Mazout Electric Engineering Students Made Electric Cruiser Bike, 350 Km Range and Top Speed of 120 Kmph छात्रों ने बनाई इलेक्ट्रिक क्रूजर बाइक-HindiShayairh सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mazout Electric Engineering Students Made Electric Cruiser Bike, 350 Km Range and Top Speed of 120 Kmph छात्रों ने बनाई इलेक्ट्रिक क्रूजर बाइक-HindiShayairh

Mazout Electric वर्तमान में मोटरसाइकिल में 25kWh बैटरी पैक फिट करने पर काम कर रही है, जो लंबी राइडिंग रेंज पेश करेगी। यदि Mazout Electric ऐसा करने में सफल होती है, तो मोटरसाइकिल की रेंज 300-350 किलोमीटर के बीच होगी। 


इंजीनियरिंग के छात्रों ने बनाई इलेक्ट्रिक क्रूजर बाइक 350 किमी रेंज और 120 किमी प्रति घंटे की टॉप स्पीड! Mazout Electric Engineering Students Made Electric Cruiser Bike, 350 Km Range and Top Speed of 120 Kmph
 इंजीनियरिंग के छात्रों ने बनाई इलेक्ट्रिक क्रूजर बाइक 350 किमी रेंज और 120 किमी प्रति घंटे की टॉप स्पीड! Mazout Electric Engineering Students Made Electric Cruiser Bike, 350 Km Range and Top Speed of 120 Kmph 




इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स (Electric Two Wheeler) मार्केट में एक के बाद एक नए स्टार्टअप कदम रहे हैं। इस सेगमेंट में पिछले कुछ समय  से मांग भी बढती नज़र आ रही है। न केवल दिग्गज टू-व्हीलर कंपनियां, बल्कि अब इस मार्केट में छात्र भी अपना हाथ आज़माना चाहते हैं। इसी का उदाहरण है Mazout Electric, जिसे Delhi Technical University (DTU) के छात्रों की एक टीम ने शुरू किया है। इस टीम ने भारत की पहली AI (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) से लैस इलेक्ट्रिक क्रूज़र मोटरसाइकल (Electric motorcycle) बनाई है। टीम आने वाले समय में TVS, Bajaj, Ola, Hero Electric जैसे कई मौजूदा दिग्गजों को टक्कर देने के लक्ष्य से मैदान में उतरी है। Mazout इलेक्ट्रिक बाइक (electric bike) की सबसे बड़ी खासियत इसकी लॉन्ग रेंज और तगड़ी पावर होगी। टीम का दावा है कि भविष्य में यह इलेक्ट्रिक बाइक सिंगल चार्ज में 350 km तक की दूरी तय करने में सक्षम होगी। इसकी टॉप स्पीड 120 kmph बताई गई है।


Mazout Electric को DTU के इंजीनियरिंग छात्रों की एक टीम ने बनाया है। Mazout ने इस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस इस पहली इलेक्ट्रिक क्रूज़र मोटरसाइकिल का डिज़ाइन कुछ हद तक Suzuki Intruder से मेल खाता है। टीम की ऑफिशियल Websiteपर इस इलेक्ट्रिक बाइक की कुछ जानकारियां भी उपलब्ध हैं। यह इलेक्ट्रिक क्रूज़र बाइक फुल चार्ज पर 350 किलोमीटर की रेंज दे सकती है। बाइक की टॉप स्पीड 120km/h है।

Electric Vehicles नाम के एक YouTube चैनल ने Mazout की टीम के एक मेंबर का इंटरव्यू भी लिया है, जहां इस बाइक के बारे में सभी जानकारी दी गई हैं। इसके अलावा, इस वीडियो में इस बाइक के डिज़ाइन को भी पूरी तरह से देखा जा सकता है। वीडियो में दिख रही मोटरसाइकिल असल में उनका दूसरा प्रोटोटाइप है और वे फिलहाल मोटरसाइकिल के सॉफ्टवेयर पार्ट पर काम कर रहे हैं। फिलहाल इस बाइक का नाम Mazout रखा गया है, लेकिन टीम मेंबर का कहना है कि अंतिम मॉडल के लॉन्च तक इसका नाम बदला जा सकता है।

टीम वर्तमान में मोटरसाइकिल में 25kWh बैटरी पैक फिट करने पर काम कर रही है, जो लंबी राइडिंग रेंज पेश करेगी। यदि Mazout Electric ऐसा करने में सफल होती है, तो मोटरसाइकिल की रेंज 300-350 किलोमीटर के बीच होगी। यह बाइक AC और DC फास्ट चार्जिंग सपोर्ट करेगी और बैटरी पैक को 6 घंटे में 0-100 प्रतिशत चार्ज किया जा सकेगा।

फिलहाल इसकी सटीक कीमत को लेकर कोई जानकारी मुहैया नहीं कराई गई है, लेकिन वीडियो में टीम मेंबर को बात करते हुए सुना जा सकता है, जहां उन्होंने कहा है कि लॉन्ग रेंज कस्टम बैटरी पैक के चलते बाइक की कीमत ज्यादा हो सकती है। उन्हें उम्मीद है कि कीमत 3 लाख रुपये से 3.5 लाख रुपये के बीच हो सकती है।



mazout electric,बाइकमैजआउट इलेक्ट्रिक बाइक, mazout electric motorcycle,मैजआउट इलेक्ट्रिक  mazout electric bike,electric bikes in 2022,electric bikes in india,electric bikes news,मैजआउट इलेक्ट्रिक मोटरसाइकल,

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे