Clint and Kate Give New Ground to the MCU क्लिंट और केट ने एमसीयू को दिया नया धरातल Download Free Webseries Hawkeye - Hindi Shayari H सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Clint and Kate Give New Ground to the MCU क्लिंट और केट ने एमसीयू को दिया नया धरातल Download Free Webseries Hawkeye - Hindi Shayari H


Clint and Kate Give New Ground to the MCU क्लिंट और केट ने एमसीयू को दिया नया धरातल
हॉकआई वेब सीरीज रिव्यू





वेब सीरीज रिव्यू : हॉकआई ( एपिसोड 1 और 2 ) कलाकार : जेरेमी रेनर , हैली स्टीनफेल्ड , टोनी डॉल्टन , फ्रा फी आदि । निर्देशक : राइस थॉमस ओटीटी : डिज्नी प्लस हॉटस्टार रेटिंग : ★★★



वेब सीरीज ' हॉकआई ' की कहानी 2012 में न्यूयॉर्क शहर से शुरू होती है । दर्शकों को फिल्म ' एवेंजर्स ' का वह सीन दिखाई देता है . जिसमें दूसरे ग्रहों और अंतरिक्ष से आए जीवों ने तबाही मचा रखी है । 13 साल की केट बिशप इस आफत की चश्मदीद बनती है । उसके पिता इस हादसे का शिकार हो जाते हैं । वहां से कहानी वर्तमान में लौटती है । केट बिशप को तीरंदाजी में आनंद आता है ।




 वह अपनी उम्र के हिसाब से शरारतें करने में व्यस्त है , लेकिन उसकी मां को यह पसंद नहीं है । ' हॉकआई ' यहां पहले क्लिंट बार्टन के रूप में  दिखती है , अपने परिवार के साथ क्रिसमस से पहले के जश्न का आनंद लेते हुए । तभी शहर में हड़कंप मचता है । कहानी उसी के एक रूप रोनिन से कड़ियां जोड़नी शुरू करती है । केट और क्लिंट मिलते हैं और कहानी एक नए रास्ते के सफर पर निकल पड़ती है । क्लिंट और केट के बीच पनपता एक अनोखा रिश्ता वेब सीरीज ' हॉकआई ' की बुनियाद है । एक मशहूर एवेंजर है और दूसरी उसकी प्रशंसक , जो उसके जैसा बनना चाहती है ।


हॉकआई वेबसरीज मार्वल
हॉकआई वेबसरीज मार्वल



 क्लिंट उसे समझाना चाहता है , लेकिन केट के अंदर जवानी का जोश है । किसी जगह पर नीलामी के दौरान एक कातिल दस्ते का हमला होता है । शहर के एक रईस का कत्ल भी होता है और इन घटनाओं से एक ऐसा माहौल बनने लगता है , जो मार्वल की इस साल रिलीज हुईं सभी वेब सीरीज से बेहतर दिखता है कहानी के स्तर पर वेब सीरीज ' हॉकआई ' ने अपने पहले दो एपिसोड में ही दर्शकों को बांधना शुरू कर दिया है । इस साल रिलीज हुई मार्वल की सीरीज ' वांडा विजन ' , ' द फाल्कन एंड द विंटर सोल्जर ' और ' लोकी ' में मानवीय दृष्टिकोण का जो रस गायब दिख रहा था , वह ' हॉकआई ' में शुरू से रिसना शुरू हो जाता है । क्लिंट बार्टन का किरदार पहली बार लाइमलाइट में हैं ।





 मार्वल सिनेमैटिक यूनीवर्स की कहानियों में यह किरदार अब तक साइड हीरो के तौर पर ही दिखता रहा है । जेरेमी को भी पता है कि एमसीयू की इस कहानी में पूरा दारोमदार उनके मानवीय पहलुओं को परदे पर बेहतर तरीके से पेश करने में ही है और वह इसमें सौ फीसदी कामयाब भी रहते हैं । सीरीज के रचयिता जोनाथन इगला ने इस किरदार की मानवीय खूबी को ही कहानी का मूल तत्व बनाया है ।





 ' हॉकआई ' में दो अलग - अलग पीढ़ियों के बीच पुल बनाने की खूबसूरत कोशिश की गई है । वेब सीरीज ' हॉकआई ' की असल स्टार हैं हैली स्टीनफेल्ड । केट बिशप के किरदार में वह पहले एपिसोड से ही अपने चारों तरफ एक चुंबकीय आकर्षण पैदा करने में सफल रही हैं । जेरेमी रेनर के साथ उनका हर दृश्य लाजवाब है । दोनों के बीच चलती रहने वाली नोकझोंक भी सीरीज देखने का आनंद बढ़ाती है । 


हॉकआई वेबसरीज इन हिंदी
हॉकआई वेबसरीज इन हिंदी




सीरीज की बोहनी शानदार है और उम्मीद की जानी चाहिए कि इसके आगे आने वाले एपिसोड मार्वल सिनेमैटिक यूनीवर्स के प्रशंसकों को एक अलग धरातल का सुख देने में सफल रहेंगे ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे