Top South Movies On Ott 2022: ये हैं ओटीटी पर दक्षिण भारत की उपस्थिति 5 बेहतरीन फिल्में, वीकेंड शुरू हो चुका है, तो देखने का प्लान करें HindiShayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Top South Movies On Ott 2022: ये हैं ओटीटी पर दक्षिण भारत की उपस्थिति 5 बेहतरीन फिल्में, वीकेंड शुरू हो चुका है, तो देखने का प्लान करें HindiShayarih

 Top South Movies On Ott: These are the South India's presence on OTT 5 best movies, weekend has started, so plan to watch ओटीटी पर शीर्ष साउथ फिल्में: ये हैं ओटीटी पर दक्षिण भारत की उपस्थिति 5 बेहतरीन फिल्में, वीकेंड शुरू हो चुका है, तो देखने का प्लान करें

 
 
Top South Movies On Ott: These are the South India's presence on OTT 5 best movies, weekend has started, so plan to watch ओटीटी पर शीर्ष साउथ फिल्में: ये हैं ओटीटी पर दक्षिण भारत की उपस्थिति 5 बेहतरीन फिल्में, वीकेंड शुरू हो चुका है, तो देखने का प्लान करें
Top South Movies





Top South Movies 
 
साउथ की ब्लॉकबस्टर फिल्म पुष्पा तो आपको खूब पसंद आई होगी। फिल्म में अल्लू अर्जुन के एक्शन सीन ने लोगों का दिल जीत लिया है। वैसे साउथ की फिल्मों की पॉपुलैरिटी का अंदाजा तो आपको यूट्यूब पर ही मिल जाएगा। अब आज शनिवार है, लगभग सभी जगह वीकेंड कर्फ्यू लगा हुआ है ऐसे में हमने आपके मनोरंजन का पूरा बंदोबस्त कर दिया है। घर बैठे उठाइए मोबाइल और ओटीटी पर देख डालिए ये पांच बेहतरीन साउथ की फिल्में...



 
 
कर्णन
ओटीटी- प्राइम वीडियो
फिल्म 'कर्णन' को तमिल निर्देशक मारी सेल्वराज ने निर्देशित किया है। इसमें धनुष, लाल पॉल, योगी बाबू, नटराजन सुब्रमण्यम, राजिशा विजयन, गौरी जी किशन और लक्ष्मी प्रिया चंद्रामौली जैसे कलाकार अहम किरदारों में हैं। कहानी एक गांव की है, जहां समाज से उपेक्षित निम्न जाति के लोग रहते हैं। फिल्म मनोरंजन करने के साथ ही मजबूत सामाजिक संदेश भी देती है। इसे आप प्राइम वीडियो पर देख सकते हैं
 

 
कुरुप
ओटीटी- नेटफ्लिक्स
श्रीनाथ राजेंद्रनी के निर्देशन में बनी मलयालम फिल्म 'कुरुप' को हिंदी, तमिल, तेलुगू और कन्नड में डब करके रिलीज किया गया है। क्राइम-थ्रिलर फिल्म 'कुरुप' में लीड रोल दुलकर सलमान ने किया है। इसमें उनके अभिनय की हर तरफ तारीफ हुई है। इसे नेटफ्लिक्स पर देखा जा सकता है।



 
मिन्नल मुरली
नेटफ्लिक्स
टोविनो थॉमस अभिनीत मलयालम सुपरहीरो की फिल्म मिन्नल मुरली नेटफ्लिक्स पर है। यह फिल्म एक छोटे से शहर के एक दर्जी के बारे में है, बिजली के बोल्ट का झटका लगने बाद वह सुबह सुपरपावर के साथ जागता है। फिल्म को सोफिया पॉल ने प्रोड्यूस किया है, जबकि कहानी और पटकथा अरुण अनिरुद्धन और जस्टिन मैथ्यू ने लिखी है। 
 

 
मास्टर
ओटीटी- प्राइम वीडियो
डायरेक्टर लोकेश कंगराज के निर्देशन में बनी फिल्म 'मास्टर' में साउथ सिनेमा के दो बड़े सुपरस्टार्स विजय और विजय सेतुपति के साथ मालविका मोहनन, शांतनु भाग्यराज, अर्जुन दास, एंड्रिया और नासर अहम रोल में हैं। इसे अमेजन प्राइम वीडियो पर देखा जा सकता है। फिल्म ने 223 करोड़ रुपये का कलेक्शन किया गया था।


 
परियेरम पेरूमल
ओटीटी-अमेजन प्राइम
2018 में रिलीज हुई ये फिल्म एक लॉ स्टूडेंट और उसके प्यार की कहानी है। नीची जाति से संबंध रखने वाले लड़के को अपनी क्लासमेट से दोस्ती हो जाती है जोकि ऊंची जाति की होती है। फिल्म में ज़िंदगी के वे तमाम पहलू दिखाए गये हैं जिनका सामना हम रोज करते हैं। ये शानदार फिल्म आप अमेजन प्राइम पर देख सकते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब