Gaon Shayari Collection Hindi घर वापसी पर शायरी चुनिंदा शेर - हिन्दी शायरी एच

 

Gaon Shayari Collection Hindi  घर वापसी पर शायरी चुनिंदा शेर
gaon shayari in urdu,

Gaon shayari hindi, गांव शायरी उर्दू gaon shayari in urdu, गांव शायरी हिंदी ghar wapsi par shayari, घर वापसी पर शायरीgaon ki mitti shayari, गांव की मिट्टी शायरी khet shayari, गांव की शायरी gaon ki shayari, खेत शायरी,

 ख़ोल चेहरों पे चढ़ाने नहीं आते हमको
गांव के लोग हैं हम शहर में कम आते हैं
-बेदिल हैदरी

जो मेरे गांव के खेतों में भूख उगने लगी
मेरे किसानों ने शहरों में नौकरी कर ली
-आरिफ़ शफ़ीक़

 

gaon shayari hindi  गांव शायरी

 


नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांव
हुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव
-निदा फ़ाज़ली

मां ने अपने दर्द भरे खत में लिखा
सड़कें पक्की हैं अब तो गांव आया कर
- अज्ञात 

 

gaon shayari in urdu घर वापसी पर शायरी

 


सुना है उसने खरीद लिया है करोड़ों का घर शहर में
मगर आंगन दिखाने आज भी वो बच्चों को गांव लाता है
-अज्ञात

शहर की इस भीड़ में चल तो रहा हूं
ज़ेहन में पर गांव का नक़्शा रखा है
- ताहिर अज़ीम


खींच लाता है गांव में बड़े बूढ़ों का आशीर्वाद,
लस्सी, गुड़ के साथ बाजरे की रोटी का स्वाद
- डॉ सुलक्षणा अहलावत

gaon ki mitti shayari गांव की मिट्टी शायरी



शहरों में कहां मिलता है वो सुकून जो गांव में था,
जो मां की गोदी और नीम पीपल की छांव में था
-डॉ सुलक्षणा अहलावत


आप आएं तो कभी गांव की चौपालों में
मैं रहूं या न रहूं, भूख मेजबां होगी
-अदम गोंडवी

यूं खुद की लाश अपने कांधे पर उठाये हैं
ऐ शहर के वाशिंदों ! हम गाँव से आये हैं
-अदम गोंडवी
 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां