Mercedes-Benz Present Solar Powered Car Maybach, Heart will Win Design 'मर्सडीज-बेंज' ने पेशकी सोलर पावर कार Maybach, Hindishayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mercedes-Benz Present Solar Powered Car Maybach, Heart will Win Design 'मर्सडीज-बेंज' ने पेशकी सोलर पावर कार Maybach, Hindishayarih

'मर्सडीज-बेंज' ने पेशकी सोलर पावर कार Maybach, दिल जीत लेगा डिजाइन



Mercedes-Benz Present Solar Powered Car इस इनोवेटिव कार के लगभग हर एलिमेंट को प्रभावशाली फीचर्स से लैस किया गया है


Mercedes-Benz shows solar powered car Maybach, heart will win design 'मर्सडीज-बेंज' ने पेशकी सोलर पावर कार Maybach
प्रोजेक्ट मेबैक एक शोकेस कार है, जिसमें दो लोग बैठ सकते हैं। मर्सडीज ने इस कार को मियामी आर्ट वीक के दौरान अनवील किया।


सोलर पावर कार


दुनियाभर में इलेक्ट्रिक कारें लोगों की पसंद बन रही हैं। इस बीच, इससे एक कदम और आगे अब सोलर पावर कारों की चर्चा भी शुरू हो गई है। मर्सडीज-बेंज ने सौर ऊर्जा से चलने वाली कार को अनवील किया है। प्रोजेक्ट ‘मेबैक' के तहत इस सोलर पावर कार को दिवंगत फैशन डिजाइनर वर्जिल अबलोह ने हकीकत बनाया है। मर्सडीज और अबलोह के बीच पार्टनरशिप के बाद प्रोजेक्ट ‘मेबैक' सामने आई है। वर्जिल अबलोह का पिछले सप्ताह गंभीर बीमारी से लड़ते हुए निधन हो गया था। उनके परिवार की सहमति और सपोर्ट के बाद इस कार को अनवील किया गया। मर्सडीज का कहना है कि प्रोजेक्‍ट मेबैक का डिजाइन अब तक डिवेलप किए गए किसी भी डिजाइन से बिलुकल अलग है।

कंपनी का कहना है कि इस इनोवेटिव कार के लगभग हर एलिमेंट को प्रभावशाली फीचर्स से लैस किया गया है, जो टिकाउ चीज चाहने वालों को उत्‍साहित करेगा। लगभग 6 मीटर की लंबाई के साथ प्रोजेक्ट मेबैक में एक ट्रांसपैरेंट फ्रंट बोनट है। उसके नीचे सोलर सेल लगाए गए हैं। इनसे कार की बैटरियों को चार्जिंग पावर मिलेगी। 

प्रोजेक्ट मेबैक एक शोकेस कार है, जिसमें दो लोग बैठ सकते हैं। इस गाड़ी में बड़े ऑफ-रोड वील, खास अटैचमेंट और विशाल ग्रैंड टूरिस्मो का कॉम्बिनेशन है, जिससे यह एक आइकोनिक कार नजर आ सके। मर्सडीज ने इस कार को मियामी आर्ट वीक के दौरान अनवील किया। इस कार के लिए फैशन डिजाइनर, वर्जिल अबलोह ने मर्सिडीज-बेंज के साथ साझेदारी की थी। 41 वर्षीय अबलोह ने पिछले हफ्ते कैंसर के कारण दम तोड़ दिया। उनके सम्मान में मर्सिडीज बेंज ने इस कार को प्रेस इवेंट में दिखाने के बजाए मियामी के रूबेल म्‍यूजियम में पेश किया है। 

कंपनी ने अबलोह के निधन पर दुख जताते हुए उनके परिवार के प्रति अपनी संवदेना व्‍यक्‍त की है। फैशन डिजाइनर वर्जिल अबलोह की कल्‍पना, उनके डिजाइनों को रेखांकित करते हुए मर्सडीज बेंज ने अबलोह के विजन की तारीफ की है। 




   यह भी पढ़े  Infinity E1 Electric Scooter




mercedes-benz ,maybach car,solar power car,virgil abloh,virgil abloh mercedes-benz,मर्सडीज-बेंज,मेबैक कार,वर्जिल अबलोह

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे