Five Day Dated Calendar In Hindi On Diwali 2021 : जानिए धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भाईदूज की तारीखें और शुभ मुहूर्त सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Five Day Dated Calendar In Hindi On Diwali 2021 : जानिए धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भाईदूज की तारीखें और शुभ मुहूर्त

 

Five Day Date Calendar In Hindi On Diwali 2021 : जानिए धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भाईदूज की तारीखें और शुभ मुहूर्त और शायरी

 

 

 


Five Day Dated Calendar In Hindi On Diwali 2021: कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि पर दीपावली का त्योहार मनाया जाता है। हिंदू धर्म में दिवाली का त्योहार बहुत उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक अमावस्या तिथि पर भगवान श्री राम 14 वर्षों का वनवास काटकर और लंका पर विजय करने के बाद अयोध्या लौटे थे। जिसकी खुशी में सारे अयोध्यावासी इस दिन पूरे नगर को अपने राजा प्रभु राम के स्वागत में दीप जलाकर उत्सव मनाया था। इसी कारण से तब से ये परंपरा चली आ रही है। दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजा का विशेष महत्व भी होता है। इस दिन शाम और रात के समय शुभ मुहूर्त में मां लक्ष्मी, भगवान गणेश और माता सरस्वती की पूजा की जाती है। धनतेरस दिवाली का पहला दिन माना जाता है। इसके बाद नरक चतुर्दशी फिर दिवाली, गोवर्धन पूजा और आखिरी में भैयादूज का त्योहार मनाया जाता है। आइए जानते हैं पांच दिनों तक चलने वाले दिवाली महापर्व की प्रमुख तिथियां और शुभ मुहूर्त...
शुभ धनतेरस 2021

 
Dhanteras 2021 Date Shubh Muhurat
Dhanteras 2021 Date Shubh Muhurat


शुभ धनतेरस 2021 -

धनतेरस 2021: Dhanteras 2021 Date Shubh Muhurat And Dhanteras Auspicious Time For Shopping
हिंदू पंचांग के अनुसार धनतेरस का त्योहार हर वर्ष कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि पर मनाया जाता है। धनतेरस जिसे धन त्रयोदशी और धन्वंतरि जयंती भी कहते हैं पांच दिवसीय दीपावली का पहला दिन होता है। धनतेरस के दिन से दिवाली का त्योहार प्रारंभ हो जाता है। मान्यता है इस तिथि पर आयुर्वेद के जनक भगवान धन्वंतरि समुद्र मंथन से अमृत कलश लेकर प्रगट हो हुए थे। इसी कारण से हर वर्ष धनतेरस पर बर्तन खरीदने की परंपरा निभाई जाती है। कहा जाता है जो भी व्यक्ति धनतेरस के दिन सोने-चांदी, बर्तन, जमीन-जायजाद की शुभ खरीदारी करता है उसमें तेरह गुना की बढ़ोत्तरी होती है। इस बार 02 नवंबर,मंगलवार को धनतेरस का त्योहार हैं।

धनतेरस 2021 तिथि और शुभ मुहूर्त
धनतेरस 2021- 02 नवंबर, मंगलवार
धनतेरस मुहूर्त - शाम 06 बजकर 18 मिनट से लेकर रात के 08 बजकर 11 मिनट तक    
धनतेरस पर शुभ खरीदारी की अवधि :1 घंटे 52 मिनट तक
प्रदोष काल :17:35 मिनट से 20:11 मिनट तक
वृषभ काल :18:18 मिनट से 20:14: मिनट तक
नरक चतुर्दशी 2021
 
 
Dhanteras Shayari pic 2021
Dhanteras Shayari pic 2021

 
 
Dhanteras Shayari SMS Hindi
लक्ष्मी देवी का नूर आप पर बरसे
हर कोई आपसे मिलने को तरसे
भगवान आपको दे इतने पैसे
कि आप चिल्लर पाने को तरसें



धनतेरस शायरी इमेज Dhanteras Shayari Pic



Dhanteras Badhai Shayari
सोने का रथ, चांदी की पालकी
बैठकर जिसमें है लक्ष्मी मां है आयी
देने आपके परिवार को धनतेरस की बधाई
धनतेरस की हार्दिक बधाई






Dhanteras Shayari in Hindi
दिनों दिन बढ़ता जाए आपका कारोबार
परिवार में बना रहे स्नेह और प्यार
होती रहे सदा आप पर धन की बौछार
ऐसा हो आपका धनतेरस का त्यौहार
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं






सफलता कदम चूमती रहे
ख़ुशी आसपास घुमती रहे
यश इतना फैले की कस्तूरी शर्मा जाये
लक्ष्मी की कृपया इतनी हो की बालाजी भी देखते रह जाये
Wishes u a very very Happy Dhanteras






Dhanteras Hindi Shayari
आज से ही आपके यहाँ धन की बरसात हो
माँ लक्ष्मी का वास हो, संकटों का नाश हो
हर दिल पर आपका राज हो, उन्नति का सर पर ताज हो
और घर में शांति का वास हो! शुभ धनतेरस
 


Happy Dhanteras Shayari in Hindi
धन धान्य भरी है धनतेरस
धनतेरस का दिन है बड़ा ही मुबारक
माता लक्ष्मी है इस दिन की संचालक
आओ मिल करें पूजन उनका
जो हैं जीवन की उद्धारक
धनतेरस की शुभ कामनायें





Dhanteras 2021 Shayari Hindi
दीप जले तो रोशन आपका जहान हो
पूरा आपका हर एक अरमान हो
माँ लक्ष्मी जी की कृपा बनी रहे आप पर
इस धनतेरस पर आप बहुत धनवान हों
शुभ धनतेरस
 
 
नरक चतुर्दशी 2021: Narak Chaturdashi 2021 Date
नरक चतुर्दशी 2021 Image

 



नरक चतुर्दशी 2021: Narak Chaturdashi 2021 Date
इस वर्ष नरक चतुर्दशी का त्योहार 03 नवंबर 2021 को मनाया जाता है। यह धनतेरस के बाद मनाया जाता है। नरक चतुर्दशी कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। नरक चतुर्दशी को कई और नामों से भी मनाया जाता है जैसे- नरक चौदस, रूप चौदस और रूप चतुर्दशी आदि। दिवाली से पहले मनाए जाने के कारण इसे छोटी दिवाली भी कहा जाता है। इस दिन मृत्यु के देवता यमराज की पूजा होती है। घर के कोनों में दीपक जलाकर अकाल मृत्यु से मुक्ति की कामना की जाती है।

नरक चतुर्दशी 2021: Narak Chaturdashi 2021
तेल मालिश का समय (अभ्यंग) :सुबह 06:06:05 से 06:34:57 तक
 
 
नरक चतुर्दशी शायरी शुभकामना सन्देश
जैसे कृष्ण भगवान ने नरकासुर का नाश किया
वैसे ही भगवान आपके जीवन से दुखों का नाश करे
नरक चतुर्दशी की शुभकामनाएं

*******

 

Latest Narak Chaturdashi Shayari 2021

दीप जलाओ, अंधेरा मिटाओ
इस नरक चतुर्दशी के त्यौहार पर चारों तरफ खुशहाली फैलाओ
हैप्पी नरक चतुर्दशी

******

नरक चतुर्दशी की फोटो वॉलपेपर
 
चाँद को चांदनी मुबारक
सूरज को रोशनी मुबारक
आपको और आपके पूरे परिवार को
नरक चतुर्दशी और छोटी दिवाली मुबारक

  

Roop Chaturdashi Shayari Quotes SMS
पूजा से भरी थाली है
चारों ओर खुशहाली है
आओ मिलके मनाए ये दिन
आज छोटी दिवाली है
आपको और आपके परिवार को
नरक चतुर्दशी की ढेरों शुभकामनाएं
रूप चौदस नरक चतुर्दशी शायरी शुभकामना सन्देश



Happy Narak Chaturdashi 2021 Shayari
आपको आशीर्वाद मिले गणेश से
विद्या मिले सरस्वती से
धन मिले लक्ष्मी से
खुशियां मिले रब से
प्यार मिले सब से
यही दुआ है दिल से
हैप्पी नरक चतुर्दशी

*****

Narak Chaturdashi Wishes Messages Status Shayari
सत्य पर विजय पाकर
काली चौदस मनाए
मन में श्रद्धा और विश्वास रख कर
हर मनोकामना को पूरा होता पाए
नरक चतुर्दशी की शुभकामनाएं

*****

Roop Chaudas Narak Chaturdashi Shayari
धनतेरस के दूसरे दिन छोटी दिवाली नरक चतुर्दशी
सुख सम्पदा आपके जीवन में आये
लक्ष्मी जी आपके घर में समायें
भूल कर भी आपके जीवन में
कभी दुःख ना आ पाए
Happy Narak Chaturdashi

*****

Happy Narak Chaturdashi Shayari
दीयों के संग, खुशियों के रंग
हो जाए मलंग, लेके नयी उमंग
नरक चतुर्दशी की ढेरों शुभकामनाएं
 


 
diwali laxmi puja time 2021
diwali 2021 -Photo


 

महापर्व दिवाली और महालक्ष्मी पूजा 2021: Diwali 2021 lakshmi Puja Muhurat Time
04 नवंबर 2021 को पूरे देश और विदेश में दीपावली का पर्व मनाया जाएगा। दिवाली को प्रकाश उत्सव भी कहा जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि के दिन प्रदोष काल होने पर दीपावली पर महालक्ष्मी पूजन करने का विधान है। दिवाली पर घरों को रोशनी से सजाया जाता है। दिवाली की शाम को शुभ मुहूर्त में माता लक्ष्मी, भगवान गणेश, मां सरस्वती और धन के देवता कुबेर की पूजा-आराधना होती है। मान्यता है दिवाली की रात माता लक्ष्मी पृथ्वी पर आती हैं और घर-घर जाकर ये देखती हैं किसका घर साफ है और किसके यहां पर विधिविधान से पूजा हो रही है। माता लक्ष्मी वहीं पर अपनी कृपा बरसाती हैं। दिवाली पर लोग सुख-समृ्द्धि और भौतिक सुखों की प्राप्ति के लिए माता लक्ष्मी की विशेष पूजा करते हैं।

दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त 2021: Diwali Date 2021 Laxmi Puja Muhurat

दिवाली और लक्ष्मी पूजा तिथि- गुरुवार, 04 नवंबर 2021

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त : 18:10:28 से 20:06:18 तक
अवधि : 1 घंटे 55 मिनट
प्रदोष काल :17:34:09 से 20:10:27 तक
वृषभ काल : 18:10:28 से 20:06:18 तक

दिवाली महानिशीथ काल मुहूर्त
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त : 23:38:52 से 24:30:58 तक
महानिशीथ काल : 23:38:52 से 24:30:58 तक
सिंह काल : 24:42:01 से 26:59:43 तक

दिवाली शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातःकाल मुहूर्त्त (शुभ) :06:34:58 से 07:57:21 तक
प्रातःकाल मुहूर्त्त (चल, लाभ, अमृत): 10:42:09 से 14:49:21 तक
सायंकाल मुहूर्त्त (शुभ, अमृत, चल): 16:11:45 से 20:49:32 तक
रात्रि मुहूर्त्त (लाभ): 24:04:55 से 25:42:37 तक
 
 
Happy Diwali Best Shayari Wishes in Hindi 2021

पूजा की थाली, रसोई में पकवान
आँगन में दिया, खुशिया हो तमाम
हाथों में फुलझरिया, रोशन हो जहां
मुबारक हो आपको दिवाली मेरी जान

आओ हम साथ मिलकर दिये जलाए
नफरत बुझाकर प्यार का प्रकाश फैलाए
नफरत वाली तरु काटकर
प्कीयार हरी भरी घास लगाए
आओ हम साथ मिलकर
दीप जलाए- दिवाली मनाएं !!
 
 
Diwali Shayari in Hindi 2021
Diwali Shayari in Hindi 2021


Diwali Shayari in Hindi 2021

दीवाली पे तुम ख़ुशियाँ खूब मनाना,
मेरी कोई बात बुरी लगी हो तो उसे दिल से मिटाना
हम इंतज़ार करेंगे तुम्हारा
आकर बस एक दिया मेरे साथ जलाना

आप हमारे दिल में रहते है
इसलिए आपकी इतनी परवाह करते है
हम से पहले कोई विश ने कर दे आपको
इसलिए सबसे पहले दिवाली विश करते हैं।


दीयों की रोशनी से झिलमिलाता अनगन हो
पटाखो की गूंज से असमान रोशन हो
ऐसी आई झूम के यह दिवाली
हर तरफ खुशियों का मौसम हो
|| शुभ दिवाली ||

ख़ुशी और ख़ुशियाँ होगी
इस दीवाली को हम मनाएँगे तेरे प्यार में
तुम बस आ-जाना जल्दी
हम दिए जलाएँगे तेरे इंतज़ार में
 

Happy Govardhan Puja 2021
 
 
गोवर्धन पूजा Govardhan Puja 2021
Happy Govardhan Puja 2021 - Image


 


गोवर्धन पूजा Govardhan Puja 2021
इस वर्ष गोवर्धन पूजा 05 नवंबर 2021 को है। गोवर्धन पूजा दिवाली के अगले दिन मनाया जाता है।  हिदूं पंचांग के अनुसार गोवर्धन का त्योहार कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि पर यह पर्व मनाया जाता है। गोवर्धन पूजा को अन्नकूट भी किया जाता है। इस त्योहार में भगवान कृष्ण के साथ गोवर्धन पर्वत और गायों की पूजा का विधान है। इसी दिन भगवान कृष्ण को 56 भोग बनाकर लगाया जाता है।  

गोवर्धन पूजा- 05 नवंबर 2021
गोवर्धन पूजा शुभ मुहूर्त -
गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त : 06:35 मिनट से 08:47 मिनट तक
अवधि : 2 घंटे 11 मिनट
गोवर्धन पूजा का सायंकाल मुहूर्त :15: 21 मिनट से 17:33 मिनट तक
अवधि : 2 घंटे 11 मिनट
 
 
 
 
 कृष्ण की शरण में आकर
    भक्त नया जीवन पाते है
    इसलिए गोवर्धन पूजा का दिन
    हम सच्चे मन से मनाते है
    हैप्पी गोवर्धन पूजा
 

    प्रेम से जपो कृष्ण का नाम,
    पूरे होंगे सारे अधूरे काम,
    आज काम न करना कोई दूजा,
    आज तो करना है गोवर्धन पूजा

 

 

    कृष्ण की भक्ति और दिल में रहे प्यार,
    मुबारक हो गोवर्धन पूजा का त्यौहार
    Happy Govardhan Puja
 

    हैप्पी गोवर्धन पूजा

 

    कृष्ण की भक्ति और दिल में रहे प्यार मुबारक हो गोवर्धन पूजा का त्यौहार.  
Happy Govardhan Puja

 

    मेरे प्रभु श्री कृष्ण जिनका है नाम,
    गोकुल जिनका है धाम,
    ऐसे प्रभु श्री कृष्ण जी को
    हम सब करें प्रणाम.
    हैप्पी गोवर्धन पूजा
 
 
 

Bhai Dooj 2021
भाई दूज 2021: Bhai Dooj Shubh Muhurat 2021
Bhai Dooj 2021 -  Image


 


भाई दूज 2021: Bhai Dooj Shubh Muhurat 2021
भाई दूज पांच दिवसीय दीपावली पर्व का आखिरी दिन का त्योहार होता है। भाई दूज कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने भाईयों के माथे पर तिलक लगाकर उनकी लंबी आयु और सुख-समृद्धि की मनोकामनाएं मांगती हैं। इस त्योहार को भाई दूज या भैया दूज, भाई टीका, यम द्वितीया, भ्रातृ द्वितीया कई नामों से जाना जाता है। इस बार यह 06 नवंबर को है।
 
 
 


Brother SMS

    खामोशियो में एक अदा इतनी प्यारी लगी,
    दुनिया में आपकी मोहब्बत सबसे न्यारी लगी,
    दुआ करतें हे ये न टूटे ये रिश्ता कभी,
    क्योकि इस दुनिया में यही हमको हमारी लगी.
    *** Wishes u a very very happy Bhai Dooj

Brother Shayari in Hindi

    बहन लगाती तिलक, फिर मिठाई है खिलाती;
    भाई देता पैसे और बहन है मुस्कुराती;
    भाई-बहन का ये रिश्ता न पड़े कभी लूज
    मेरे प्यारे भैया मुबारक हो आपको भाई दूज

Brother Shayari in Hindi


    रूठकर तू क्यों बैठा है भाई, अब मुझसे बात कर
    हो गई गलती मुझसे, अब अपनी बहन को माफ कर
    बिन तुझसे बात किए कैसे कटेगा वक्त मेरा
    देख फलक की ओर चांद की तन्हाई एहसास कर..!

Bhai Dooj SMS in Hindi


    भाई दूज का है आया है शुभ त्यौहार,
    बहनों की दुआएं भाइयों के लिए हज़ार ,
    भाई बहन का यह अनमोल रिश्ता है बहुत अटूट,
    बना रहे यह बंधन हमेशा खूब।
    भाई दूज की शुभकामनायें !

Bhai Dooj Status in hindi

    थाल सजा कर बैठी हूँ अँगना
    तू आजा अब इंतजार नहीं करना
    मत डर अब तू इस दुनियाँ से
    लड़ने खड़ी हैं तेरी बहन सबसे
    Happy Bhai Dooj !!!!!!!

Bhai Status in Hindi

    आज मैं तेरे संग हूँ, कल तुझसे रुखसत हो जाऊंगी
    फिर पछताना मत, क्यूंकि मैं लौटकर न फिर आऊंगी
    वो रक्षाबंधन और भाई दूज की मस्तियाँ याद कर
    और बचपन की शरारतों का फिर से आगाज कर
    अब भी गर न बोला तू, तो तुमसे मैं भी रूठ जाऊंगी
    एक बार तू मुस्कुरा दे, वरना मैं रोने लग जाऊंगी..!!

Bhai Shayari

    हे ईश्वर बहुत प्यारा हैं मेरा भाई
    मेरी माँ का दुलारा हैं मेरा भाई
    न देना उसे कोई कष्ट भगवन
    जहाँ भी हो ख़ुशी से बीते उसका जीवन..!!!
    Happy भाईदूज to u..

Bhai Booj Shayari

 
Bhai Dooj Ka Muhurta 2021 | भाई दूज का मुहूर्त 2021
भाई दूज तिलक का समय : दोपहर 01 बजकर 10 मिनट से लेकर 03 बजकर 21 मिनट तक
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे