भोर का तारा ऑनलाइन हिंदी कहानी Bhor Ka Tara Hindi New Kahaniayan | Hindi Shayari H सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भोर का तारा ऑनलाइन हिंदी कहानी Bhor Ka Tara Hindi New Kahaniayan | Hindi Shayari H

 

                हिंदी कहानी ऑनलाइन  भोर का तारा

 



 
भोर का तारा ऑनलाइन हिंदी कहानी Bhor Ka Tara Hindi New Kahaniayan
भोर का तारा Latest Kahani





लेखिका-सवि शर्मा

अरे, 7 बज गए. हड़बड़ा कर उठी. पता ही न चला, कब नींद में अलार्म बंद कर दिया. कुछ भी समय पर नहीं हो पा रहा. 7 बजे तो आंख खुली है. अभी मनु को नाश्ता, खाना, तैयार करना है और 9 बजे निकलना है. कैसे करेगी, खुद को भी तैयार होना है.

मां के देहावसान के बाद खूबसूरत से खिलते जीवन में जैसे अचानक कोई तूफ़ान आ गया हो.

यह आंख भी जाने क्यों नहीं खुलती. आधे समय तो नींद में ही अलार्म बंद कर देती है. रोज़ ही औफ़िस को देर हो जाती है. जब तक सासुमां ज़िंदा थीं तो कभी ऐसा हुआ ही नहीं कि उसे औफ़िस की देर हुई हो. हमेशा प्रोजैक्ट समयसीमा से पहले ही पूरा कर देती थी. औफिस के विवाहित साथी उस से कई बार पूछते थे, कैसे कर पाती हो पूरा, छोटे बच्चे और गृहस्थी के साथ.


ये भी पढ़ें- मन का रिश्ता


उसे भी बोध कहां था कि इन सब उपलब्धियों के पीछे मां का परोक्षरूप में सहयोग है. बस, सब की बात सुन गर्व से मुसकरा देती थी. जल्दी से उठी. मनु को दूध दिया, “मेरा राजा बेटा, अपनेआप दूध पिएगा.” “मम्मा, इस में तो बादाम भी नहीं हैं, दादी तो रोज़ बादाम देती थीं.”

“कोई बात नहीं, आज पी लो, कल ज़रूर बना दूंगी.” रुद्री को मन में बुरा लगा, रोज़ सोचती है मनु को कल से दूध में बादाम पीस कर देगी पर वह कल आ ही नहीं पाता. जल्दी से अपने कपड़े ले नहाने घुस गई वह.“अरे, यह क्या किया मनु बेटा, सारा दूध गिरा दिया?” वह नहा कर निकली तो देखा सारा दूध फ़र्श पर बिखरा था.

”मां, गिलास हाथ से फिसल गया.”“कोई बात नहीं. जा, फटाफट नहा कर आ जा, तौलिया लपेट कर आना. मैं कमरे में ही कपड़े पहना दूंगी.” “नहीं मां, आप ही नहलाओ.” “बेटा, इतवार को नहलाऊंगी, आज समय नहीं है.” “दादी, आप क्यों चली गईं?” और मनु रोने लगा, “मां के पास तो मेरे लिए समय ही नहीं है.”


5 साल के अबोध बच्चे को क्या पता कि दादी वहां गईं जहां से कोई लौट कर नहीं आता. जैसेतैसे हवा की रफ़्तार से रुद्री ने नाश्ता, लंच तैयार किया. मनु को बिना नहलाए ही स्कूल के लिए तैयार कर दिया. अब तो अकसर ही यही होता है. कभी अपना नाश्ता छूटता है, कभी मनु का नहाना. एक गहन पीड़ा से आंखों में नमी तैर गई. रुद्री का दिल रोने को हो गया, उसे याद आने लगा.




 

सुबहसवेरे ही नल से पानी गिरने की आवाज़ कर्णभेदी सी लगती. ऐसा लगता जैसे स्वप्नों की झील में किसी ने बड़ा सा पत्थर फेंक दिया हो. रोज़ का यही क्रम. सुबह की नींद टूटने से कितना खीझती थी. जाने क्यों इस समय की नींद भी इतनी प्यारी लगती है, सौ सुख भी बलिहारी है. तब तो ऐसा महसूस होता था कि अभी सो ले, बाद में जो होगा देखा जाएगा. और सास भी थोड़ी देर बाद नहीं नहा सकतीं. सुबह ही नहाना जरूरी है.

शांति भंग हो गई थी रुद्री की, आंख खुली. अरे, अभी तो साढ़े चार ही बजे हैं. तकिया कान के ऊपर रख करवट बदल लेट गई. मन ही मन कुसमुसाई, ‘क्या दो पल की नींद भी सुकून की नहीं मिल सकती.’ अभी गहरी झपकी ही आई थी कि 5 साल के बेटे मनु के रोने की आवाज़ आई.

उसे थपकासुला, फिर नींद के इंतज़ार में आंखें मूंदी. पर नींद तो जैसे कह रही हो, जा, मैं नहीं आती. और अंगूठा दिखा इतराती जाने किस ख़्वाब के पीछे जा छिप गई.

एक वह समय था जब चाहे जितना भी सो लो, न शादी न घर का झंझट. और अब कभी मनु उठा देता, कभी सुबह ही सास की खटरपटर. और नींद मुझे चिढ़ा भाग जाती. ‘अरे रुद्री, क्या बात है बेटा, तुम थकी सी लग रही हो?’ एक दिन सास ने उस का उनींदी चेहरा देखा तो पूछा.


 



यह सुनते ही रुद्री के मुंह से अचानक निकल गया, ‘मां, इतनी सुबह आप उठती हो तो मेरी भी नींद खुल जाती है. रात में भी औफ़िस का काम करते देर हो जाती है. जल्दी नहीं सो पाती. नींद पूरी न होने से दिनभर थकान रहती है.’ अरे, मैं ने तो ध्यान ही नहीं दिया. बेचारी रुद्री सारे दिन काम करती है और फिर मेरे सुबह के क्रियाकलापों से उस की नींद पूरी नहीं हो पाती. उस की सास ने मन ही मन सोचा.

मां ने आगे पूरी सतर्कता से उस की नींद का ध्यान रखा. सासुमां ने अपने उठने का समय 4 बजे के बजाय 5 बजे कर दिया था. पानी भी रात को ही बालटियों में भर लेती थीं. रुद्री अब आराम से नींद पूरी कर उठती. कितनी संवेदनशील थीं मां, हर बात को कितनी जल्दी समझ जाती थीं. और एक मैं थी उन के इतने लाड़प्यार को बोझ समझती रही, जो जीवन की सब से बड़ी उपलब्धि थी.

वैसे, जब रुद्री फ़्री होती, सास के साथ घूमने जाती या उन की मनपसंद की पिक्चर देखती. इतना सब सोचने में ही 6 बज गए. नींद न आई. और त्यागना पड़ा बिस्तर का मोह. खुद को भी दफ़्तर के लिए तैयार होना है पति के साथ निकलना जो पड़ता है. दिन भी कैसे भागते हैं. कब सोमवार, फिर जब इतवार.

एक तसवीर यादों की फिर उभर आई. ‘अम्मा, आप क्या कर रही हो?’ मनु ने दादी को रसोई में काम करते देखा तो बोला. ‘अपने छोटे से मनु को खूब ताकतवर बनाने के लिए बादाम वाला दूध बना रही हूं.’ ‘मम्मा कहां हैं?’

‘मम्मा नहाने गई हैं.’ ‘आजा, जल्दी आजा मेरे पास, मैं गिनती गिनती हूं और आंख बंद करती हूं. जल्दी से यह दूध ख़त्म कर लो.’ ‘नहीं, मुझे नहीं पीना.’ ‘अच्छा, आ मैं तुझे चंदा मामा वाला गाना सुनाऊंगी.’ ‘सच, दादी,’ इतना कह कर मनु दादी की गोद में आ गया. रुद्री नहा कर निकली. मनु को सास की गोदी में दूध पीते देखा तो मन ही मन उन के प्यार को देख मन श्रद्धा से झुक गया. इस उम्र में भी अपने आशीर्वाद के हाथ से सम्बल देती रहती हैं.


कितना समर्पण था उन में. कितनी बार मनु को सास के पास छोड़ पार्टियों/शादियों में गई है वह. आज सोच सास के साथ चल रही थी रुद्री की. कितना अजीब है जीवन भी, जब कोई सामने होता है, हम उस की सार्थकता नहीं समझते. बाद में समझ आती है.

सास थी तो आराम से नाश्ता, लंच बना पैक करती, पति को भी देती. सास का मनपसंद नाश्ता बना कर रख देती. मनु की तो चिंता ही नहीं रहती थी. उस के लिए उस की दादी ही गरम बनाती हैं. ‘बाएं मां बाएं मनु.’ ‘अरे रुक जा रुद्री, ले ये फल रख लो, तुम दोनों खा लेना.’ ‘मां, आप भी न, हर बात पर ऐसे करती हो जैसे अभी भी हम छोटे बच्चे ही हैं,’ एक चिड़चिड़ाहट का भाव चेहरे पर तैर गया.

सोचने लगी, क्यों नहीं अब भी ये फ़्री छोड़तीं. अब हम कोई छोटे बच्चे तो हैं नहीं. पर दूसरे ही पल महसूस हुआ की वह खुद भी तो मां है, उसे अपने छोटे बच्चे के खानेपीने की चिंता रहती है. सास भी तो मां है. जल्दी से सास के हाथ से फल ले अपना व पति का लंचबौक्स संभाले दोनों को हाथ हिलाते रुद्री व उस का पति औफिस निकल गए.

रुद्री को मां के रहते मनु की कोई चिंता ही नहीं होती थी. सास की गोद में बच्चे को छोड़ कितनी निश्चिंत हो जाती है. क्या अगर मां न होतीं तो इतनी बेफ़िक्री से औफ़िस जा पाती? और प्रेम उन का केवल पोते के लिए ही नहीं, वे मेरी भी चिंता करतीं. औफ़िस से आ कर कुछ खाया या नहीं, सासुमां ही तो पूछती थीं. फ़ास्ट फ़ूड की जगह कितनी बार पौष्टिक खाना खुद ही बना देती थीं. रुद्री को आज उन का प्यारदुलार सब याद आ रहा है जो उस समय बोझ लगता था, बातें पुराने जमाने की लगती थीं.


अब कितनी बार कुछ और न बना पाने के कारण फ़ास्ट फ़ूड खा कर उस का पेट ख़राब हो जाता है. मां की आंखों में वात्सल्य का लहलहाता सागर याद आ रहा है. यादें लड़ियां सी पिरोती एक के बाद एक सामने आ रही हैं. ‘रुद्री, मनु ने उलटी कर दी, पेट में बहुत दर्द भी है,’ सास का फ़ोन था. ‘मां, फिर आप ने ज़्यादा खिलाया होगा. कितनी बार मना किया, थोड़ा खिलाया करो, पर आप मानती ही नहीं,’ झुंझला पड़ी रुद्री. ग़ुस्सा आने लगा मां पर. और फ़ोन काट दिया. फिर उस ने पति को फ़ोन कर मनु को दिखाने के लिए बोल दिया.

‘मां, अब मनु कैसा है?’ मनु के पापा ने घर चलने के पहले फ़ोन किया. ‘अब तो ठीक है.’ ‘कोई बात नहीं मां. आप परेशान न हों. अगर कोई दिक़्क़त हो, आप बता देना, हम आ जाएंगे,’ कह कर मनु के पापा निश्चिंत हो गए. ‘आप चले गए क्या मनु को दिखाने?’ रुद्री ने पति को फ़ोन किया, उस का औफ़िस दूर था. ‘नहीं, अब मनु ठीक है. मां से बात हो गई है.’‘ये मां भी न, हर छोटी बात पर परेशान हो जाती हैं, हमें भी करती हैं.’ ‘अरे रुद्री, ये बड़े लोग बहुत प्यार करते हैं, इसीलिए चिंता कुछ ज़्यादा ही करते हैं.’

‘ह्म्म्म्म्म्म…’ लापरवाही से कह रुद्री ने फ़ोन रख दिया. ‘आज तुम लोग औफ़िस से लेट हो गए, सब ठीक तो है न?’ घर में औफ़िस से घुसते ही सास ने कहा. आज रुद्री और उस का पति दोनों कुछ ज़्यादा ही लेट हो गए थे. ‘हां मां, हज़ार काम होते हैं, आप को हर बात कैसे बताएं,’ रुद्री ने रुखाई से जवाब दिया. ‘बेटा, और कोई बात नहीं, चिंता हो जाती है. तुम लोग, बस, फ़ोन कर दिया करो.’ ‘आप चिंता न किया करें, हम अपना ध्यान रख सकते हैं.’


लेकिन बाद में रुद्री ध्यान रखने लगी. वह सोचने लगी, बड़ों की चिंता करना स्वाभाविक है.कुछ समय बाद सास और रुद्री एकदूसरे की भावनाओं को समझने लगीं. एक खूबसूरत रिश्ता बन गया रुद्री और सास में. कितनी परिपक्व सोच थी मां की. वास्तव में सासुमां, हां, मां ही कहना ठीक होगा. इतना प्यारदुलार जो वे देती रहीं और तब जब वे जीवित थीं, मैं जीवन की आपाधापी में महसूस ही नहीं कर पाई. वटवृक्ष सी पूरी गृहस्थी संभाले थीं वे.

फ़िस में काम बहुत ज़्यादा था, थक गई थी. सास होतीं तो तबीयत पूछतीं, गरम दूध देतीं. हर पल ख़याल रखना, कैसे सुकून से घऔर की देखभाल, मनु का ध्यान सब रखती थीं. मनु भी खूब ख़ुश रहता था, कभी औफ़िस को भी लेट नहीं हुई. उन के रहते कितने प्रमोशन मिले. मां तो जैसे भोर का तारा थीं, जिन का प्रकाश घर में हमेशा दैदीप्यमान रहता था. घर प्यारदुलार से रोशन रहता था. आज आप की बहुत याद आ रही है मां, तब मैं आप के कुछ कहने पर चिढ़ जाती थी.

न जाने कब सास को याद करते रुद्री की आंख लग गई. सुबह आंख खुली. खिड़की से बाहर निगाह गई. देखा, एक भोर का तारा टिमटिमा कर जैसे कुछ कह रहा हो, बिलकुल उस की सास की तरह. ऐसे ही सुबह उठ जाती थीं. आज आप नहीं हो, तो आप का प्यारदुलार समझ आता है. आप तो आशीर्वाद हो मां… “अरे, तुम रो रही हो,” तभी पति की नींद भी अचानक खुल गई.

“देखो रुद्र, वह आसमान में भोर का तारा. वह हमारी मां ही हैं, कहते हैं अच्छे इंसान दुनिया से जा कर आसमान में तारे बन जाते हैं. देखो, कैसे झांक कर हमें आश्वस्त कर रही हैं मानो कह रही हों वे हमारे साथ ही हैं.” “आज मां बहुत याद आ रही हैं. उन के रहते जीवन कितना आसान था. अपनी छत्रछाया से सबकुछ संभाले हुए थीं. किंतु आज कितना मुश्किल हो रहा है,” रुद्री ने ऊपर आसमान में तारे को नम आंखों से देखा. उसे लगा, मां मुसकरा कर आशीर्वाद दे रही हैं.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे