CES 2022: This tractor of John Deere will run without a driver CES 2022: बिना ड्राइवर के चलेगा जॉन डीरे का यह ट्रैक्टर, स्मार्टफोन से होगा कंट्रोल सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

CES 2022: This tractor of John Deere will run without a driver CES 2022: बिना ड्राइवर के चलेगा जॉन डीरे का यह ट्रैक्टर, स्मार्टफोन से होगा कंट्रोल

CES 2022: बिना ड्राइवर के चलेगा जॉन डीरे का यह ट्रैक्टर, स्मार्टफोन से होगा कंट्रोल CES 2022: This tractor of John Deere will run without a driver, will be controlled with a smartphone यह ऑटोनोमस स्टीयरिग किट में ट्रैक्टर के चारों ओर के व्यू के लिए छह स्टीरियो कैमरों का इस्तेमाल किया गया है। इस सेट को मशीन विज़न एल्गोरिदम के साथ जोड़ा गया है, जिसके जरिए यह ट्रैक्टर के सामने आने वाली बाधाओं से उसे बचाने का काम करेगा।


CES 2022: This tractor of John Deere will run without a driver CES 2022: बिना ड्राइवर के चलेगा जॉन डीरे का यह ट्रैक्टर, स्मार्टफोन से होगा कंट्रोल
CES 2022: This tractor of John Deere will run without a driver CES 2022: बिना ड्राइवर के चलेगा जॉन डीरे का यह ट्रैक्टर, स्मार्टफोन से होगा कंट्रोल




ऑटोनोमस ड्राइविंग (Autonomous Driving), यानी बिना ड्राइवर के किसी वाहन को चलाने वाली टेक्नोलॉजी के ऊपर अब ज़ोर-शोर से काम चल रहा है। ऐसा प्रतीत होता है साल 2022 इसी टेक्नोलॉजी के नाम होगा। टेक्नोलॉजी के सबसे बड़े इवेंट CES में इस साल कई बड़े वाहन निर्माता कंपनियों व स्टार्टअप्स ने इस टेक्नोलॉजी के कई रूप दिखाए हैं। उन्हीं में से एक John Deere भी है, जो खेती से जुड़े उपकरण व ट्रैकटर के लिए जानी जाती है। कंपनी ने CES 2022 में ऑटोनोमस स्टीयरिंग ट्रैकटर (Autonomous steering tractor) की घोषणा की है। कंपनी ने एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में इस टेक्नोलॉजी से संबंधित सभी जानकारियां मुहैया कराई है।





John Deere ने अपने YouTube चैनल पर CES 2022 में हुई कॉन्फ्रेंस का वीडियो शेयर किया है। कंपनी ने जानकारी दी है कि पूरी तरह से स्वायत्त ट्रैक्टर  इसमें लगे GPS-संचालित ऑटो-स्टीयर फीचर के साथ मशीन लर्निंग का इस्तेमाल करता है। किसान अपने अन्य कामों को पूरा करते हुए इस ट्रैक्टर को दूर से भी मॉनिटर कर सकता है। इसका मतलब है कि किसान ट्रैक्टर के स्टीयरिंग को बिना पकड़े अन्य काम करते हुए ट्रैकटर को चला सकता है, या ट्रैकटर से उतर कर उसे पूरी तरह से खुद से चलने के लिए छोड़ सकता है, या अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर इसे दूर से भी मॉनिटर कर सकता है।



John Deere का कहना है कि कंपनी इस टेक्नोलॉजी पर लंबे समय से काम कर रही थी और यह ट्रैकटर प्रोटोटाइप नहीं है, बल्कि इसका उत्पादन जल्द शुरू किया जाएगा।



निश्चित तौर पर यह टेक्नोलॉजी किसानों के बेहद काम आ सकती है। यह न केवल किसानों का काम आसान करेगी, बल्कि काफी समय भी बचाएगी। ऑटो-स्टीयर (Auto-steer) सिस्टम में किसान अपने क्षेत्र की सीमा को बीकन (लाइट) से या ट्रैक्टर को एक बार उस सीमा के चारो और चला कर सेट कर सकता है। इसके बाद यह ट्रैकटर खुद से तय सीमा पर काम करना शुरू कर देगा। इसे आगे कंट्रोल या मॉनिटर करने के लिए कंपनी द्वारा विकसित एक खास सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा सकता है, जिसके जरिए किसान अपने स्मार्टफोन से ट्रैकटर के रूट को बदल सकता है या उसे रोक सकता है।



यह ऑटोनोमस स्टीयरिग किट में ट्रैक्टर के चारों ओर के व्यू के लिए छह स्टीरियो कैमरों का इस्तेमाल किया गया है। इस सेट को मशीन विज़न एल्गोरिदम के साथ जोड़ा गया है, जिसके जरिए यह ट्रैक्टर के सामने आने वाली बाधाओं से उसे बचाने का काम करेगा। 




 ऑटोनोमस ड्राइविंग,ऑटोनोमस ड्राइविंग टेक,ऑटोनोमस ड्राइविंग ट्रैक्टर,john deere,john deere & co,john deere autonomous steering tractor,autonomous,autonomous driving,autonomous driving project,autonomous driving systems,autonomous driving software,autonomous driving technology,autonomous driving tractor

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे