Hindi Novel Based Web Series: Must Watch This Novel Based Series on OTT on Weekend, Their Story will Surprise - HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Novel Based Web Series: Must Watch This Novel Based Series on OTT on Weekend, Their Story will Surprise - HindiShayariH

 वीकेंड पर जरूर देखें ओटीटी पर आई नॉवेल बेस्ड ये सीरीज,हैरान कर देगी इनकी कहानी: Hindi Novel Based Web Series: Must Watch This Novel Based Series on OTT on Weekend, Their Story will Surprise


Hindi Novel Based Web Series: Must Watch This Novel Based Series on OTT on Weekend, Their Story will Surprise 1 of 5
Novel Based Series




Hindi Novel Based Web Series
ओटीटी प्लेटफॉर्म पर हर तरह का कंटेंट मौजूद है। रोमांस, थ्रिलर, एक्शन, नॉवेल बेस्ड कई तरह की वेब सीरीज या फिल्में यहां देखने को मिल जाती हैं। अगर वीकेंड पर अच्छी वेब सीरीज देखने को मिल जाए तो बात ही अलग है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ वेब सीरीज के बारे में बताने जा रहे हैं , जो नॉवेल पर आधारित हैं और इनकी कहानी आपको हैरान कर देगी।



अनबिलीवेबल 2 of 5
अनबिलीवेबल - फोटो : सोशल मीडिया


 


अनबिलीवेबल (Unbelievable)
साल 2019 में नेटफ्लिक्स पर आई यह सीरीज 2008 से 2012 के बीच अमेरिका के दो अलग शहरों में एक ही तरीके से होने वाले रेप केसों और पुलिस वालों के रवैये को दिखाती है। यह सीरीज 2015 में लिखे गए टी. क्रिश्चियन मिलर और केन आर्मस्ट्रांग के एक आर्टिकल, 'एन अनबिलीवेबल स्टोरी ऑफ रेप' और उनकी बुक 'द फाल्स रिपोर्ट' पर आधारित है। अगर आप थोड़े से भी संवेदनशील हैं तो यह सीरीज आपके भीतर उथल-पुथल मचा देगी।





व्हेन दे सी अस 3 of 5
व्हेन दे सी अस - फोटो : सोशल मीडिया




व्हेन दे सी अस (When They See Us)
'व्हेन दे सी अस' एक सच्ची घटना पर आधारित सीरीज है। इस सीरीज को एवा दूवर्नी ने लिखा और डायरेक्ट किया है। इस सीरीज में 1989 में हुए 'सेंट्रल पार्क जॉगर केस' में फंसे पांच युवकों की कहानी को दिखाया गया है। इसमें पांच ब्लैक लड़कों को एक व्हाइट लड़की के रेप और शोषण के आरोप में गिरफ्तार किया जाता है। ये कहानी इन पांचों लड़कों के साल 1989 से 25 साल तक के संघर्ष की है। इसमें 2002 में उनकी रिहाई और 2014 में सेटलमेंट तक को दिखाया गया है। 31 मई 2019 को आई इस नेटफ्लिक्स सीरीज ने उस समय बाकी सब सीरीज को पीछे छोड़ दिया था और यह यूएस में रोज सबसे ज्यादा देखी जानी वाली सीरीज बन गई थी।



अनऑर्थोडॉक्स 4 of 5
अनऑर्थोडॉक्स - फोटो : सोशल मीडिया




अनऑर्थोडॉक्स (Unorthodox)
यह सीरीज एक जर्मन/अमेरिकी सीरीज है, जो डेबोरा फेल्डमैन की आत्मकथा 'अनऑर्थोडॉक्सः द स्कैंडलस रिजेक्शन ऑफ माई द हसीडिक रूट्स' से प्रेरित है। इस सीरीज को कई एमी अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट किया गया है। यह पहला यिडिश में होना वाला नेटफ्लिक्स शो है। इसमें एक यहूदी महिला की कहानी को दिखाया गया है, जो नया जीवन शुरू करने के लिए अपनी अरेंज मैरिज को छोड़ ब्रुकलिन भाग जाती है, लेकिन उसका अतीत उसका पीछा नहीं छोड़ता। यह सीरीज साल 2020 में नेटफ्लिक्स पर आई थी।
 


द हैंडमेड्स टेल 5 of 5
द हैंडमेड्स टेल - फोटो : सोशल मीडिया



द हैंडमेड्स टेल (The Handmaid's Tale)
'द हैंडमेड्स टेल' 1985 में कनाडाई लेखक मार्गरेट एटबुड द्वारा लिखा गया उपन्यास है। यह भविष्य के न्यू इंग्लैंड को दिखाता है , जो अब 'रिपब्लिक ऑफ गिलियड' के नाम से जाना जाता है, जिसने संयुक्त राज्य को भी उखाड़ फेंका है। इसमें मुख्य किरदार में एक ऑफ्रेड नाम की महिला है, जो एक हैंडमेड है। हैंडमेड्स वो महिलाएं हैं, जिन्हें जबरन कमांडरों के लिए घरों में बच्चा पैदा करने लिए भेजा जाता है। इसमें दिखाया गया है कि गिलियड में ये हैंडमेंड्स कैसे रहती हैं और किन परेशानियों का सामना करती हैं। इस सीरीज के अमेजन प्राइम पर चार सीजन आ चुके हैं और इस साल पांचवां सीजन आने की संभावना है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे