Top 7 Tips Mobile Heating Problem Solve: 'मोबाइल-गर्म' हो रहा है तो क्या करें 7 'टिप्स-मोबाइल' का तापमान कम करने के लिए! Hindishayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Top 7 Tips Mobile Heating Problem Solve: 'मोबाइल-गर्म' हो रहा है तो क्या करें 7 'टिप्स-मोबाइल' का तापमान कम करने के लिए! Hindishayarih

 How to solve heating issues
आजकल सभी छोटे बड़े काम के लिए हम अपने स्मार्टफोन पर निर्भर होते हैं। ( Mobile Heating Problem)स्मार्टफोन लोगों की जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है। कॉल करने से लेकर ऑनलाइन पेमेंट तक, सब फोन पर निर्भर होता Mobile Heating  फोन की गंभीर समस्याओं में से एक है उसका जल्दी-जल्दी गर्म हो जाना। भारी-भरकम गेम खेलने और ब्राउजिंग के दौरान लगभग सभी फोन थोड़े बहुत गर्म हो जाते हैं, लेकिन फोन बहुत ज्यादा गर्म हो रहा है तो समझ जाइए कि कोई समस्या है। कभी-कभी चार्जिंग के दौरान भी फोन गर्म हो जाता है। स्मार्टफोन का ज्यादा गर्म होना खतरनाक हो सकता है, इससे आपके फोन की बैटरी भी फट सकती है। हालांकि इस गंभीर समस्या का समाधान खुद भी किया जा सकता है। इसका उपाय आपके फोन के स्टोरेज में ही छिपा हुआ है। चलिए आपको बताते हैं कुछ ऐसी सेटिंग्स के बारे में, जिनकी मदद से आप अपने फोन की परफॉरमेंस सुधार सकते हैं और बार-बार गर्म होने की समस्या का समाधान पा सकते हैं...


Top 7 Tips Mobile Heating Problem Solve : मोबाइल गर्म हो रहा है तो क्या करें 7 टिप्स मोबाइल का तापमान कम करने के लिए
 उपयोग नहीं होगा मोबाइल हीट 




1 स्मार्टफोन ka  गर्म hone ka karan
स्मार्टफोन में ज्यादा एप्लीकेशन, गेम या अन्य सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने के कारण ये समस्या होती है। 
फोन की कॉम्युनिकेशन यूनिट और कैमरा भी गर्मी का कारण बनता है। 
बहुत से फोन चार्जिंग के दौरान गर्म  होते हैं। 
कुछ फोन ब्राउजिंग के दौरान बहुत ज्यादा गर्म होते हैं और कुछ फोन कॉलिंग में भी गर्म हो जाते हैं। 

 



2 फोन हीटिंग की समस्या को कैसे करें दूर? How can I clear my mobile heating problem? 

फालतू फंक्शन को कर दें बंद
आजकल अनलिमिटेड डाटा की वजह से मोबाइल इंटरनेट हमेशा ऑन रहता है। इसी की तरह लोकेशन या GPS, ब्लूटूथ, वाईफाई जैसे अन्य कई फंक्शन खुले रह जाते हैं। इन फंक्शन को लगातार ऑन रखने से बैटरी पर दबाव पड़ता है और फोन गर्म हो जाता है।

 


3 What is the problem of mobile heating? 
एक साथ कई ऐप्स का उपयोग करने पर फोन के बैकग्राउंड में एक साथ कई ऐप्स चलने से भी ऐसा हो सकता है। फोन की रैम मैमोरी को समय-समय पर क्लीन करते रहें।

 

4 कवर निकाल दें :
 मोबाइल अगर हर वक्त कवर में है तो उसका कवर निकाल दें। इससे हीट को बाहर निकलने के लिए जगह मिलेगी। चार्ज और हैवी एप्स के उपयोग के दौरान खासतौर पर कवर निकाल दें




5. चार्ज के दौरान हार्ड सर्फेस पर रखें : 
जब भी आप मोबाइल चार्ज कर रहे हैं इसे हार्ड सर्फेस पर रखें। इसका मतलब टेबल जैसी जगह पर रखें। सोफा, पलंग जैसी जगहों पर न रखें। जब मोबाइल से गर्माहट निकलती है तो हार्ड सर्फेस पर आसानी से निकल जाती है जबकि गुलगुली जगह पर वहीं रह जाती है और मोबाइल गर्म होता रहता है।




6 सारी रात मोबाइल को चार्ज न करें :
 कुछ लोग सोने के पहले मोबाइल चार्ज पर लगा देते हैं। ऐसे में मोबाइल सारी रात चार्ज होता है जबकि इसे चार्ज होने में कुछ ही घंटे लगते हैं। इस ओवरचार्जिंग से बैटरी की क्षमता पर असर होता है और लंबे समय ऐसा करने से ओवरहीटिंग होती है।





7 नियमित तौर पर फोन को करते रहें अपडेट
फोन के ऐप्स को समय-समय पर अपडेट करते रहें। इसके अलावा अपने फोन के सॉफ्टवेयर को भी नियमित तौर पर अपडेट करें। ऐसा करने से फोन की ओवरहीटिंग की समस्या दूर हो जाएगी।






  मेरे मोबाइल का तापमान कितना है तापमान बहुत अधिक है यदि तापमान बढ़ता रहा तो फोन बंद हो जाएगा 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे