सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

What Is Hindi Meaning Of Crush 'क्रश' का हिन्दी में क्या अर्थ होता है Crush Meaning In Hindi - हिंदी शायरी एच

Crush - 'क्रश' का हिन्दी में क्या अर्थ या मतलब होता है ?



What Is Hindi Meaning Of Crush 'क्रश' का हिन्दी में क्या मतलब होता है Crush Meaning In Hindi
क्रश मीनिंग इन हिंदी 




Krush Meaning In Hindi: सबसे पहले तो मैं आपको बता दूँ की crush वर्ड दो तरह से इस्तेमाल किये जाते हैं, क्रश शब्द हमेशा देखने को मिलता होगा क्योकि ये बड़ा ही लोकप्रिय इंग्लिश वर्ड है। पर क्या आपको crush का हिंदी अर्थ-मतलब (Crush Hindi Meaning) पता है? अगर नहीं जानते हैं तो यकीन मनिये आज आपको इस शब्द के बारे में बहुत कुछ जानने को मिलेगा। क्रश मीनिंग इन हिंदी 

सबसे पहले तो मैं आपको बता दूँ की crush वर्ड दो तरह से इस्तेमाल किये जाते हैं, एक verb के रूप में और दूसरा noun के रूप में। इन दोनों रूपों में इस शब्द का अलग अलग हिंदी अर्थ होता है। प्यार-महोब्बत और इश्कबाजी के क्षेत्र में इस सब्द का बहुत जादा इस्तेमाल किया जाता है और इसके बारे में भी बिस्तार से मैं बताने वाला हूँ।

सबसे पहले निचे दिए गये crush Hindi meanings पे एक नजर डालते हैं इसके बाद हम इसका डेफिनिशन देखेंगे जिससे हमे सारा माजरा समझ में आ जाये





Pronunciation (उच्चारण)
Crush – क्रश
Crush Meaning In Hindi



Noun
प्रेमाशक्ति
दबाव
जमघट
भीड़
पिसाई
क्रश
धक्का
अपघर्षण



Verb
पिशना
रौंदना
निचोड़ना
कुचलना
हराना
परास्त करना
बुरी तरह परास्त करना
प्रेमाशक्त होना
दबाना
चूर चूर करना
अधीन करना


Word forms / Inflections
Crush
Crushes
Crushing
Crushed
Definition And Hindi Meaning Of Crush


तो जैसा की ऊपर आपने देखा क्रश (Crush) का हिंदी अर्थ कई सारे होते हैं और इनमे से कुछ noun होते हैं और कुछ verb।  verb और noun के रूप में crush का हिंदी अर्थ तो आप देख के ही समझ गये होंगे लिकिन इन बहुत सारे अर्थो के अलावा भी crush का एक और मतलब होता है।

अर्थात इस शब्द का इस्तेमाल एक और तरह से किया जाता है जिसका हिंदी अर्थ एक-दो शब्दों में नहीं लिखा जा सकता है। और मुझे लगता है की आपने भी crush को इसी रूप में देखा या सुना होगा, आइये इसके बारे में जानते हैं-

दोस्तों crush वर्ड का यूज़ love यानि प्यार-मोहब्बत के क्षेत्र में क्या जाता है, आजकल के नौजवान, युवा पीड़ी इस शब्द का यूज़ साधारण बोल चाल में भी करते हैं। यहाँ पे आपको ध्यान देना होगा की प्यार से सम्बंधित crush का कुछ भी हिंदी अर्थ नहीं होता है यानि ये इंग्लिश वर्ड ही लोकप्रिय है।


 
पहले इसका यूज़ केवल विदेशो में ही करते थे लेकिन आज इंडिया में भी ये बहुत पोपलर हो चूका है।

अगर आप एक स्टूडेंट हैं तो आप अपने स्कूल या कॉलेज में जरुर ही और students से इस तरह के बातो को सुनते होंगे जैसे- वो मेरी crush है, अरे वो देख तेरी crush आ रही है, तेरा crush आज स्कूल नहीं आया है, मुझे उसपे प्यार आ गया है आदि।

यहाँ तक की सोशल मीडिया जैसे Facebook, WhatsApp, Instagram आदि पे भी इस शब्द का इस्तेमाल बहुत जादा किया जाता है। और हम जैसे भोले भाले लोग ये सोचने लग जाते हैं की crush का मतलब क्या होता है। तो आइये जानते हैं प्यार मोहब्बत से संबधित crush का हिंदी मतलब (Crush meaning related to love) क्या होता है-

Crush Meaning In Hindi Related To Love
Crush एक रोमांटिक सा शब्द है जिसे प्यार-मोहब्बत की दुनिया में बोला जाता है। Crush का मतलब होता है वो लड़का या लड़की जिससे आपको प्यार हो गया है, जिसपे आपका दिल तो आ गया है पर ये बात आपने उससे कहा नहीं है।

अकसर ऐसा होता है कोई लड़का या लड़की किसी अन्य लड़के या लड़की से प्यार करने लगते हैं पर ये बात सामने वाले को यानि जिससे प्यार कर रहे होते हैं उसे मालूम ही नहीं होता है। इस तरह का प्यार ही “crush” शब्द को जन्म देता है।

उदाहरन के तौर पर, मैं राधिका से जो की मेरी classmate हैं बहुत प्यार करता हूँ, राधिका पे मेरा दिल आ गया है पर ये बात मैंने राधिका को बताया ही नहीं है जिससे की उसे पता चले की मैं उससे प्यार करता हूँ। ऐसी स्तिथि में राधिका मेरी crush (क्रश) हुई।

जैसा की crush के कई सारे हिंदी अर्थ होते हैं पर ये प्यार-मोहब्बत के विषय में crush का हिंदी प्रेमाशक्ति होता है पर कोई भी इस हिंदी शब्द का उपयोग नहीं करता बल्कि इंग्लिश वर्ड ही सबसे लोकप्रिय है।


 

 
sentence में crush शब्द का उपयोग दो तरह से किया जाता है। पहले adjective (विशेषण) के रूप में जैसे- Who is your beautiful crush in the class? (क्लास में आपका खूबसूरत क्रश कौन है)।

और दूसरा Abstract noun यानि भाववाचक संज्ञा के रूप में जैसे – I have a crush on her. (मुझे उससे प्यार है।)

तो आप समझ गये न की crush का हिंदी मतलब क्या है, किसे crush कहते हैं, कौन होता है crush? वैसे, crush का मतलब नई जवानी का  पहला पहला प्यार होता है पर साधारण तौर पे ज्यादातर केस में crush शब्द का तात्पर्य उस लड़के या लड़की से होता है जिसे ये मालूम नहीं होता है की उससे कोई प्यार करता है यानि किसी का दिल आ गया है।


 
ये केवल एकतरफे प्यार में ही होता है क्योकि इसमे एक ही तरफ से (किसी लड़का या लड़की द्वारा) मन ही मन किसी को चाहा जाता है पर उसे बताया नहीं गया होता है।


Crush और Love में अंतर (Difference between crush and love)
बहुत सारे लोग ये सोचते हैं की Crush और Love दोनों में कोई अंतर नहीं है यानि ये दोनों एक ही चीज़ है परन्तु गहराई से समझा जाये तो Crush और love (प्यार) में बहुत जादा अंतर है। आइये इसे कुछ points के जरिये समझते हैं-

1. लव यानि प्यार एक अहसास है और प्यार में किसी एक चीज़ से अट्रैक्शन नहीं होता है जबकि crush में ऐसा होता है की लोग किसी के अंग, रूप, आवाज, के वजह से आकर्षित होते हैं और और मन ही मन उसे चाहने लगते हैं।

2. जब किसी को किसी पे crush आ जाता है तो वो उसे impress करने की कोसिस करता है। जैसे मान लीजिये आपको ही किसी लड़की पे क्रश आ गया है तो आप उसे पटाने की कोसिस करेंगे। आप अछे अछे कपडे पहनेंगे, Stylish बनने की कोसिस करेंगे, अपने वास्तविक रहन सहन को छोड़ acting करेंगे ताकि वो लड़की आपसे इम्प्रेस हो जाये। परन्तु love में ऐसा कुछ भी नहीं होता है। प्यार में वास्तविक चीज़े होती है न की दिखावा।

आप जिससे से मन से प्यार करते हैं उसके सामने आप बिल्कुल original रहते हैं, बिलकुल वही जो आप सच में हैं। प्यार में एक दुसरे के बातो को शेयर किया जाता है और कुछ छुपाया नही जाता।

3. Crush में लोग जल्दीबाजी करते हैं, पल भर में ही किसी पे क्रश आ जाता है और ये जादा समय तक टिकता भी नहीं है क्योकि यह एक attraction है किसी के अंग, रूप रंग के वजह से। पर प्यार निर्माण होने वाला चीज़ है, यह एक fealing है जो समय के साथ और बढ़ते जाता है, अतः इसमे समय लगता है।

4. क्रश को प्यार में बदला जाता सकता है। अर्थात जब आपको किसी पे crush आ जाता है तो यह जरुरी नहीं है की सामने वाला या वाली आपकी क्रश ही रह जाएगी। आप चाहते तो इसे love में तप्दिल कर सकते हैं। जैसे- अगर आप उसे propose करेंगे और वो मान जाएगी, आप दोनों का बात चित होने लगेगा, एक दुसरे को समय देने लगेंगे, एक दुसरे की भावनाओ को समझने लगेंगे, उनकी ख़ुशी में आपको खुशी का एहसास होगा, उनकी दुःख से आपका भी दिल उदास होगा और रोयेगा तब यह आप दोनों के बिच सचा प्यार होगा।

crush meaning in hindi
Crush Hindi Meaning  |  
 





दोस्तों आजकल स्कूलों कॉलेजों में कुछ रोमान्टिक शब्दों का व्यवहार बहुत ज्यादा है ।

और इसका सोर्स खासकर सोशल मीडिया ही है ।

दोस्तों की मटरगश्ती में अक्सर ये शब्द एक दूसरे पर फेंके जाते हैं और

कुछ तो इनको समझ लेते हैं वहीं दूसरी ओर

कुछ दोस्त समझ भी नहीं पाते और दोस्तों के मजाक का पात्र भी

बन जाते हैं ।

क्रश भी एक ऐसा शब्द है ।

क्रश का मतलब होता है, वो लड़का या लड़की, जिसपर आपका दिल आया हुआ हो, लेकिन आपने उससे ऐसा कहा नहीं हो ।
वैसे तो इस शब्द का मतलब होता है नई जवानी का पहला प्यार ।

लेकिन फिर भी आजकल खासे जवान लोगों के प्यार को भी क्रश कहा जाने लगा है, खासकर तब

जबकि वो इसका इजहार नहीं कर रहे हों, लेकिन दिल में पाले हुए हों ।

तो दोस्तों समझ गए ना क्रश का मतलब ?

इस शब्द का प्रयोग दो तरह से होता है ।

एक तो adjective के तौर पर । जैसे

Who is your only crush in this group?

इस ग्रुप में तुम्हारा इकलौता क्रश कौन है ?

दूसरा -एक भाववाचक संज्ञा के रूप में -

I have crush upon you.

मुझे तुमपर प्यार आ गया है ।

यदि आपको ये लेख पसन्द आया हो और आप ऐसे ही मनोरंजक लेख आगे भी पढ़ना चाहते हों तो सब्स्क्राइब बटन दबाएँ ।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे