Hindi Kahani Khandani खानदानी kahaniyan Hindishayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Kahani Khandani खानदानी kahaniyan Hindishayarih

खानदानी kahaniyan in hindi खानदानी युवक ने जब बताया कि वह लोग उसी बंगले में रहते हैं तो मेरे अधरों पर गर्वान्वित मुस्कान उभर आई । मेरा अनुमान सटीक निकला , वह स्त्री खानदानी घराने से ही थी ।




Hindi Kahani Khandani खानदानी kahaniyan
खानदानी kahaniyan in hindi
 


अहाना अर्चना पांडेय


माघ की वह सर्द रात , मैं मुंबई से गोरखपुर मा तक आने वाली ट्रेन से यात्रा करके विश्रामालय में लकड़ी के चार पाए वाले सख्ते पर बैठी ही थी कि मुझे अपने बराबर में सर्दी से कांपती तीस वर्ष की एक युवती बैठी दिखाई दी । उसका आधा चेहरा घूंघट से ढका था ।


खानदानी Kahani Hindi main

 भय से हल्के - हल्के थरथराते हाथों में सोने के खानदानी कंगन , पैरों में चांदी की मोटी परत वाली पायल और शरीर पर बनारसी साड़ी थी , कदाचित किसी खानदानी घर की स्त्री लग रही थी । साथ में चौदह वर्ष की एक बेटी थी , जो उसके कंधे पर सिर टिकाए आते - जाते यात्रियों को निहार रही थी ।






 उनसे कुछ पंग की दूरी पर एक हृष्ट - पुष्ट युवक धोती कुर्ता में खड़ा था , जो शायद युवती का पति था । “ आप कहां जा रहे हैं ?  पनदेवरी जा रहे हैं , आप कहां जा रही हैं ? " मेरे प्रश्न पर जवाब देने के तत्पश्चात उस युवक ने मुझसे प्रश्न किया । " मैं भी पनदेवरी ही जा रही हूं ।







 " मैंने एक हल्की लालिमा लिए मुस्कान के साथ जवाब दिया । वह युवक प्लेटफॉर्म पर टहलने लगा और मैं रात में चकमक करती प्लेटफॉर्म की रौनक देखने लगी । दस मिनट के पश्चात उन तीनों संग मैंने भी बाहर का रुख किया । बाहर रिक्शा और अन्य सवारियों का तांता लगा था । एक रिक्शे पर सवार हो हम चारों पनदेवरी के लिए निकल पड़े ।




 हम थे तो चार , मगर उस रिक्शे में सन्नाटा पसरा था , हालांकि सवारियों की तीव्र ध्वनि उस मौन माहौल में कोलाहल कर रही थी । आश्चर्य करने वाली बात तो यह थी कि वह स्त्री अभी तक मौन थी । मेरे हर प्रश्न पर मात्र सिर हिलाकर उत्तर देती । तीन घंटे बीतने के पश्चात रिक्शा पनदेवरी में एक आश्रम के सामने जाकर रुका । हम चारो उस रिक्शे से उतर गए । 





आश्रम के ठीक सामने एक बड़ा बंगला था और बंगले के इर्द गिर्द हरी - भरी क्यारियां उस मकान की शोभा में चार चांद लगा रही थीं । युवक ने जब बताया कि वह लोग उसी बंगले में रहते हैं तो मेरे अधरों पर गर्वान्वित मुस्कान उभर आई । मेरा अनुमान सटीक निकला , वह स्त्री खानदानी घराने से ही थी । मैंने उन लोगों को विदा करने के पश्चात आश्रम में प्रवेश किया । मैं बहुत समय पश्चात इस जगह पर घूमने की इच्छा से मुंबई से करीबन एक सप्ताह का अवकाश लेकर आई थी ।





 इस एक सप्ताह में मैंने गांव के साथ - साथ समस्त नगर का भ्रमण किया । दाएं - बाएं आशियाने थे और गांव के बीच में उस युवक का आलीशान बंगला , जिसकी एक - एक दीवार खामोश थी और स्त्रियों पर होते अन्याय की व्यथा कहा रही थी । कहने को तो खानदानी घराना था , किंतु कभी भी वहां पुरुषों के अतिरिक्त स्त्रियों की बुदबुदाहट कानों तक स्पर्श नहीं करती थी । कभी - कभी यदि संयोगवश किसी महिला की आवाज स्पर्श करती भी तो हृदय दहल जाता था , क्योंकि उस बंगले से स्त्रियों की कभी - कभार चीत्कार सुनाई पड़ती थी ।







 कोड़ों से मार खाती स्त्रियों की चीत्कार । गांव के दाएं - बाएं का इलाका कोलाहल और उमंग से परिपूर्ण था । स्त्रियों और पुरुषों में अक्सर हंसी ठहाकों का माहौल रहता । पूरे दिन कार्य के पश्चात स्त्रियां मिल - जुलकर एक साथ गांव के पीछे बागवानों की तरफ भ्रमण के लिए निकल जातीं और पुरुष एकजुट होकर अलाव के पास आपस में गपशप करते । किंतु बीच गांव में उस बंगले पर सन्नाटा पसरा रहता । न कोई उत्साह का कोलाहल , न उमंगों का शोर , न ही बच्चों का खेलता बचपन था और न ही स्त्रियों के यौवन की मुस्कान ।




यह भी पढ़े   aapna-paraya-hindi-kahani 


 महज भय , स्त्रियों का अपमान , पुरुषों की गर्वित गर्जना के अतिरिक्त उस बंगले में कुछ नहीं था , क्योंकि उस खानदानी घराने में स्त्रियों को बोलने की अनुमति नहीं थी , न ही स्वतंत्रता का रिवाज था । वहां बेटियों को मात्र मौन रहना सिखाया जाता था और स्त्रियों को सिर झुकाकर रहना । उन खानदानी स्त्रियों की वेदना मुझे इस कदर कचोट रही थी कि वहां पर जाने के निर्णय पर मुझे पश्चाताप होने लगा ।





 मन से बस एक आह निकल रही थी , " भगवान कभी किसी स्त्री को ऐसा खानदानी घराना न दे , जहां स्त्रियों का ही कोई सम्मान नहीं ! "

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे