Box Office Collection : बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 10 बेस्ट ओपनिंग फिल्में, ‘सूर्यवंशी’ , ‘अंतिम’ और ‘तड़प’ का ये है लेटेस्ट स्कोर साल 2021 सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Box Office Collection : बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 10 बेस्ट ओपनिंग फिल्में, ‘सूर्यवंशी’ , ‘अंतिम’ और ‘तड़प’ का ये है लेटेस्ट स्कोर साल 2021

 बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 10 बेस्ट ओपनिंग फिल्में, ‘अंतिम’ और ‘तड़प’ का ये है लेटेस्ट स्कोर  साल 2021 







बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 10 बेस्ट ओपनिंग फिल्में: अहान शेट्टी की डेब्यू फिल्म ‘तड़प’ को लेकर हिंदी फिल्म जगत से काफी आलोचनाएं झेल रहे निर्माता साजिद नाडियाडवाला इस फिल्म का कारोबार पहले वीकएंड में दहाई के पार पहुंचने में सफल रहे हैं। फिल्म का कलेक्शन ठीकठाक रखने का साजिद पर भयंकर दबाव है और वह इसके लिए अपने सारे घोड़े भी खोल चुके हैं, लेकिन इसके बावजूद ये फिल्म आयुष शर्मा की फिल्म ‘अंतिम’ के पहले सप्ताहांत के कलेक्शन का आंकड़ा पार नहीं कर सकी। हालांकि, आयुष को इस फिल्म में अपने बहनोई सलमान खान का भी काफी साथ मिला। आइए आपको बताते हैं फिल्म ‘अंतिम’ और ‘तड़प’ की कमाई के बारे में और साथ ही जानते हैं कि इस साल के बॉक्स ऑफिस मुकाबले में पहले 10 नंबरों पर रही फिल्मों का हाल क्या रहा..






Tadap movie - फोटो :  हिंदी शायरी एच
Tadap movie - फोटो :  हिंदी शायरी एच







 
tadap box office collection
पहले बात फिल्म ‘तड़प’ की। इस फिल्म की एडवांस बुकिंग साल में रिलीज सारी फिल्मों में सबसे ज्यादा खराब रही। ऑनलाइन बुकिंग में थिएटर लगातार खाली दिख रहे हैं। लेकिन इस बीच मुंबई में कुछ सिनेमाघरों की मौके पर बुकिंग में उछाल बताया जा रहा है। फिल्म ने पहले सप्ताहांत 13.52 करोड़ रुपये का कारोबार किया। फिल्म की शुक्रवार को 4.05 करोड़ रुपये, शनिवार को 4.12 करोड़ रुपये और रविवार को 5.35 करोड़ रुपये कमाई हुई। फिल्म का असली लिटमस टेस्ट सोमवार से शुरू हो रहा है। फिल्म के बनाने पर करीब 20 करोड़ रुपये और इसकी मार्केटिंग पर करीब 10 करोड़ रुपये का खर्च हुआ बताया जा रहा है।
 

फिल्म अंतिम - फोटो : हिंदी शायरी एच
फिल्म अंतिम - फोटो : हिंदी शायरी एच
 
antim box office collection
वही आयुष शर्मा की फिल्म ‘अंतिम’ ने दूसरे हफ्ते में भी अपनी पकड़ सिनेमाघरों में बनाए रखी। फिल्म की प्रचार टीम से हुई गलतियों को सुधारने के लिए इसके हीरो आयुष शर्मा ने खुद बीड़ा संभाला है। वह सोमवार को इस फिल्म के प्रचार के लिए दिल्ली में भी मौजूद रहे। फिल्म ने दूसरे हफ्ते में शुक्रवार को 1.25 करोड़ रुपये, शनिवार को 1.75 करोड़ रुपये और रविवार को 2.25 करोड़ रुपये कमाए। फिल्म की कुल बॉक्स ऑफिस कमाई अब तक 34.60 करोड़ रुपये हो चुकी है।
 


फिल्म ‘सूर्यवंशी’ - फोटो :  हिंदी शायरी एच
फिल्म ‘सूर्यवंशी’ - फोटो :  हिंदी शायरी एच

suryavanshi box office collection
अपनी पहले दिन की 5.03 करोड़ रुपये की ओपनिंग को लेकर फिल्म ‘अंतिम’ ने अब तक रिलीज हुई फिल्मों में फिल्म ‘सूर्यवंशी’ (ओपनिंग 26.29 करोड़ रुपये) के बाद दूसरा स्थान हासिल किया है जबकि 4.05 करोड़ रुपये की ओपनिंग वाली फिल्म ‘तड़प’ ने राजकुमार राव की फिल्म ‘रूही’ को इस स्थान से खिसकाकर तीसरा स्थान हासिल कर लिया है। 11 मार्च को रिलीज हुई फिल्म ‘रुही’ की ओपनिंग 3.06 करोड़ रुपये रही थी। फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ इस लिहाज से अब पांचवें नंबर पर है, इसकी ओपनिंग 3.22 करोड़ रुपये की ही रही।
 


बेलबॉटम - फोटो :  हिंदी शायरी एच
बेलबॉटम - फोटो :  हिंदी शायरी एच
 
बेलबॉटम box office collection
पहले दिन 2.82 करोड़ रुपये की ओपनिंग लेकर फिल्म ‘मुंबई सागा’ साल 2021 की टॉप 10 ओपनर्स में छठे नंबर पर है जबकि 2.75 करोड़ रुपये की पहले दिन कमाई करने वाली अक्षय कुमार की फिल्म ‘बेलबॉटम’ इस लिस्ट में सातवें नंबर पर है। इसके बाद 2.60 करोड़ रुपये की ओपनिंग वाली फिल्म ‘बंटी और बबली 2’ आठवें नंबर पर, 40 लाख रुपये की पहले दिन की कमाई करने वाली फिल्म ‘चेहरे’ नौवें नंबर पर और सबसे आखिर में कंगना रणौत की फिल्म ‘थलाइवी’ है जिसके हिंदी संस्करण ने पहले दिन बॉक्स ऑफिस पर 32 लाख रुपये की कमाई की।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे