वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे २०२१ शायरी कलेक्शन इन हिंदी World Environment Day Shayari in Hindi - Hindi Shayari h सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे २०२१ शायरी कलेक्शन इन हिंदी World Environment Day Shayari in Hindi - Hindi Shayari h


 World Environment Day 2021 Shayari Collection In Hindi
 
वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे २०२१ शायरी कलेक्शन इन हिंदी World Environment Day Shayari in Hindi
विश्व पर्यावरण दिवस शायरी इन हिंदी 2021

 

 
 
मैंने अपनी ख़ुश्क आंखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए
- राहत इंदौरी

अगर फ़ुर्सत मिले पानी की तहरीरों को पढ़ लेना
हर इक दरिया हज़ारों साल का अफ़्साना लिखता है
- बशीर बद्र
 
 
 
world environment day 2021 Poetry


गाँव से गुज़रेगा और मिट्टी के घर ले जाएगा
एक दिन दरिया सभी दीवार-ओ-दर ले जाएगा
- जमुना प्रसाद राही

गुल से लिपटी हुई तितली को गिरा कर देखो
आँधियों तुमने दरख़्तों को गिराया होगा
- कैफ़ भोपाली

साहिल पे लोग यूं ही खड़े देखते रहे
दरिया में हम जो उतरे तो दरिया उतर गया
-अज्ञात

मंज़िल तो सबकी एक ही है, रास्ते हैं जुदा,
कोई पतझड़ से गुजरा, कोई सहरा से गया।

किसी शजर के सगे नहीं हैं ये चहचहाते हुए परिंदे
तभी तलक ये करें बसेरा दरख़्त जब तक हरा भरा है
-नीरज 
 
 
विश्व पर्यावरण दिवस शायरी इन हिंदी
 

फलदार था तो गांव उसे पूजता रहा
सूखा तो क़त्ल हो गया वो बे-ज़बां दरख़्त
-परवीन कुमार अश्क़

किसी दरख़्त से सीखो सलीक़ा जीने का
जो धूप छांव से रिश्ता बनाए रहता है
- अतुल अजनबी
 
इस रास्ते में जब कोई साया न पाएगा
ये आख़िरी दरख़्त बहुत याद आएगा
-अज़हर इनायती

ये सुब्ह की सफ़ेदियां ये दोपहर की ज़र्दियां
अब आईने में देखता हूं मैं कहां चला गया
- नासिर काज़मी

शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए
- राहत इंदौरी
 
 
 
 
विश्व पर्यावरण दिवस शायरी
 
 
 

हवा के दोश पे उड़ती हुई ख़बर तो सुनो
हवा की बात बहुत दूर जाने वाली है
- हसन अख्तर जलील

हवा दरख़्तों से कहती है दुख के लहजे में
अभी मुझे कई सहराओं से गुज़रना है
- असद बदायुनी

नदी थी कश्तियाँ थीं चाँदनी थी झरना था
गुज़र गया जो ज़माना कहाँ गुज़रना था
- शहराम सर्मदी

है दरख़्तों की शायरी जंगल
धूप-छाया की डायरी जंगल
- वर्षा सिंह
 
 
world environment day shayari


यादों का शहर देखो बिलकुल वीरान है
दूर-दूर न जंगल है न कोई मकान है  

दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था
-क़तील शिफ़ाई

फरमान से पेड़ पे कभी फल नहीं लगते
तलवार से मौसम कोई बदला नहीं जाता
-मुजफ्फर वारसी
 
 
 
 
 
विश्व पर्यावरण दिवस शायरी | World Environment Day Shayari

मावन जीवन है खतरे में,
इसमें है हम सबकी समझदारी,
पेड़ लगायेंगे और पेड़ बचायेंगे
पर्यावरण सुरक्षा की लो जिम्मेदारी.

पर्यावरण प्रदूषण जो इतना फैलाओगे,
तो प्राकृतिक आपदाओं से कैसे बच पाओगे.
World Environment Day Status in Hindi

पानी बिकने लगा है, हवा भी बिकने लगा है,
पर्यावरण प्रदूषण के कारण घरों में बीमारी बढ़ने लगा है.
जागरूक बने पेड़ लगायें, प्रदूषण को दूर भगाएँ
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

कुछ भी नहीं होगा विश्व पर्यावरण दिवस मानने से,
पर्यावरण शुद्ध और स्वच्छ होगा पेड़ लगाने से.
विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएँ
जागरूक बने और जागरूकता फैलायें

विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी शायरी | World Environment Day Shayari in hindi

पड़े-पौधों की हरियाली,
इसमें छुपी है हमारी ख़ुशहाली.
हैप्पी वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे

पानी की कीमत हम तब तक नहीं समझ पाए,
जब तक कि वह बोतलों में बिकने न लगा,
ऑक्सीजन की कीमत तब तक नहीं समझ पाए,
जब तक कि इसका लेवल शहरों में कम हो गया
और ये भी डब्बों में बिकने लगा…

स्वच्छ और शुद्ध पर्यावरण की कीमत को समझे,
अन्यथा इसके भयंकर परिणाम हो सकते हैं.
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ
 

शायरी ऑन एनवायरनमेंट इन हिंदी | Shayari on Environment in Hindi

हरी दुनिया, पेड़ पौधों की दुनिया,
शुद्ध और स्वच्छ हवा-जल की दुनिया,
फूल जैसे खिले चेहरे की दुनिया,
क्या आप चाहते है यहीं दुनिया.
पेड़ लगायें – पर्यावरण को स्वच्छ बनायें
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

विश्व पर्यावरण दिवस पर आप ये कसम जरूर खाएं,
अपने पूरे जीवन में कम से कम 10 पेड़ जरूर लगाएं.
विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं

World Environment Day Shayari Image in Hindi

विश्व पर्यावरण दिवस जरूर मनाएं,
अपने आस-पास कोई पेड़ लगाएं,
पॉलिथीन का प्रयोग न करे और
बाजार घर से थैला लेकर जाएँ,
Happy World Environment Day
 
 
Vishwa Paryavaran Diwas Shayari

विज्ञान का कद तुम कभी इतना नही बढ़ा पाओगे,
कि पर्यावरण प्रदूषण करके, प्राकृतिक आपदाओं से बच जाओगे.
विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं

पेड़ काटकर पक्षियों का तुम घर उजाड़ते हो,
पर्यावरण प्रदूषण फैलाते हो और उन्हें पाने के लिए भी तरसाते हो,
कुछ तो अब शर्म करो,
पेड़ लगाकर कुछ तो अच्छे कर्म करो.
 

Shayari on World Paryavaran Day

पेड़ो को कटने से बचाने में सफल हो जाओगे,
तभी पर्यावरण को स्वच्छ बना पाओगे,
जब तुम पेड़ लगाओगे और लोग को जागरूक बनाओगे,
तभी पर्यावरण की सुरक्षा कर पाओगे.

पर्यावरण जागरूकता का संदेश फैलाते चलों,
लोगो को समझाते चलों और पेड़ लगाते चलों,
लोगों को इसका महत्व बताते चलों,
हैप्पी वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे

World Environment Day Hindi Shayari

अपनी दुनिया को स्वच्छ और हरा बनाएं,
पेड़ बचाएं, पर्यावरण को बचायें.
हैप्पी वर्ल्ड पर्यावरण दिवस 2019

पेड़ लगाओ पृथ्वी बचाओ,
पेड़ लगाओ देश बचाओ,
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ,
पेड़ लगाओ खुद को बचाओ.
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

पेड़-पौधों को जो इस तरह करोगे नष्ट,
ऑक्सीजन कम मिलेगा और सांस लेने में होगा कष्ट.
 

वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे स्टेटस इन हिंदी | World Environment Day Status in Hindi
 

पेड़ लगाना है वरदान,
एक पेड़ दस पुत्र समान.

World Environment Day Quotes in Hindi

पेड़ फल देते है, छाँव देते है,
ऑक्सीजन देते है, लकड़ी देते है,
कितना कुछ देते है फिर भी
इंसान इन्हें क्यों काट देता है?

हम कई खूबसूरत जगहों को बनाने में,
कई करोड़ खर्च कर देते है,
पर पर्यावरण को शुद्ध बनाने के लिए
कितना खर्च करते हैं?

लकड़ी के सोफे और बेड से
ज्यादा जरूरी है हरे वृक्ष.

मंगल पर पानी ढूंढ रहे है,
और धरती के पानी को प्रदूषित कर रहे है.

जीवन में मंगल नहीं है,
फिर भी मंगल पर जीवन ढूंढ रहे है.




World Environment Day SMS Message in Hindi

हवा में ऑक्सीजन हो रही है कम,
आओ पेड़ लगायें मिलकर हम.

पर्यावरण की देखभाल सबको करनी चाहिए,
क्योंकि यह पर्यावरण भी हमको बहुत कुछ देता है.
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

पेड़ लगाओगे, पर्यावरण बचाओगे,
अपने बच्चों का भविष्य सवारोंगे.

पर्यावरण दिवस पर शायरी | Paryavaran Diwas Par Shayari

Shayari on Environment in Urdu, Shayari on Environment in English, Environment Pe Shayari, Lines on Environment in Hindi, Paryavaran Par Suvichar, Paryavaran Diwas Par Shayari, Paryavaran Diwas Ke Upar Slogan.
 

माँ की ममता और पेड़ का दान,
दोनों करते है जन का कल्याण.

शुद्ध-स्वच्छ पर्यावरण, पानी और हवा,
है जीवन जीने की अनमोल दवा.

आने वाली पीढ़ी है प्यारी,
तो पर्यावरण बचाना है हम सबकी जिम्मेदारी.

हे मानव !!! मैंने तुमको सबकुछ दिया,
पर तुमने मुझे ही जड़ से काट दिया.

पेड़-पौधों से ही है जीवन में हरियाली,
इनको काटोगे तो होगी बदहाली.
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब