Jeest Shayari Collection हिंदी शायरी एच 'ज़ीस्त' पर कहे शायरों


Jeest Shayari Collection हिंदी शायरी एच  'ज़ीस्त' पर कहे शायरों
zeest shayari,



 

Zeest Shayari Collection हिंदी शायरी एच zeest sher,  zeest par sher, zeest par shayari, ज़ीस्त शेर, ज़ीस्त शायरी, ज़ीस्त पर शायरी, ज़ीस्त पर शेर, नेमत-ए-ज़ीस्त



पहले शराब ज़ीस्त थी अब ज़ीस्त है शराब
कोई पिला रहा है पिए जा रहा हूँ मैं
- जिगर मुरादाबादी


ज़ीस्त का इक गुनाह कर सके न हम
सांस के वास्ते भी मर सके न हम
- ख़ुमार कुरैशी

जब बढ़ गई उम्र घट गई ज़ीस्त
जो हद से ज़ियादा हो वो कम है
- मुनीर शिकोहाबादी


मौत से ज़ीस्त की तकमील नहीं हो सकती
रौशनी ख़ाक में तहलील नहीं हो सकती
- नजीब अहमद

इश्क़ से तबीअत ने ज़ीस्त का मज़ा पाया
दर्द की दवा पाई दर्द-ए-बे-दवा पाया
- मिर्ज़ा ग़ालिब


किताब-ए-ज़ीस्त का उनवान बन गए हो तुम
हमारे प्यार की देखो ये इंतिहा साहब
- इन्दिरा वर्मा

अंधा सफ़र है ज़ीस्त किसे छोड़ दे कहाँ
उलझा हुआ सा ख़्वाब है ताबीर क्या करें
- अकरम नक़्क़ाश


हमारी ज़ीस्त में ऐसे भी लम्हे आते हैं अक्सर
दरारों के तवस्सुत से हवा देती हैं दीवारें
- ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

मरहले ज़ीस्त के आसान हुए
शहर कुछ और भी वीरान हुए
- बाक़ी सिद्दीक़ी


ज़ीस्त में तारीकियाँ बढ़ती गईं
लम्हा लम्हा सिसकियाँ बढ़ती गईं
- गौहर सीमा

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां