UPSSSC Lekhpal Vacancy 2022 Notification: उत्तर प्रदेश लेखपाल भर्ती 2022 के लिए नोटिफिकेशन जारी Hindishayarih सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

UPSSSC Lekhpal Vacancy 2022 Notification: उत्तर प्रदेश लेखपाल भर्ती 2022 के लिए नोटिफिकेशन जारी Hindishayarih

UPSSSC Lekhpal Vacancy 2022 Notification: जो भी उम्मीदवार इस भर्ती परीक्षा में इच्छुक हैं, वह यूपीएसएसएससी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर नोटिफिकेशन को देख सकते हैं और इसे डाउनलोड भी कर सकते हैं। UPSSSC Lekhpal Notification 2022: उत्तर प्रदेश लेखपाल भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी, यहां देखें पूरा शेड्यूल







UPSSSC Lekhpal Notification 2022: सरकारी  नौकरी की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों के लिए बड़ी खबर सामने आई है। उत्तर प्रदेश अधिनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपीएसएसएससी) ने लेखपाल भर्ती परीक्षा के लिए नोटिफिकेशन को जारी कर दिया है। यूपीएसएसएससी द्वारा इस भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 7 जनवरी 2022 से शुरू की जाएगी। इस नोटिफिकेशन को आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया गया है। जो भी उम्मीदवार इस भर्ती परीक्षा में इच्छुक हैं, वह यूपीएसएसएससी की आधिकारिक वेबसाइट upsssc.gov.in पर जाकर नोटिफिकेशन को देख सकते हैं और इसे डाउनलोड भी कर सकते हैं। 



UPSSSC Lekhpal Recruitment 2022: 8085 पदों पर होगी भर्तियां
उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के द्वारा लेखपाल भर्ती के माध्यम से कुल 8085 रिक्त पदों पर भर्ती की जाएगी। आधिकारिक नोटिफिकेशन के अनुसार इस भर्ती के लिए आवेदन की प्रक्रिया 7 जनवरी 2022 से शुरू की जाएगी। वहीं, आवेदन की आखिरी तारीख 28 जनवरी 2022 तक रखी गई है। योग्य और इच्छुक उम्मीदवार इस तारीख या इससे पहले तक अपना आवेदन कर लें।



 
UPSSSC Lekhpal Recruitment 2022: लंबे समय से था इंतजार 
लेखपाल भर्ती के लिए सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले परीक्षार्थी लंबे समय से इंतजार कर रहे थे। इस भर्ती के लिए नोटिफिकेशन नवंबर 2021 में जारी होने की संभावना थी। हालांकि, प्रशासनिक कारणों के कारण इसमें विलंब हुआ। आवेदक इस बात का ध्यान रखें कि इस परीक्षा के लिए बहुत ही बड़ी संख्या में आवेदन होने की उम्मीद है। आखिरी समय में आधिकारिक वेबसाइट पर अधिक लोड होने के कारण आवेदन करने में समस्या भी आ सकती है। इसलिए सभी अपना आवेदन जल्द से जल्द कर लें। 

आयोग ने अपने नोटिफिकेशन में बताया है कि लेखपाल भर्ती के लिए आवेदन की सभी प्रक्रिया ऑनलाइन ही आयोजित की जाएगी। उम्मीदवारों को उनके आवेदन पत्र तब तक नहीं मिल पाएंगे जब तक आवेदन फीस जमा न हो जाए। 

UPSSSC Lekhpal Recruitment 2022: भर्ती का विवरण

कुल पदों की संख्या-  8085

1. सामान्य वर्ग के लिए- 3271 पद
2. ओबीसी के लिए- 2174 पद
3. ईडब्ल्यूएस के लिए- 798 पद
4. एससी वर्ग के लिए- 1690 पद
5. एसटी वर्ग के लिए- 152 पद


UPSSSC Lekhpal Recruitment 2022: शैक्षणिक योग्यता और आयु सीमा

उत्तर प्रदेश लेखपाल भर्ती के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास में किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से 12वीं पास या इसके समकक्ष योग्यता होनी चाहिए। आवेदकों की आयु सीमा न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 40 वर्ष होनी चाहिए। आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को अधिकतम आयु सीमा में नियमानुसार छूट दी जाएगी। अधिक जानकारी के लिए उम्मीदवार नोटिफिकेशन देख सकते हैं। 


UPSSSC Lekhpal Recruitment 2022: कैसे देखें नोटिफिकेशन?

1. उम्मीदवार सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट  upsssc.gov.in पर जाएं। 

2. यहां होम पेज पर दिखाई दे रहे नोटिस बोर्ड के सेक्शन में जाएं।

3. अब लेखपाल भर्ती से जुड़े लिंक पर क्लिक करें।

4. अब आपके सामने की स्क्रीन पर नोटिफिकेशन एक पीडीएफ के रूप में प्रदर्शित हो जाएगा।

5. इसे चेक कर के डाउनलोड कर लें और आगे की जरूरत के लिए इसका प्रिंट भी निकलवा लें। 

डायरेक्ट नोटिफिकेशन देखने के लिए यहां क्लिक करें। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे