ईजी हर्बल concoction: प्रदूषण में फेफड़ों और मौसमी बीमारी से बचने के लिए एक्सपर्ट ने सुझाए ये उपाय । हिन्दी शायरी एच सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ईजी हर्बल concoction: प्रदूषण में फेफड़ों और मौसमी बीमारी से बचने के लिए एक्सपर्ट ने सुझाए ये उपाय । हिन्दी शायरी एच

 

ईजी हर्बल concoction:प्रदूषण में फेफड़ों और मौसमी बीमारी से बचने के लिए एक्सपर्ट ने सुझाए ये उपाय ।  हिन्दी शायरी एच
ईजी हर्बल concoction


ईजी हर्बल कंकोक्शन

मौसम में बदलाव आ रहा है। एक तरफ जहां कोरोना महामारी ने दुनिया को हलकान किया हुआ है, वहीं सर्दी के शुरू होते ही पॉल्यूशन दूसरी बड़ी परेशानी साबित हो रहा है। पॉल्यूशन इस कदर बढ़ रहा है कि सांस तक लेना दूभर हो रहा है। इस माहौल में सांस की तकलीफें बढ़ रही हैं, खासकर उन लोगों के लिए ये माहौल बेहद परेशान करने वाला है जिन्हें सांस की तकलीफ है। पोल्यूशन का सबसे ज्यादा असर हमारे फेफड़ों पर पड़ रहा है।


कोरोना और पॉल्यूशन की इस दोहरी मार में हमें अपने लंग की सेहत का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। ऐसे में इम्यून यानी शरीर के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता की मजबूती बेहद महत्वपूर्ण है। इम्यून सिस्टम के लिए कोरोना काल में कई तरह के नुस्खे आजमाए गए हैं लेकिन अगर मामला लंग का हो तो इसकी एक्स्ट्रा केयर करना बहुत जरूरी है।


View this post on Instagram

That delicious winter nip in the air is here. Unfortunately, pollution levels are on the rise as well. :-( #covi̇d19 has ensured that all of us wear proper N95 masks when stepping out and covering our eyes with proper eye gear. However something is bound to give in. Changes in season and the covid19 bring about serious risks of common colds, flu and lung damaging virals. Here's an antipollution drink that you can have everyday in the morning and evening to keep your immunity and lung health in check. Boil a cup of water with ginger, pepper, raw turmeric and tulsi. Strain and bring to proper drinking temperature before consuming. Ginger and tulsi are traditional antibacterial, anti viral, boosters and decongesters. Raw turmeric and black pepper ensure that Inflammation in the body is kept in check . Mixing black pepper with turmeric helps the healing potency of turmeric grow more powerful. #antipollution #lunghealer #immunitybooster #lunghealth #breathe #wearmasks #protectyoutlungs #IMA #nutritionbylovneet #lovneetbatra #lovneetbatrarecommends #delhipollution #aqilevels #indiapollution #airpollution #eatwell #

A post shared by Lovneet Batra (@lovneetb) on


मशहूर न्यूट्रिशनिस्ट लवनीत बत्रा ने लंग की एक्स्ट्रा केयर रखने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे इजाद किए हैं और इसे बनाने के तरीके को अपने इंस्टाग्राम पर पोस्ट किए है। आइए जानते हैं पॉल्यूशन के इस खतरनाक माहौल में लंग को तंदुरुस्त रखने के क्या टिप्स है।








इसके लिए एक इंच के बराबर अदरक लें और उसे छील दें।


इतनी ही मात्रा में साबुत हल्दी भी लें।


थोड़े काली मिर्च के दानें ।


तुलसी के चार पत्ते।


और 1.5 कप पानी।


इन सबको मिलाकर गर्म करें और फिर इसे पीने के स्तर तक ठंडा करें। इसके बाद इस ड्रिंक को सुबह शाम पीएं। यह लंग की सेहत के लिए सबसे उत्तम घरेलू नुस्खा है। लवनीत बत्रा ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर लिखा है, तुलसी और अदरक पारंपरिक रूप से एंटीबैक्टीरियल और एंटी वायरल है। इसके अलावा ये दोनों चीजें सर्दी के लिए भी जबर्दस्त घरेलू नुस्खा है। तुलसी और काली मिर्च शरीर के इंफलामेटरी को संतुलित रखती है। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे