Pm Kisan Status Check 2021In Hindi 8th Installment Date 'पीएम किसान स्टेटस' चेक 2021 8वीं किस्त की तारीख - हिंदी शायरी एच सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Pm Kisan Status Check 2021In Hindi 8th Installment Date 'पीएम किसान स्टेटस' चेक 2021 8वीं किस्त की तारीख - हिंदी शायरी एच

Pm Kisan Status Check 2021 8th Installment Date 'पीएम किसान स्टेटस' चेक 2021 8वीं किस्त की तारीख - हिंदी शायरी एच
पीएम किसान की आखिरी किस्त कब आएगी


 PM KISAN: किसान सम्मान निधि के तहत 2000 रुपये की किस्त नहीं मिली? जानें क्या करें PM Kisan Samman Nidhi 9th Installment: अगर आपका नाम प्रधानमंत्री किस... PM Kisan की 8वीं किस्‍त (PM Kisan 8th installment) की तारीख तय हो गई है। एग्रीकल्‍चर मिनिस्‍ट्री की मानें PM Narendra Modi 14 मई को सुबह 11 बजे किसानों से बातचीत करेंगे। इसके बाद PM Kisan Yojana की अगली किस्‍त जारी करेंगे। 




PM Kisan Samman Nidhi 9th Installment:पीएम मोदी ने आज (सोमवार) यानी 09 अगस्त को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM-KISAN) योजना की 9वीं किस्त जारी कर दी है. इसके तहत देश भर के 9.75 करोड़ से अधिक किसानों के खातों में 19,500 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए गए हैं.




अगर आपका नाम भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM Kisan Samman Nidhi) योजना का लाभ लेने के लिए रजिस्टर्ड है और अकाउंट में सम्मान निधि की राशि नहीं पहुंची है तो आप इसका स्टेटस चेक कर सकते हैं. इसके अलावा रजिस्ट्रेशन अपडेट होने के बावजूद किस्त खाते में नहीं पहुंचती है तो नीचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से भी जानकारी हासिल कर सकते हैं



इन कारणों से रुक सकती है किस्त 

पीएम किसान सम्मान निधि की किस्त कई कारणों से रुक सकती है. अगर योजना में रजिस्ट्रेशन के वक्त नाम या बैंक डिटेल्स में गलती हो गई हो तो आपकी किस्त रुक सकती है. इसके अलावा रजिस्ट्रेशन के लिए इस्तेमाल किए गए संबंधित दस्तावेज, जैसे आधार कार्ड और रजिस्ट्रेशन के नाम में अंतर पाए जाने पर भी किस्त की राशि रुक सकती है.


 PM kisan Beneficiary Status: चेक करें स्टेटस 

  प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM-Kisan) की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं. 

  वेबसाइट के होमपेज पर राइट साइड में दिए 'Farmers Corner' दिखाई देगा. 

 Farmers Corner सेक्शन में Beneficiary List के विकल्प पर क्लिक करना होगा. 

  नया पेज खुलने पर आपको आधार नंबर, बैंक खाता संख्या या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनना होगा. 

  विकल्प के अनुसार डिटेल्स भरने के बाद 'Get Data' पर क्लिक करते ही आपको सभी किस्तों की जानकारी मिल जाएगी.



                                                              Pm Kisan Status Video




How to Check PM Kisan Beneficiary Status हेल्पलाइन नंबर से भी मिल सकती है जानकारी 

पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) से संबंधित जानकारी हेल्पलाइन (PM-Kisan Helpline No) से भी हासिल कर सकते हैं. इसके लिए 155261 या 1800115526 (Toll Free) या फिर 011-23381092 डायल करना होगा. वहीं, ई-मेल आईडी (pmkisan-ict@gov.in) पर अपनी शिकायत भी मेल कर सकते हैं. 


 लाभ लेने के लिए pmkisan.gov.in पर करें रजिस्ट्रेशन 

पीएम किसान स्कीम का लाभ लेने के लिए किसानों का रजिस्ट्रेशन होना जरूरी है. इस योजना के तहत ऑनलाइन व ऑफलाइन मोड में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. किसान चाहें तो कॉमन सर्विस सेंटर जाकर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं, नहीं तो आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

  

  

  

  

  PM Kisan Samman Nidhi New registration  सबसे पहले pmkisan.gov.in पर जाकर 'Farmers Corner' पर जाएं. 

 New Farmer Registration’ विकल्प पर क्लिक करें. 

 इसके बाद आधार नंबर डालना होगा. साथ ही कैप्चा कोड डालकर राज्य को चुनकर आगे के प्रोसेस पर क्लिक करें. 

  खेत से जुड़ी डिटेल एवं बैंक अकाउंट समेत मांगी गई जानकारी भरें. 

  इसके बाद आप फॉर्म सबमिट कर सकते हैं. 


 बता दें कि PM Kisan Samman Nidhi Yojana के तहत हर वर्ष किसानों को 2000 रुपये की 3 किस्तें ट्रांसफर की जाती हैं. ऐसे 6000 रुपये की राशि सीधे किसानों के खाते में पहुंचती है. केंद्र सरकार के मुताबिक इस योजना के अंतर्गत, अब तक 1.38 लाख करोड़ रुपये से अधिक की सम्मान राशि किसान परिवारों के बैंक खातों में ट्रांसफर की जा चुकी है. 




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे