Ott War: Now Voot and Ullu App Ott War: अब वूट और उल्लू ऐप ने ओटीटी प्रतियोगिता में मिलाया हाथ, कल से दिखेगी ये धमाकेदार सीरीज सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Ott War: Now Voot and Ullu App Ott War: अब वूट और उल्लू ऐप ने ओटीटी प्रतियोगिता में मिलाया हाथ, कल से दिखेगी ये धमाकेदार सीरीज

  Ott War: अब वूट और उल्लू ऐप ने ओटीटी प्रतियोगिता में मिलाया हाथ, कल से दिखेगी ये धमाकेदार सीरीज Ott War: Now Voot and Ullu App have joined hands in OTT competition, this explosive series will be seen from tomorrow



Ott War: Now Voot and Ullu App Ott War: अब वूट और उल्लू ऐप ने ओटीटी प्रतियोगिता में मिलाया हाथ, कल से दिखेगी ये धमाकेदार सीरीज
Now Voot and Ullu App




भारतीय डिजिटल मनोरंजन बाजार ने ओटीटी कारोबार के दूसरे चरण में प्रवेश कर लिया है। मनोरंजन सामग्री बनाने वाली तमाम कंपनियों और उनके ओटीटी के दूसरे ओटीटी से समझौता होने की शुरुआत आल्ट बालाजी और जी5 के साथ हुई। इसके बाद जी और सोनी के विलय का कदम आगे बढ़ा। और, अब अरसे से अपना दर्शक वर्ग तलाशने की कोशिश कर कर रहे उल्लू ऐप ने वूट के साथ हाथ मिला लिया है। इस नए समझौते के तहत उल्लू ऐप पर दिखाई जाती रहीं सौ के करीब वेब सीरीज अब वूट पर भी मुफ्त में देखी जा सकेंगी। हिंदी में बनी इन वेब सीरीज को तमाम दूसरी भारतीय भाषाओं में भी दिखाने की तैयारी है।




पांचाली ullu series
ये कहानियां दरअसल एक दूसरे ओटीटी उल्लू की लाइब्रेरी से खंगाली गई हैं। जानकारी के मुताबिक वूट और उल्लू के बीच तीन साल की एक्सक्लूसिव डील हुई है। इस समझौते के तहत वूट को उल्लू की लाइब्रेरी के उन तमाम शोज को अपने प्लेटफॉर्म पर दिखाने का मौका मिलेगा इनकी शुरुआत जनवरी महीने में दिखाए जाने वाले 10 ऐसे शोज से होगी, जिन्हें एक बार देखना शुरू करने के बाद दर्शक इन्हें बीच में छोड़ना नहीं चाहेगा। इनमें से अस्सी नब्बे पूरे सौ, पांचाली, सायनाइड और 26 जनवरी जैसे शो का प्रसारण 14 जनवरी से शुरू हो जाएगा। जबकि पेशावर, पेपर, द बुल ऑफ दलाल स्ट्रीट, तड़प और प्रतीक्षा जैसी वेब सीरीज वूट ऐप पर 21 जनवरी से उपलब्ध होंगी।



 
अस्सी नब्बे पूरे सौ - फोटो  ullu series
वॉयकॉम18 के ओटीटी प्लेटफॉर्म वूट में इन दिनों बदलाव की बयार है। वेब सीरीज ‘इल्लीगल 2’ के बाद से इसके पक्ष में बने माहौल के बाद ये ओटीटी नित नये शोज की प्लानिंग कर रहा है और इसका नया शो ‘रंजिश ही सही’ ने भी दर्शकों के बीच काफी उत्सुकता जगाई है। ये सीरीज चर्चित फिल्म निर्देशक महेश भट्ट के उस समय की सुपरस्टार हीरोइन परवीन बाबी के साथ उनके रिश्तों पर बनी है। सीरीज के रचयिता भी महेश भट्ट ही हैं। परस्त्री से संबंधों की सीरीज ‘रंजिश ही सही’ के प्रसारण के साथ ही वूट पर ऐसे रिश्तों पर बनी कुछ और चौंकाने वाली कहानियां भी 14 जनवरी से प्रसारित होने वाली हैं।
 

 




 
26 जनवरी ullu series  
वूट ऐप का इस बारे में कहना है कि उल्लू ऐप की ये सामग्री अपने ऐप पर लाकर वूट अपने दुनिया भर में फैले दर्शकों को मनोरंजक औऱ बांधकर रखने वाली मनोरंजन सामग्री पेश करने की कोशिश कर रहा है। इससे उनकी लाइब्रेरी का विस्तार होगा और ग्राहकों की नित नए शोज की मांग भी ऐप प्रबंधन इस तरह से पूरी कर सकेगा। इस साझेदारी के जरिये वूट का इरादा अपना एवीओडी (एडवर्टाइजिंग लेड वीडियोज ऑन डिमांड) को सेक्शन को मजबूत करने का है। इस तरह की वेब सीरीज दर्शकों को मुफ्त में देखने को मिलती हैं। इसके बदले ओटीटी प्रबंधन ग्राहकों का मेटा डाटा अपने पास स्टोर करता है और उनकी पसंद के हिसाब से उन्हें और तमाम चीजें दिखाता है। इन सीरीज के बीच में विज्ञापन भी चलते रहते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे