26 January Bhashan In Hindi गणतंत्र दिवस भाषण 2022 ! Republic Day 2022 Speech in Hindi For School Students | HindiShayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

26 January Bhashan In Hindi गणतंत्र दिवस भाषण 2022 ! Republic Day 2022 Speech in Hindi For School Students | HindiShayarih

Republic Day Speech 2022 – गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022 . गणतंत्र दिवस पर स्कूली छात्रों के लिए हिंदी में भाषण। 26 january 2022 panchang



26 January Bhashan In Hindi गणतंत्र दिवस भाषण 2022 ! Republic Day 2022 Speech in Hindi For School Students
26 जनवरी 2022 भाषण  





गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022 : – 26 जनवरी 1950 को हमारे देश का सविधान लागू किया गया था। तब से प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में हर सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों में बड़े उत्साह के साथ गणतंत्र दिवस को सेलेब्रेट किया जाता है। भारत के इतिहास में Republic Day का एक खास महत्व है क्योकिं भारतीय स्वतंत्रता से जुड़ी सभी संघर्षों के बारे में गणतंत्र दिवस में बताया जाता है। गणतंत्र दिवस के उपलक्ष में स्कूलों और कॉलेजों में भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से 26 जनवरी पर भाषण संबंधित सभी जानकारी प्रदान करेंगे। अगर आप भी रिपब्लिक डे के दिन भाषण प्रतियोगिताओं में भाग लेते है तो आप हमारे इस लेख के माध्यम से दी गयी जानकारी के अनुसार गणतंत्र दिवस भाषण को प्राप्त कर सकते है।


 

26 जनवरी पर भाषण हिंदी में 2022 – 26 january speech in hindi 2022
स्कूल कॉलेज में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष में भाषण प्रतियोगिता के लिए आप इस बेहतरीन भाषण को पढ़ कर प्रभावित कर सकते हैं।

आदरणीय प्रधानाचार्य जी मेरे सभी शिक्षक गण और मेरे प्यारे सहपाठियों जैसे की आप सभी को विदित होगा की, इस वर्ष भारत का 73वां गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है। आज मैं आपको रिपब्लिक डे से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपके साथ साझा करना चाहती हूँ।


26 जनवरी सन्न 1950 को देश का संविधान लागू किया गया था उसी उपलक्ष में भारत देश के प्रत्येक नागरिक के द्वारा गणतंत्र दिवस को बड़े उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है,गणतंत्र का अर्थ है जनता के द्वारा जनता के लिए शासन 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत को गणतंत्र देश के रूप में घोषित किया गया था। सभी भारतीय नागरिको के द्वारा यह दिवस बिना भेद-भाव के मनाया जाता है, हम सभी देश वासियों को भारत का नागरिक होने का गर्व है। समाज में, हमारी अलग जाति, धर्म या कई अन्य चीजें हैं जो हमें अलग करती हैं लेकिन इसकी एक व्यापक तस्वीर यह है की, हम सभी भारतीय हैं सभी भारतीयों के द्वारा एकजुट के रूप में गणतंत्र दिवस को मनाया जाता है। हमारे देश के महान स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा जो अपने मेहनत और संघर्ष की आहुति दी गयी थी उसके कारण ही भारत को पूर्ण स्वराज दिलाया गया। और इसी दिन हम पूर्ण रूप से स्वाधीन हो गए थे। उन सभी महान स्वतंत्रता सेनानियों के कारण ही आज सभी भारतीय नागरिक अपने देश में स्वतंत्रता के साथ जी रहें है।


 
हर तरफ देखो लग रहा
”जय हिन्द” का नारा है।
लिए तिरंगा हाथ में देश
झूम रहा आज सारा है
आओ की आया है ”राष्ट्र पर्व”
गणतंत्र हमारा है
नमन ”माँ भारती” तुझे
दिया राष्ट्र पर्व प्यारा है।
जय हिन्द

26 जनवरी 1950 को लार्ड माउन्ट बेटन (गवर्नर जरनल) के स्थान पर डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद जी को भारत के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में चुना गया था। भारत वर्ष में यह दिवस बड़ी उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है हर साल भारत की राजधानी दिल्ली में भारत के उपराष्ट्रपति के जी के द्वारा राजकीय सवारी निकाली जाती है। और भारतीय सेना जल थल और वायु सेना की राष्ट्पति जी के द्वारा सलामी ली जाती है। भारत के अनेक प्रांतो के लोकनिर्त्य और वेषभूषाओं और संस्कृति का प्रदर्शन किया जाता है। यह देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए लड़े युद्ध वा स्वतंत्रता आंदोलन में देश के लिए बलिदान देने वाले शहीदों के बलिदान का स्मारक है। कई वर्षों तक भारत के स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा ब्रिटिश शासन का सामना किया गया। जिसके फलस्वरूप देश को उनके चंगुल से आजाद कराया गया उनके इस बलिदान को भुलाया नहीं जा सकता है।

गणतंत्र दिवस 2022 भाषण वीडियो हिंदी में
 

गणतंत्र दिवस 2022 भाषण वीडियो हिंदी में

सबके अधिकारों का रक्षक
अपना ये गणतंत्र पर्व है।
लोकतंत्र ही मंत्र हमारा
हम सबको ही इस पर गर्व है।

गणतंत्र दिवस को एक विशेष पर्व के रूप में मनाने का मुख्य उद्देश्य है यह भारतीय संविधान का एक स्थापना दिवस है। इतिहास में भारतीय गणतंत्र दिवस का काफी रोचक है। इस उपलक्ष्य को गणतंत्र दिवस को एक सम्मान प्रदान करने के लिए प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन विशेष प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। यह भारतीय नागरिकों के जीवन का एक महत्वपूर्ण दिन है जो सभी को संविधान होने का महत्व समझाता है। भारत देश को एक लोकतान्त्रिक और गणतंत्र राष्ट्र के रूप में जाना जाता है भारत में जनता के मत अनुसार ही एक शासक को चुना जाता है। जिसके फलस्वरूप चुने गए शासक को सत्ता की कुर्सी पर बिठाया जाता है। अगर जनता चाहे तो वह सत्ता पे बिठाये नागरिक को उस पद से हटा भी सकते है इसी के आधार पर गणतांत्रिक देश में जनता का फैसला तर्कशील होता है।


 
26 जनवरी पर निबंध हिंदी में
 

भारत के उन सभी वीर जवानों के बलिदान से आज सभी देशवासी स्वतंत्र रूप से जी रहें है। भारतीय संविधान स्थापित होने से सभी नागरिक अपने मौलिक अधिकारों का प्रयोग बिना किसी भय के प्रयोग कर सकता है। भारतीय समाज में अलग-अलग प्रांतो और जाति समुदायों से संबंधित सभी नागरिक निवास करते है भारत एक ऐसी भूमि है जो अनेकता में एकता का एक महान दृष्टांत है। गणतंत्र दिवस को प्रत्येक भारतीय नागरिक के द्वारा बड़े उत्साह के साथ त्यौहार के रूप में मनाया जाता है ,स्कूलो में सांस्कृतिक कार्यक्रम के समारोह और अन्य प्रकार की गतिविधियों में भाग लेकर मनाया जाता है। परेड में सेना द्वारा दिखाए जाने वाले हथियार और उपकरण हमारे आर्म फोर्स की शक्ति को भी गणतंत्र दिवस के उपलक्ष में दर्शाया जाता हैं।

बलिदानों का सपना जब सच हुआ
देश तभी आजाद हुआ,
आज सलाम करें उन वीरों को ,
जिनकी शहादत से भारत गणतंत्र हुआ।


 
26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर उन सभी जवानों को भी पुरस्कार और पदक से सम्मानित किया जाता है जिनके द्वारा सशस्त्र बलों का प्रयोग करके आर्म फ़ोर्स को दर्शाया जाता है। भारत के प्रधानमंत्री जी के द्वारा इन सभी बहादुर युवाओं को सम्मानित किया जाता है। इस सम्मानित पुरस्कार में उन सभी बहादुर युवाओं को शामिल किया जाता है, जिन्होंने अन्य लोगो के जीवन को भी एक नया जीवनदान प्रदान किया है।

जय बोलो उस धीर व्रती की
जिसने सोता देश जगाया है।
जिसने मिटटी के पुतलों का
वीरों का बाना पहनाया।
जिसने आजादी निकालने की एक राह निकाली
और स्वम उस पर चलने में जिसने अपना शीश झुकाया






गणतंत्र दिवस भाषण  - Republic Day Speech in Hindi For School Students 
गणतंत्र दिवस भाषण – Republic Day Speech in Hindi For School Students


इस भाषण की पीडीएफ यहाँ से डाउनलोड करें

Republic Day 2022 Speech in Hindi For School Students
स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में 26 जनवरी का अपना विशेष महत्व है। पंडित जवाहर लाल नेहरू की के द्वारा सन्न 1930 में रावी नदी के तट पर कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में पूर्ण स्वतंत्रता की घोषणा की गयी। जवाहर लाल नेहरू जी के द्वारा इस दिन यह प्रतिज्ञा ली गयी थी की जब तक भारत के वासियो को स्वतंत्रता की प्राप्ति नहीं हो जाती तब तक यह स्वतंत्रता आंदोलन को जारी रखा जायेगा। इन सभी संघर्षों के साथ स्वतंत्रता की प्राप्ति के लिए कई महान वीरों को अपना बलिदान भी देना पड़ा। जिनके बलिदान को आज भी भारत के नागरिको के द्वारा भुला नहीं गया है। धर्मनिरपेक्ष ,समाजवादी और लोकतान्त्रिक गणराज्य भारत का संप्रभु 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया। इस उपलक्ष के अवसर पर प्रत्येक वर्ष राष्ट्रपति जी के द्वारा दिल्ली के राजपथ पर राष्ट्र ध्वजारोहण किया जाता है। और इसके बाद राष्ट्रगान को शुरू किया जाता है।


26 january 2022 speech in hindi
26 january 2022 speech in hindi

इसी प्रकार 26 जनवरी 1950 को देश में अपना संविधान ,अपनी सरकार ,अपना राष्ट्रपति और राष्ट्रीय ध्वज हो जाने पर भारत वर्ष विश्व का सबसे बड़ा गणतंत्र राष्ट्र बन गया।



”वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये,
रिश्ता ऐसा न कोई हमारा तोड़ पाये ,
दिल एक है एक है जान हमारी,
हिदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है

अब मैं अपने शब्दों को यही पर विराम देना चाहती हूँ और सभी का भाषण सुनने के लिए तह दिल से धन्यवाद करना चाहती हूँ। जय हिन्द जय भारत


 
26 जनवरी भाषण PDF यहाँ से डाउनलोड करें


Republic Day को हिंदी में क्या बोलते हैं ?
Republic Day को हिंदी में गणतंत्र दिवस बोलते हैं।

26 जनवरी को हमारे देश का कौन सा राष्ट्रीय त्यौहार है ?
26 जनवरी को भारत में गणतंत्र दिवस को राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाया जाता है।

Republic Day का अर्थ ?
Republic Day का अर्थ गणतंत्र दिवस होता है।


 
26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में क्यों मनाते हैं ?
क्योकि 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत को गणतंत्र देश के रूप में घोषित किया गया था, इसलिए 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

गणतंत्र दिवस 2022 के मुख्य अतिथि कौन हैं 
भारत 2022 में गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप मध्य एशियाई देशों के राष्ट्रपतियों को आमंत्रित करने की योजना बना रहा है 

26 जनवरी 2022 को कौन सा गणतंत्र दिवस है ?
26 जनवरी को 73 वां गणतंत्र दिवस है।

गणतंत्र दिवस का का भव्य उत्साह कहाँ मनाया जाता है ?
भारत के राजधानी दिल्ली शहर में गणतंत्र दिवस को एक शानदार उत्साह के रूप में मनाया जाता है। भारत की तीन सेनाओं को एक औपचारिक परेड के लिए उपस्थित किया जाता है यह विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम और भाषण एवं राष्ट्र्गान के साथ बड़े उत्साह उमंग के साथ मनाया जाता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे