Hindi Kahani Valentine’s Special 2022: गृहिणी- मीरा Kahani Ghar Ghar Ki समीर को क्यों गुस्सा आ रहा था | HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Kahani Valentine’s Special 2022: गृहिणी- मीरा Kahani Ghar Ghar Ki समीर को क्यों गुस्सा आ रहा था | HindiShayariH

Kahani Ghar Ghar Ki गृहिणी- मीरा Valentine’s Special 2022: गृहिणी- मीरा को देखकर समीर को क्यों गुस्सा आ रहा था एक ही छत के नीचे रहते हुए भी दोनों अपनेअपने हृदय में उमड़तेघुमड़ते तूफान से घिरे थे, दूसरे के भीतर चलने वाली हलचल से सर्वथा अनभिज्ञ.
डा. मंजु गुप्ता 

Kahani Ghar Ghar Ki गृहिणी- मीरा Valentine’s Special 2022: गृहिणी- मीरा
Kahani Ghar Ghar Ki गृहिणी- मीरा




Hindi Kahani गृहिणी- मीरा
समीर को फिर गुस्सा आने लगा. घर के दरवाजे पर मुसकराती मीरा को देख कर उस का मन किया कि झापड़ लगा दे, पर खीजा सा, सिर झुकाए सीधा शयनकक्ष में घुस गया. मीरा का आगे बढ़ा हाथ धीरेधीरे झुकता चला गया. पति का इस तरह नजरअंदाज कर भीतर चले जाना उसे बहुत चुभा पर मन को तसल्ली दी कि शायद अस्पताल में काम बहुत होगा.

वह सोचने लगी कि नौकरी के अंदरूनी व बाहरी तनाव समीर को आजकल इतना थका देते हैं कि सारी मस्ती धीरेधीरे खत्म होती जा रही है. हर वक्त झल्लाया सा रहता है. वे दोनों जब से दिल्ली आए हैं, दिनोंदिन समीर बदलता जा रहा है. जाने कितना काम करवाते हैं ये अस्पताल वाले.

डाक्टर की पत्नी होने के एहसास से सराबोर पति की थकान को कम करने के विचार से मीरा माथे पर जरा सी भी शिकन लाए बिना रसोई में जा कर चाय बनाने लगी. छोटी इलायची वाली समीर की पसंद की चाय नए प्यालों में डाल, उस की प्रिय बीकानेरी भुजिया के साथ टे्र में लिए केवल 5 मिनट में शयनकक्ष में हाजिर थी.

ये भी पढ़ेंNeki Wala Ped

बिना कोई आवाज किए चाय ला कर उस ने मेज पर रख दी और इंतजार करने लगी कि समीर चाय देख कर अपनी सारी बोरियत और परेशानी भूल उसे प्यारभरी नजरों से देखेगा. फिर उस का हाथ थाम चाय के घूंट भरता हुआ दिनभर के तनाव से मुक्त हो जाएगा.

 

समीर आंखें बंद किए चुपचाप लेटा था. उसे मालूम था कि मीरा चाय लिए उस का इंतजार कर रही है. पर वह फिर खीज उठा, ‘दो मिनट हुए नहीं, चाय बना लाई. जरा इंतजार नहीं कर सकती. बिना मांगे हर चीज पहले से हाजिर, फरमाइश करने का तो कभी मौका ही नहीं देती.


‘आखिर साधारण गृहिणी है न, और काम ही क्या है. चाय बनाना, खाना बनाना, घर में बैठेबैठे झाड़पोंछ करना. जब आओ मुसकराती हुई दरवाजे पर खड़ी मिलेगी. किसी दूसरे की बीवी तो यों खड़ी नहीं होती. सब दिनभर काम कर के थकीमांदी लौटती हैं, बुझीबुझी. एक यह है कि जब देखो, तरोताजा, ओस भीगी कली सी मुसकराती मिलेगी.

‘डा. मदन बस में मजाक कर रहे थे, भई, मजे तो सिर्फ समीर के हैं. घर पहुंचते ही गुलदस्ते सी सजीधजी बीवी मुसकराती हुई हाथ से बैग ले लेगी और फिर परोसेगी मीठे चुंबनों सी गरमागरम चाय. एक हम हैं कि घर पहुंचते ही बच्चों को गृहकार्य कराओ, फिर चाय के लिए बीवी का इंतजार करो कि क्लिनिक से आ कर अपनी थकान उतारे. हम भी थके हैं, यह तो घर जाते ही भूल जाना पड़ता है. यार, रोज अकेलेअकेले चाय पीता है, कभी तो दोस्तों को भी भाभी के हाथ की चाय पिलवा दिया कर.’

समीर आगे सोचने लगा, ‘सब के सब मतलबी हैं. वह डा. बसंत रात को 10 बजे लौटता है. कई बार तो क्लिनिक में ही रात गुजारता है. फिर भी पट्ठे को मस्ती चढ़ी रहती है. कल रात को जब हम घूम कर लौटे तो मिल गया. क्या बकवास कर रहा था. सभी के बीच कह रहा था, भई, मजे तो समीर के हैं, बाकी सब तो बेकार जिंदगी गुजार रहे हैं. अपन ने तो बीवी के आगे समर्पण कर रखा है.

 

‘कल बोला, आज बच्चों में बहस चल रही थी कि हमारे कैंपस में कौनकौन से अंकल आंटियों से डरते हैं. शीना, मीना का विचार था कि यहां तो सभी अंकल आंटियों से डरते हैं. हां, चिरा के पापा के मजे हैं. रुचिरा की मम्मी उन्हें कभी डांटती नहीं. बस, समीर अंकल ही एक बहादुर और मर्द अंकल हैं.


‘उस के बाद डा. विमल की खिंचाई करने लगा, क्यों, तू अकेला खड़ा है इतनी रात में…क्या बीवी से डरना छोड़ दिया? जा, जल्दी जा, नहीं तो आज फिर घंटी बजाते रहना, दरवाजा नहीं खुलेगा सारी रात. मैडम को नींद आ रही होगी और तू डबलरोटी लाने के बहाने यारों से गपशप कर रहा है.

‘बसंत हमेशा थोड़ीबहुत तो पीए ही होता है. किसी को भी नहीं छोड़ता. सभी से छेड़खानी करता है. डा. अशोक से कह रहा था, डाक्टर साहब, आप के हिस्से में तो बम का गोला ही आया है. हमारी छत पर तो रोज ही बम विस्फोट होता है, भूकंप आता है, बिजली गिरती है और अंत में बारिश.

‘डा. देवेश और विनय को ही देखो, रोज ही रात का खाना खाने बाहर जाते हैं. दोनों की बीवियां प्राइवेट प्रैक्टिस में हैं. कमाती भी अंधाधुंध हैं और उसी हिसाब से खर्च भी हाथ खोल कर करती हैं. एक यह मीरा है, कभी कहो भी कहीं चलने के लिए तो कहेगी कि आज तो उस ने बहुत बढि़या खाना बना रखा है, फिर कभी चलेंगे. तंग आ गए रोजरोज घर का खाना खातेखाते.

‘उधर विमल को देखो, दोपहर को रोज मेरे कमरे में चला आता है और मेरे गोभी के परांठे खा जाता है. कहता है, यार समीर, कबाब तू खा, सैंडविच के साथ, परांठे इधर सरका दे. अपनी बीवी को परांठे बनाने की फुरसत भला कहां. मीरा भाभी के हाथ के परांठों में जादू है जादू.

‘हुंह, सब को दूसरे की बीवी में अप्सरा और हाथों में जादू नजर आता है.’

अंदर ही अंदर खदबदाता समीर मुंह ढक कर लेटा था. उसे उन दिनों मीरा की हर बात पर गुस्सा आता था. वे सब बातें या चीजें, जो उस की विशेषता थीं और पहले उसे अच्छी लगती थीं, अब आंखों में खटकने लगी थीं.

10 साल हो गए उन की शादी हुए. बेटी रुचिरा भी इस वर्ष 8 की हो गई थी. मीरा के साथ समीर ने एक भरपूर और सुखद वैवाहिक जीवन बिताया था. वह तो यही मानता रहा था कि वे दोनों जैसे बने ही एकदूसरे के लिए हैं.


मीरा सुंदर तो थी ही, उस का स्वभाव इतना मधुर और सरल था कि प्यार करने को दिल हो आता. परिवार के सभी सदस्यों की वह दुलारी थी. मातापिता, भैयाभाभी की तो वह आंखों की पुतली ही थी.

यों वास्तव में मीरा का कोई दोष नहीं था. बस, दोष था इस दिल्ली का, यहां की पहियों पर भागती तूफानी जिंदगी का.

2 साल से यानी जब से वह यहां के एक अस्पताल में काम करने दिल्ली आया था और मैडिकल कैंपस में रहने लगा था, सब कुछ गड़बड़ाने लगा था. वह पहले जैसा सहज नहीं रहा, सबकुछ जैसे टूटफूट गया था. चरमराने लगी थी जिंदगी और उस की सोच भी कितनी बदल गई थी.

यहां सभी महिलाएं नौकरी करती थीं. एक मीरा को छोड़ कर अन्य सभी की बीवियां डाक्टर थीं. सभी जबतब ‘फैलोशिप’ ले कर विदेश जाती रहती थीं. अस्पताल के काम के अलावा, कभी सेमिनार तो कभी कौन्फ्रैंस में व्यस्त रहतीं. कुछ प्राइवेट प्रैक्टिस करती थीं और अच्छा कमाती थीं.

सभी के घर में दोदो एअरकंडीशनर थे या हर कमरे में कूलर था. 2-3 साल में फर्नीचर या परदे बदल जाते. मियांबीवी दोनों डट कर काम करते थे, घर और बच्चे नौकरनौकरानियां संभालते.

समीर फिर सोच में डूब गया, ‘एक हम हैं, जब देखो, मीरा रुचिरा को पढ़ा रही है, सुला रही है, खिला रही है अथवा घर के काम में व्यस्त है. एक भी चीज खरीदनी हो तो चार बार सोचना पड़ता है. होटल में खाना तो हमारे लिए सपना ही है. रोजरोज दालरोटी खातेखाते तो अब ऊब होने लगती है.

‘यह ठीक है कि मीरा खाना बहुत अच्छा बनाती है, सभी तारीफ करते हैं. घर भी अच्छी तरह रखती है. लेकिन डा. मदन का घर देखो, विदेशी चीजों से भरा है. उस की बीवी साल में दोदो बार विदेश जाती रहती है. हेमंत का टैरेस गार्डन देखते ही बनता है. डा. सुनील के कैक्टस दूरदूर तक मशहूर हैं.


‘सब के बच्चे रातदिन केबल टीवी देखते हैं और एक हम हैं कि रुचिरा वीडियो देखने के लिए भी टीना के घर जाती है. चेतन के पास कितनी बढि़या नस्ल के 5 कुत्ते हैं, हमारे पास क्या है?

‘जो आता है, वही मीरा को अपने घर की चाबियां थमा जाता है. कभी अपने बच्चों को छोड़ जाता है. और कुछ नहीं हो तो कौफी या चाय पीने ही चला आता है वक्तबेवक्त. कैंपस का कोई काम हो, बस एक ही जवाब है कि मीराजी देख लेंगी. वही है न पूरे कैंपस में फालतू. अपनी बीवियों से तो कराओ नौकरी और फालतू कामों के लिए है मीरा. ये भी तो खूब है, कभी किसी काम के लिए मना नहीं करती.

‘अब तो रुचिरा भी पूछने लगी है, मम्मी, तुम अस्पताल क्यों नहीं जातीं? सब की मम्मी ड्यूटी पर जाती हैं, आप क्यों नहीं जातीं? कितनी बार कहा, कोई कोर्स ही कर लो, कुछ भी छोटामोटा, आखिर पढ़ीलिखी तो हो ही. पर शौक ही नहीं है. घर में घुसे रहना ही अच्छा लगता है.

‘सब की बीवियां कितने सलीके से रहती हैं. हमेशा टिपटौप. शक्लसूरत कुछ नहीं, पर सजीधजी रहती हैं हर समय. भई, नौकरी पर जाने वालों की बात ही कुछ और होती है, व्यक्तित्व अपनेआप ही निखर आता है.

‘मीरा आजकल मोटी भी होने लगी है. अपना ध्यान ही नहीं रखती. बाल कटाने को भी तैयार नहीं. बस, सीधी सी चोटी कर लेगी या कभी कस कर जूड़ा बांध लेगी. चेहरा कितना आकर्षक है, अगर ढंग से रहे तो सभी को मात दे सकती है.

‘समझ में नहीं आता कि मुझे क्या हो गया है? क्या चाहता हूं मैं, यह भी पता नहीं. मीरा की वे सब बातें या आदतें, जिन की दूसरे तारीफ करते हैं, मुझे जहर लगने लगी हैं. इलाहाबाद में सब कितना ठीकठाक चलता था पर दिल्ली आते ही सब जैसे गड़बड़ा गया है.


‘भई, आज की दुनिया में अन्नपूर्णा बनने की आखिर जरूरत ही क्या है? यह ठीक है कि तुम में सारे गुण हैं, पर क्या तुम बीसवीं सदी की रफ्तार के साथ नहीं चल सकतीं? आप भारतीय संस्कृति नहीं छोड़ेंगी. कितना समझाया कि मेरी चिंता करना छोड़ो, मैं अपनी देखभाल खुद कर लूंगा, लूलालंगड़ा या अपाहिज तो हूं नहीं. जरा तेजतर्रार और स्मार्ट बनो.

‘यह तो है नहीं कि मुझे दूसरों की परेशानियों का पता नहीं है. नौकरीपेशा महिलाओं की अपनी परेशानियां हैं, विवशताएं हैं. उन के घरों की हालत का भी मैं चश्मदीद गवाह हूं. किंतु जब सभी एक तरह से जी रहे हों तब कितना अजीब सा लगता है अलग ढंग से जीना.

‘डा. चेतन और उस की बीवी के शयनकक्ष अलगअलग हैं. अभी पिछले हफ्ते ही तो डा. अशोक का अपनी पत्नी से झगड़ा हुआ था. गुरदीप की बीवी रोज नाइट ड्यूटी करती है और जब वह अस्पताल जा रहा होता है तब वह घर में घुसती है.

‘डा. मनोज के बच्चे रातदिन नौकरों के बच्चों के बीच खेलते हैं. डा. विनय की आया ने चोरी करवा दी थी पिछले साल. मनोज के नौकर ने गाड़ी साफ करतेकरते जाने कब गाड़ी चला दी और डा. कुमार की गाड़ी में दे मारी. दोनों का कितना नुकसान हुआ था.

‘मीरा रुचिरा का कितना खयाल रखती है. कितनी शिष्ट और शालीन है रुचिरा, लेकिन कितनी सीधी है, कहीं मीरा जैसी ही न बन जाए.

‘इस में कोई संदेह नहीं कि पत्नी तो बस एक मीरा ही है, बाकी सब कामकाजी महिलाएं हैं, जो थोड़ाबहुत पत्नीधर्म शौकिया निबाह लेती हैं. पर मीरा अगर डाक्टर होती तो वह भी शान से कहता कि उस की पत्नी डाक्टर है.

‘शादी के समय मैं ने तो जिद की थी कि मुझे डाक्टर बीवी नहीं चाहिए. पत्नी घर में हो, जब मैं थकामांदा लौट कर आऊं. यही तो चाहता था मैं. मीरा मुझे पहली बार देखते ही पसंद आ गई थी. बिना नखरे दिखाए उस ने झट से हां कर दी थी. कैसी शांत, सुंदर, मधुर और सौम्य है मीरा. फिर मैं परेशान क्यों हूं, आखिर क्यों?’


 

समीर को सोया देख मीरा चाय ले कर रसोई में रख आई. वह यह सोच कर दुखी थी कि आज जरूर ज्यादा आपरेशन करने के कारण समीर का सिरदर्द बढ़ गया होगा. थोड़ी देर चुपचाप सोने से शायद तबीयत सुधर जाएगी.

वह रुचिरा की फ्रौक में गोटा टांकने लगी. बहुत दिनों से वह समीर में एक परिवर्तन देख रही थी. वह बातबात में खीजता था. हर वक्त झल्लाया रहता था.

मीरा अच्छी तरह जानती थी कि आज की महंगाई में एक आदमी की तनख्वाह में गुजारा करना कितना कठिन है. आएदिन किसी न किसी चीज की किल्लत पड़ी रहती थी. वह कितनी समझदारी और किफायत से घर चलाती थी पर किफायत भी तो एक सीमा तक ही संभव थी.

कई बार उस का मन होता कि एमए की परीक्षा उत्तीर्ण कर ले या कोई कोर्स वगैरह कर के नौकरी कर ले, पर समीर और रुचिरा को असुविधा होगी, यह सोच कर वह घर में ही अपने लिए नएनए काम निकालती रहती. वह सभी की मदद करने की कोशिश करती.

सभी उसे प्यार करते थे. छोटे बच्चे तो उसे घेरे ही रहते. वह दिनभर कुछ न कुछ करती ही रहती. फिर भी जब समीर का मुरझाया चेहरा देखती तो भीतर ही भीतर उदास हो जाती. तरहतरह से पूछने की कोशिश वह कर चुकी थी, पर बहुत कुरेदने पर भी समीर खुलता ही नहीं था. न जाने कौन सा घुन उस की सुखी गृहस्थी में घुस आया था.

उस ने तो समीर की खुशी में ही अपनी खुशी, अपनी जिंदगी समाहित कर दी. अब क्या कारण है कि समीर दुखी है, परेशान है? अपने कैरियर के बारे में उस ने कभी सोचा ही नहीं. चारों ओर होने वाली भागदौड़ देख कर तो वह नौकरी के बारे में कभी सोचती भी नहीं थी.

मीरा सोचने लगी, ‘कितनी शांति है उस के छोटे से घर में. कोई तूफान नहीं, जैसा कि आसपास आएदिन उठता ही रहता है. दिनभर पहियों पर सवार ये सब भागते ही रहते हैं. पर समीर को पूरी स्वतंत्रता है, चाहे जितनी देर तक अस्पताल में काम करे. वह कितना खयाल रखती है उस की पसंदनापसंद का. सभी उस से रश्क करते हैं पर फिर उस का समीर उदास क्यों रहता है?


‘क्या कारण हो सकता है समीर की उदासी का? विभाग में शायद किसी से अनबन हो गई होगी.’

इसी तरह अनापशनाप सोचतेसोचते सूई उस की उंगली में चुभ गई. खून की बूंद छलछला आई. फ्रौक वहीं छोड़ उस ने हाथ धोया पर खून रुक ही नहीं रहा था.

उस ने कस कर उंगली दबाई और ‘डेटाल’ की शीशी उठाई. तभी रुचिरा आ कर अपने नन्हेनन्हे हाथों से उस की उंगली पर पट्टी बांधने लगी. रुचिरा को प्यार कर वह रसोई में आ गई क्योंकि समीर अभी तक सोया हुआ था.

मीरा ने खाना तैयार कर के मेज सजा दी. वह इस बात से बेखबर थी कि समीर के भीतर कौन सा तूफान चल रहा है. एक ही छत के नीचे, एकसाथ रहते हुए भी दोनों अपनेअपने हृदय में घुमड़ते तूफान से घिरे थे, दूसरे के भीतर चलने वाली हलचल से सर्वथा अनभिज्ञ. समीर की बेचैनी का कारण न जानते हुए भी मीरा को उस का आभास था और वह प्राणपण से उस की परेशानी दूर करने के लिए प्रयासरत थी. अब वह पति का पहले से भी ज्यादा ध्यान रखती. हर जरूरत की चीज उस के कहने से पहले ही जुटा देती. वह कहां जानती थी कि उस की यही तत्परता समीर की व्याकुलता का मूल कारण है.





 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे