How to Connect Two Bluetooth Headphones and Speakers to One Phone In Hindi | ब्लूटूथ से स्पीकर और हेडफ़ोन ऐसे कनेक्ट करें सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

How to Connect Two Bluetooth Headphones and Speakers to One Phone In Hindi | ब्लूटूथ से स्पीकर और हेडफ़ोन ऐसे कनेक्ट करें

  

How to Connect Two Bluetooth Headphones and Speakers to One Phone  1 फोन पर 1 से अधिक ब्लूटूथ स्पीकर और हेडफ़ोन ऐसे कनेक्ट करें
Connect Two Bluetooth Headphones and Speakers

How to Connect multiple audio device by  Bluetooth Headphones and Speakers to One Phone  1 फोन पर 1 से अधिक ब्लूटूथ स्पीकर और हेडफ़ोन ऐसे कनेक्ट करें
अधिकांश फोन आज ड्यूल ऑडियो (एंड्रॉयड पर) और ऑडियो शेयरिंग (आईफोन पर) की फीचर देते हैं।




एक ही Android फ़ोन या iPhone से हेडफ़ोन या ब्लूटूथ स्पीकर के एक से अधिक सेट कैसे कनेक्ट करना चाहते हैं? हम आपको इसका तरीका बता रहे हैं। ब्लूटूथ डिवाइस अब एक स्टैंडर्ड की तरह हो गई हैं, मगर जब आप सराउंड साउंड इफेक्ट प्राप्त करना चाहते हैं या अपने म्यूजिक को उसी स्थान पर किसी और के साथ साझा करना चाहते हैं, तो वायर्ड सिस्टम के साथ आपको बस एक सस्ता ऑडियो स्प्लिटर खरीदना था। हालांकि यह पता चला है कि कुछ तरीके हैं जिनसे आप ब्लूटूथ कनेक्शन के साथ कुछ ऐसा ही कर सकते हैं।

एक से अधिक ब्लूटूथ स्पीकर या हेडफ़ोन कनेक्ट करना काफी हद तक आपके पास मौजूद डिवाइस और आपके फ़ोन पर सपोर्टेड मूल ब्लूटूथ वर्जन पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए ब्लूटूथ v4.2 30 मीटर तक के केवल एक-पर-एक (one-on-one) डिवाइस कनेक्शन का समर्थन करता है। दूसरी ओर, ब्लूटूथ v5, 120 मीटर तक कनेक्शन का विस्तार करता है और आपको एक साथ दो उपकरणों को जोड़ने की फीचर देता है। Bose के कुछ स्पीकर्स में अपने स्वयं के ऑडियो ऐप हैं जो दो स्पीकरों को एक साथ जोड़ने की कार्यक्षमता प्रदान करते हैं। हालांकि सभी कंपनियां यह सुविधा नहीं देती हैं।
 
How to connect two Bluetooth headphones and speakers to one phone
अधिकांश फोन आज ड्यूल ऑडियो (एंड्रॉयड पर) और ऑडियो शेयरिंग (आईफोन पर) की फीचर देते हैं यानि एक ही समय में दो डिवाइसेज में से ऑडियो चलाने की क्षमता। iPhone 8 मॉडल और इसके बाद के वर्जन ऑडियो साझा करने की सुविधा को सपोर्ट करते हैं, इसलिए जब तक आपके पास बहुत पुराना हैंडसेट नहीं है, संभावना है कि आपका फ़ोन मूल रूप से इसे आपके लिए पेश करे। तब पहला कदम यह होगा कि जब आप पहली बार अपने हेडफ़ोन और स्पीकर को अपने ब्लूटूथ से कनेक्ट करें तो उन्हें एक-एक करके कनेक्ट करने का प्रयास करें।

इसी तरह, यदि आपके पास Samsung Galaxy S8 सीरीज़ या बाद का मॉडल है, तो कंपनी मूल रूप से एक डुअल ऑडियो विकल्प प्रदान करती है जो यूजर को कई स्पीकर और हेडफ़ोन को पेयर करने की अनुमति देती है। यह ब्लूटूथ सेटिंग्स में पाया जा सकता है। अन्य यूजर इस तरीके को आजमा सकते हैं, बशर्ते उनके पास उचित डिवाइस हों:

एंड्रॉयड यूजर्स को ब्लूटूथ सेटिंग्स में जाना होगा और एक-एक करके ब्लूटूथ हेडफोन या स्पीकर को पेयर करना होगा।


एक बार कनेक्ट होने के बाद, दाईं ओर तीन-बिंदु वाले आइकन पर टैप करें और Advanced Settings पर क्लिक करें। यदि पहले से टर्न ऑन नहीं है तो ‘dual audio' विकल्प पर टॉगल करें। यह यूजर को एक साथ दो डिवाइसेज से कनेक्ट करने में सक्षम बनाता है।



एंड्रॉयड 10 और इसके बाद के वर्जन पर चलने वाले यूजर्स के लिए वे Quick Panel में Media पर क्लिक करके और ऑडियो आउटपुट के लिए दोनों पेयर्ड डिवाइसेज को सिलेक्ट करके अपने कनेक्टेड ब्लूटूथ डिवाइस तक पहुंच सकते हैं।
iPhone यूजर्स को कंट्रोल सेंटर जाना होगा। Airplay आइकन पर टैप करें और एक साथ ऑडियो आउटपुट करने के लिए पेयर्ड वायरलेस हेडफ़ोन या स्पीकर का चयन करें। हेडफ़ोन या स्पीकर में से किसी एक को अचयनित करने से उस विशेष डिवाइस पर ऑडियो साझा करना बंद हो जाएगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे