Hindi Webseries Double Dose of Boldness and Crime Thriller Webs यह वेब सीरीज, बोल्डनेस और क्राइम थ्रिलर का डबल डोज - HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Hindi Webseries Double Dose of Boldness and Crime Thriller Webs यह वेब सीरीज, बोल्डनेस और क्राइम थ्रिलर का डबल डोज - HindiShayariH

वेब सीरीज: ( Double Dose of Boldness and Crime Thriller Webs )एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और उनके परिणाम दिखाती है यह वेब सीरीज, बोल्डनेस और क्राइम थ्रिलर का डबल डोज
 
Hindi Webseries Double Dose of Boldness and Crime Thriller Webs यह वेब सीरीज, बोल्डनेस और क्राइम थ्रिलर का डबल डोज
Hindi वेब सीरीज - फोटो : social media


Double Dose of Boldness and Crime Thriller Webs
शादी के रिश्ते को बनाए रखने के लिए प्यार के साथ ही एक दूसरे पर विश्वास होना सबसे जरूरी चीज होती है, लेकिन जब दो लोगों में से कोई एक इस विश्वास को तोड़ता है तो रिश्ता टूटने के साथ ही इसका हश्र भी कम बुरा नहीं होता है। सिनेमा को समाज का आईना कहा जाता है और कई फिल्मों में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और उसके हश्र दोनों को ही दिखाया गया है। आज के समय में जमाना वेब सीरीज का है, तो ओटीटी प्लेटफॉर्म पर कई ऐसी वेब सीरीज भी रिलीज की गई हैं, जिनमें एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की वजह और उसके भयानक अंजाम की कहानी को बखूबी दिखाया गया है। इन सीरीज में बोल्डनेस के साथ क्राइम थ्रिलर भी है। तो चलिए नजर डालते हैं ऐसी ही सीरीज पर।
 
 
माया: 'स्लेब ऑफ हर डिजायर' 2 of 6
माया: 'स्लेब ऑफ हर डिजायर' - फोटो : social media
 
 
 
 
माया: 'स्लेब ऑफ हर डिजायर'
ओटीटी प्लेटफार्म एमएक्स प्लेयर पर मौजूद मायाः स्लेव ऑफ हर डिजायर वेब सीरीज में शमा सिकंदर, वीर आर्यन और विपुल गुप्ता मुख्य भूमिकाओं में हैं। विक्रम भट्ट द्वारा निर्मित यह वेब एक शादी-शुदा लेडी के एक्स्ट्रा मैरिटल पर आधारित है। इस सीरीज में एक ऐसी औरत को दिखाया गया है जो अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए दूसरे शादी-शुदा आदमी से संबंध रखती है। इस सीरीज में बोल्ड सीन्स की भरमार है।
 
 
out of love 3 of 6
out of love - फोटो : social media
 


'आउट ऑफ लव'
रसिका दुग्गल और पूरब कोहली की यह वेब सीरीज ओटीटी प्लेटफार्म डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर मौजूद है। इस सीरीज के दो सीजन रिलीज किए जा चुके हैं। इस सीरीज की कहानी शादी के रिश्ते में धोखे और शक के बाद, पति-पत्नी के रिश्ते में आई उथल-पुथल को दिखाती है। कैसे एक औरत अपने पति पर शक होने के बाद सबूत जुटाती है और फिर उसे सबक सिखाने के लिए प्लानिंग करती है और यहीं से होती है थ्रिलर की शुरुआत।

 
 
स्पॉटलाइट 4 of 6
स्पॉटलाइट - फोटो : social media
 
 



स्पॉटलाइट-
साल 2017 में आई सीरीज स्पॉटलाइट को भी विक्रम भट्ट ने ही निर्देशित किया है। इस सीरीज में छोटे शहर की लड़की की कहानी दिखाई गई है, जो एक बॉलीवुड एक्ट्रेस बनना चाहती है, सीरीज में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को दिखाने के साथ रियलस्टिक बनाने के लिए बोल्डनेस भी परोसी गई है।

 
ट्विस्टेड 5 of 6
ट्विस्टेड - फोटो : social media



ट्विस्टेड
ओटीटी प्लेटफार्म डिज्नी प्लस हॉट स्टार की वेब सीरीज ट्विस्टेड जैसा की नाम है वैसे ही ट्विस्ट और टर्न से भरी हुई है। विक्रम भट्ट की इस सीरीज में निया शर्मा और नमित खन्ना मुख्य भूमिकाओं में हैं। यह सीरीज एक शादी-शुदा आदमी की कहानी दिखाती है जिसे एक मॉडल से प्यार हो जाता है और इसके बाद प्यार में धोखे की ऐसी कहानी दिखाई गई है कि सस्पेंस से दिमाग चकरा जाए। अगर सस्पेंस के साथ क्राइम थ्रिलर के शौकीन हैं तो इस सीरीज को देख सकते हैं।
 
 
इट्स नॉट देट सिंपल 6 of 6
इट्स नॉट देट सिंपल - फोटो : social media
 
 
 



इट्स नॉट देट सिंपल
इस वेब सीरीज में एक ऐसी महिला की कहानी दिखाई गई है, जो अपने पति से परेशान है और फिर कहानी में ट्विस्ट तब आता है, जब महिला को लगता है कि उसे बाहर कोई नया रिश्ता बना लेना चाहिए। इसके बाद एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की कहानी दिखाई गई है। इस सीरीज में स्वरा भास्कर को मुख्य भूमिका में दिखाया गया है। एमएक्स प्लेयर पर मौजूद इस सीरीज में भी बोल्ड सीन दिखाए गए हैं।

 
It's not that simple, माया: 'स्लेब ऑफ हर डिजायर', spotlight web, 'आउट ऑफ लव', out of love

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे