Bike too, Even a Car… Delivery of this Podbike Vehicle will Start this Year इस साल से शुरू हो जाएगी इस पॉड जैसी गाड़ी की डिलीवरी Hindishayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Bike too, Even a Car… Delivery of this Podbike Vehicle will Start this Year इस साल से शुरू हो जाएगी इस पॉड जैसी गाड़ी की डिलीवरी Hindishayarih

नॉर्वेजियन मोबिलिटी कंपनी पॉडबाइक (Podbike) अपनी इलेक्ट्रिक बाइक-कार, ‘फ्रिकर’ (Frikar) की डिलिवरी शुरू करने की योजना बना रही है। Bike too, even a car… Delivery of this Podbike vehicle will start this year बाइक भी, कार भी... इस साल से शुरू हो जाएगी इस पॉड जैसी गाड़ी की डिलीवरी


 


नॉर्वेजियन मोबिलिटी कंपनी पॉडबाइक (Podbike) अपनी इलेक्ट्रिक बाइक-कार, ‘फ्रिकर’ (Frikar) की डिलिवरी शुरू करने की योजना बना रही है।
नॉर्वेजियन मोबिलिटी कंपनी पॉडबाइक





नॉर्वेजियन मोबिलिटी कंपनी पॉडबाइक (Podbike) अपनी इलेक्ट्रिक बाइक-कार, ‘फ्रिकर' (Frikar) की डिलिवरी शुरू करने की योजना बना रही है। कंपनी इस साल अपनी इलेक्ट्रिक बाइक-कार की पहली डिलिवरी शुरू करेगी। फ्रिकर चार पहियों वाली इलेक्ट्रिक बाइक है, जिसका डिजाइन यूनीक है। कंपनी ने 3.2 मिलियन यूरो (3.64 मिलियन डॉलर) की फंडिंग भी जुटाई है। Frikar को एक ऐसे व्‍हीकल के तौर पर डेवलप किया जा रहा है, जो खराब मौसम में भी बेहतर सुरक्षा देता है। ड्राइविंग का अनुभव बेहतर बनाने के लिए इसमें एयरोडाइनैमिक डिजाइन है। इलेक्ट्रिक बाइक-कार का टॉप गाड़ी से अलग हो जाता है। इससे यह कार गर्मियों के लिए भी एक बेहतरीन व्‍हीकल बन जाती है। Frikar एक सिंगल सीटर व्‍हीकल है। हालांकि इसमें एक चाइल्‍ड पैसेंजर सीट भी बनाई जा सकती है। 

Frikar को पहले ही 3,400 से ज्‍यादा प्री-ऑर्डर मिले हैं। यह प्री-ऑर्डर 300 यूरो जमा करके किया जा सकता है। जबकि इस इलेक्ट्रिक बाइक-कार के दाम 6,429 यूरो हैं। Frikar की पहली डिलीवरी कंपनी के घरेलू मार्केट में की जाएगी। बाद में इसे यूरोप के बाकी हिस्सों और दूसरे देशों में भी डिलिवर किया जाएगा। तकनीकी रूप से Frikar को एक इलेक्ट्रिक साइकिल के रूप में नॉमिनेट किया गया है। 

Frikar में पैडल भी लगे हैं। इसके जरिए बाइक-कार को स्‍पीड बढ़ाने के लिए ताकत मिलती है। फ्रिकर के प्रभावशाली डिजाइन और फीचर्स से ऐसा लगता है कि यह बाइक-कार बहुत जल्‍द लोगों को पसंद आ सकती है। इसकी टॉप स्‍पीड 25km/h है, जिसे पैडल के जरिए बिजली पैदा करते समय मैनुअली  बढ़ाया जा सकता है। हकीकत में Frikar कंपनी की ओर से एक नायाब ऑफर है। 

गौरतलब है कि भारत समेत दुनियाभर के देशों में इलेक्ट्रिक व्‍हीकल्‍स को अपनाया जा रहा है। आसमान छूती पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें, भारतीय कंपनियों की इलेक्ट्रिक कार सेगमेंट में धमाकेदार एंट्री समेत लोगों द्वारा इलेक्ट्रिक कार (Electric Cars in India) की ओर बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं। कुछ समय पहले तक भारतीय बाज़ार में इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicle) का आभाव था, लेकिन यदि आप आज की बात करें, तो Tata, Mahindra समेत कई वाहन निर्माता कंपनियों ने देश में जबरदस्त इलेक्ट्रिक कार लॉन्च कर दी हैं। यहां तक कि Mercedes, Volvo, Hyundai और देश के दूसरे सबसे अमीर आदमी Elon Musk की Teslta अपनी कई प्रीमियम इलेक्ट्रिक कार भारत लाने की तैयारी में हैं।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे