ज्योता वालिये
देती है वरदान जो सारे
दुर्गा है मेरी माँ अम्बे है मेरी माँ

सारे जग को खेल खिलाये
सारे जग को खेल खिलाये
बिछड़ों को जो खूब मिलाये
बिछड़ों को जो खूब मिलाये
दुर्गे...शेरों वालिये
बिछड़ों को जो खूब मिलाये
दुर्गा है मेरी माँ अम्बे है मेरी माँ

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
शेरो वालिये...ज्योता वालिये...
शेरों वालिये...
 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे