Hindi Shayari About Love Amazing Shayari on Lovers सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Shayari About Love Amazing Shayari on Lovers


 







                          Hindi Shayari About Love                                                   Best Hindi Shayari in Love  
                         2 line hindi shayari for lovers                                              Kuch Sher for lover in hindi



Love Shayari In Hindi

Love Shayari : Hey guys here you we have publish love shayari image In hindi with beautiful shayari images Lovely Shayari there is tremendous love shayari photo. You will not find such Love Shayari Image Hd anywhere else.

Read it and you will know This is specially designed for you with love shayari images My dear friends here is the best love shayari in hindi for you Hope you like this Thand Love Shayari post.

1: इश्क़ है या कुछ और ये पता नहीं, पर जो तुमसे है किसी और से नहीं! 2: मै कैसे कहू की उसका साथ कैसा है, वो एक शख्स पुरे कायनात जैसा है! 3:तेरा होना ही मेरे लिये खास है, तू दूर ही सही मगर मेरे दिल के पास है! 4: मुझे तेरा साथ ज़िन्दगी भर नहीं चाहिये, बल्कि जब तक तू साथ है तबतक ज़िन्दगी चाहिए! 5: तुझसे मोहब्बत कुछ अलग सी है मेरी, तुझे खयालो में नहीं दुआओ में याद करते है

  
 





तू हज़ार बार भी रूठे तो मना लूँगा तुझे

मगर देख मोहब्बत में शामिल कोई दूसरा ना हो

 





किस्मत यह मेरा इम्तेहान ले रही है

तड़प कर यह मुझे दर्द दे रही है

दिल से कभी भी मैंने उसे दूर नहीं किया

फिर क्यों बेवफाई का वह इलज़ाम दे रही है

 





मरे तो लाखों होंगे तुझ पर

मैं तो तेरे साथ जीना चाहता हूँ

 






वापस लौट आया है हवाओं का रुख मोड़ने वाला

दिल में फिर उतर रहा है दिल तोड़ने वाला

 





अपनों के बीच बेगाने हो गए हैं

प्यार के लम्हे अनजाने हो गए हैं

जहाँ पर फूल खिलते थे कभी

आज वहां पर वीरान हो गए हैं






जो शख्स तेरे तसव्वुर से हे महक जाये

सोचो तुम्हारे दीदार में उसका क्या होगा

 





मोहब्बत का एहसास तो हम दोनों को हुआ था

फर्क सिर्फ इतना था की उसने किया था और मुझे हुआ था

 







सांसों की डोर छूटती जा रही है

किस्मत भी हमे दर्द देती जा रही है

मौत की तरफ हैं कदम हमारे

मोहब्बत भी हम से छूटती जा रही है







समझता ही नहीं वो मेरे अलफ़ाज़ की गहराई

मैंने हर लफ्ज़ कह दिया जिसे मोहब्बत कहते है

 




समंदर न सही पर एक नदी तो होनी चाहिए

तेरे शहर में ज़िन्दगी कही तो होनी चाहिए

 





नज़रों से देखो तोह आबाद हम हैं

दिल से देखो तोह बर्बाद हम हैं

जीवन का हर लम्हा दर्द से भर गया

फिर कैसे कह दें आज़ाद हम हैं

 




मुझे नहीं मालूम वो पहली बार कब अच्छा लगा

मगर उसके बाद कभी बुरा भी नहीं

 




सच्ची मोहब्बत कभी खत्म नहीं होती

वक़्त के साथ खामोश हो जाती है

 





ज़िन्दगी के सफ़र में आपका सहारा चाहिए

आपके चरणों का बस आसरा चाहिए

हर मुश्किलों का हँसते हुए सामना करेंगे

बस ठाकुर जी आपका एक इशारा चाहिए

 




जिस दिल में बसा था नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया

न होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया

 

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे