Okinawa Okhi 90 Electric Scooter: Okinawa's New Scooter Will Run 200km in a Single Charge - HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Okinawa Okhi 90 Electric Scooter: Okinawa's New Scooter Will Run 200km in a Single Charge - HindiShayariH

ओकिनावा ओखी 90 इलेक्ट्रिक स्कूटर ओला एस1 और बजाज चेतक जैसे स्कूटर बाजार का सफाया करने आ रहे हैं ओकिनावा का नया स्कूटर सिंगल चार्ज में चलेगा 200 किमी
 

 
Scooters like Ola S1 and Bajaj Chetak Coming to Wipe out the Market Okinawa's New Scooter Will Run 200km in a Single Charge
ओकिनावा ओखी 90 इलेक्ट्रिक स्कूटर





Okinawa Okhi 90 Electric Scooter : देश के तेजी से बढ़ते इलेक्ट्रिक सेगमेंट में जल्द ओकिनावा अपना नया इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च करने जा रही है, जिसका कंपनी ने आज पहला टीजर वीडियो जारी कर दिया है। Okinawa Autotech ने Oki 100 इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल को 2018 Auto Expo में एक प्रोटोटाइप के रूप में पेश किया था। जिसकी लांचिंग मार्च के अंत में तय की गई है।

 


Okinawa Okhi90 कंपनी ने सोशल मीडिया पर जारी किया टीजर
हालांकि स्कूटर ही नहीं तेजी से बढ़ते इलेक्ट्रिक टू व्हीलर ब्रांड ने घोषणा की कि वह जल्द ही अपनी पहली मोटरसाइकिल को भी लॉन्च करेगी। भारत के ईवी सेगमेंट में अग्रणी दोपहिया निर्माताओं में से एक, ओकिनावा ऑटोटेक ने आज ट्वीट किया है, कि वह "अपने जीवन को विद्युतीकृत करें, रोमांच देखने के लिए तैयार रहें। #PowertheChange के लिए तैयार रहें अधिक जानने के लिए बने रहें!" यानी इस सोशल मीडिया से साफ है, कि कंपनी अपने स्कूटर को लेकर भारतीय बाजार के लिए तैयार है।

 
सेगमेंट में सबसे ज्यादा हो सकती है ड्राइविंग रेंज

आपको याद होगा हमनें कुछ समय पहले इस स्कूटर की ड्राइविंग रेंज और कीमत पर अपडेट दिया था।, कंपनी के को-फाउंडर जितेंद्र शर्मा ने एक मीडिया बातचीत में बताया कि ओखी 90 इलेक्ट्रिक स्कूटर को अगले महीने मार्च में लॉन्च करने की योजना है,



 


जबकि ओखी 100 इलेक्ट्रिक बाइक अगले वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही (जून-जुलाई 2022) में लॉन्च होगी। वहीं रेंज पर बात करें तो जितेंद्र शर्मा ने इस आगामी स्कूटर को लेकर कहा कि ओखी 90 इलेक्ट्रिक स्कूटर की स्पीड लगभग 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक होगी। वहीं इसकी रेंज 170 किमी से 200 किमी प्रति चार्ज होगी।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे