आज के हेल्थ टिप्स: सर्दियों में गुड़ खाने से रहेगा शरीर गर्म और दूर, दूर रहेंगे ये रोग, सर्दियों में जरूर खाएं गुड़ | Hindishayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आज के हेल्थ टिप्स: सर्दियों में गुड़ खाने से रहेगा शरीर गर्म और दूर, दूर रहेंगे ये रोग, सर्दियों में जरूर खाएं गुड़ | Hindishayarih

आज का हेल्थ टिप्स: सर्दियों में जरूर खाएं गुड़, Today's Health Tips: By eating jaggery in winter, the body will remain warm and away, these diseases will be away, definitely eat jaggery in winter 

 
 

Gud khane ke fayde गुड़ खाने से क्या फायदा है 





सर्दियों में गुड़ खाने के फायदे इन हिंदी   
शरीर के संपूर्ण पोषण के लिए स्वस्थ और पौष्टिक आहार का सेवन करना सबसे महत्वपूर्ण माना जात है। विशेषकर सर्दियों के मौसम में, जब तापमान में तेजी से गिरावट आ रही होती है, ऐसे में हमें उन चीजों के सेवन को बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए जो शरीर को अंदरूनी गर्मी और ऊर्जा प्रदान करने में सहायक हों। आयुर्वेद विशेषज्ञों के मुताबिक सर्दियों के इस मौसम में सभी लोगों को रोजाना गुड़ का सेवन जरूर करना चाहिए। गुड़ खाना, हमारे स्वास्थ्य के लिए विशेष लाभदायक हो सकता है।



गुड़ खाने के फायदे बताएं
गुड़ खाने के फायदे बताएं



गुड़ से वेट लॉस | jaggery benefits for stomach | गुड़ खाने के फायदे बताएं |  jaggery benefits for skin | डायबिटीज में गुड़ खा सकते हैं | jaggery benefits for hair | सर्दियों में गुड़ के फायदे |  gud khane ke fayde khali pet | इम्युनिटी बढ़ाने के लिए गुड़ के फायदे | gud khane ke fayde skin ke liye





गुड़ खाने के फायदे बताएं

गुड़ कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, पोटेशियम और फास्फोरस से भरपूर होता है, जिसकी नियमित रूप से एक नियत मात्रा में शरीर को आवश्यकता होती है। अध्ययनों से पता चलता है कि गुड़ में विटामिन बी, कुछ मात्रा में प्रोटीन और फाइटोकेमिकल्स तथा एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि गुड़ खाने से, खासकर सर्दियों के मौसम में, कई संभावित लाभ होते हैं। आइए आगे की स्लाइडों में गुड़ खाने से सेहत को होने वाले ऐसे ही कुछ फायदों के बारे में जानते हैं।'


 
शरीर का डिटॉक्सिनेशन कैसे करें  
शरीर को करता है डिटॉक्स
फूड केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित साल 2009 के एक अध्ययन के अनुसार, गुड़ में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और खनिज इसे साइटोप्रोटेक्टिव गुण देते हैं, जिसका अर्थ है कि यह न केवल फेफड़ों से बलगम को साफ कर सकता है बल्कि श्वसन और पाचन तंत्र को अंदर से भी साफ करने में भी सहायक है। रोजाना गुड़ खाने से पूरे शरीर को डिटॉक्स करने में मदद मिल सकती है। 
विज्ञापन


पेट के लिए फायदेमंद है गुड़ का सेवन  
पेट के लिए फायदेमंद है गुड़
आमतौर पर खाने के बाद मिठाई के रूप में गुड़ का सेवन करना सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। यह आंतों को स्वस्थ रखने के साथ पाचन एंजाइमों को बढ़ाने में मदद करता है। अध्ययनों से पता चलता है कि जिन लोगों को अक्सर कब्ज और अन्य पाचन संबंधी समस्याएं बनी रहती हैं उनके लिए गुड़ खाना फायदेमंद हो सकता है।



गुड़ से बढ़ाएं इम्युनिटी 
 
इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक कोई भी भोजन जो पोषक तत्वों से भरा हो और शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है, वह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए भी बेहतर हो सकता है। यही कारण है कि गुड़ को प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले सर्वोत्तम खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है। सर्दियों के दौरान गुड़ का अधिक सेवन किया जाता है। यह शरीर को ठंडक, फ्लू और अन्य बीमारियों को दूर रखने में मदद करने के साथ प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में भी सहायक है।






गुड़ से वेट लॉस | gud khane ke fayde skin ke liye | गुड़ खाने के फायदे बताएं |  jaggery benefits for skin | डायबिटीज में गुड़ खा सकते हैं | jaggery benefits for hair | सर्दियों में गुड़ के फायदे |  gud khane ke fayde khali pet | इम्युनिटी बढ़ाने के लिए गुड़ के फायदे | jaggery benefits for stomach 
 

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे