Technology Update, In Which Year Will Maruti Suzuki's 1ST Electric Car Be Launched, Know Here मारुति सुजुकी की पहली इलेक्ट्रिक कार - HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Technology Update, In Which Year Will Maruti Suzuki's 1ST Electric Car Be Launched, Know Here मारुति सुजुकी की पहली इलेक्ट्रिक कार - HindiShayariH

मारुति सुजुकी की पहली इलेक्ट्रिक कार: देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) भी इलेक्ट्रिक मोबिलिटी सेगमेंट में उतरने की योजना बना रही है।


In Which Year Will Maruti Suzuki's 1ST Electric Car Be Launched, Know Here मारुति सुजुकी की पहली इलेक्ट्रिक कार
मारुति सुजुकी की पहली इलेक्ट्रिक कार



मारुति सुजुकी की पहली इलेक्ट्रिक कार
आने वाला समय इलेक्ट्रिक वाहनों का ही होगा, और इसलिए भारत में नए-नए ब्रांड्स दस्तक देने में लगे हैं जबकि मौजूदा प्लेयर्स ने भी अपनी कमर कस ली है। देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) भी इलेक्ट्रिक मोबिलिटी सेगमेंट में प्रवेश करने की योजना बना रही है। CNBCTV18 हाउस को हाल ही में एक बयान में, मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक, विपणन और बिक्री, शशांक श्रीवास्तव ने कहा कि कंपनी 2025 तक अपना पहला ऑल-इलेक्ट्रिक वाहन पेश करने की अपनी योजना पर काम कर रही है। ऐसा माना जा रहा है कंपनी सबसे पहले इलेक्ट्रिक एसयूवी उतार सकती है।

 
शशांक श्रीवास्तव ने यह भी कहा कि कंपनी 2030 तक अपनी कुल बिक्री में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए 8-10 फीसदी की हिस्सेदारी चाहेगी। उन्होंने यह भी कहा कि 2028-2030 तक, लगभग 6 भारत में सालाना 10 लाख यात्री वाहन बेचे जाएंगे, जिनमें से 10 फीसदी इलेक्ट्रिक वाहन होंगे। श्रीवास्तव के मुताबिक सीमित चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर फ़िलहाल एक बड़ी समस्या है इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए। बड़े शहरों के अलावा अभी छोटे कस्बों-गावों में फास्ट चार्जिंग स्टेशन लगभग न के बराबर हैं। उन्होंने यह भी कहा कि एक इलेक्ट्रिक कार की कुल लागत का लगभग 50 से 55 प्रतिशत उसकी बैटरी के कारण होता है।

 
सुजुकी मोटर देश में इलेक्ट्रिक गाड़ी और बैट्री की मैन्युफैक्चरिंग के लिए करीब 10,440 करोड़ रुपये का निवेश करेगी।मारुति सुजुकी गुजरात में 2025 से इलेक्ट्रिक गाड़ियों और बैटरी की मैन्युफैक्चरिंग शुरू करेगी। कंपनी की पहली इलेक्ट्रिक कार के विकास में 7,300 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा, जो 2025 तक शुरू हो जाएगी। और बाकी बचे 3,145 करोड़ रुपये इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए नई पीढ़ी की बैटरी के विकास के लिए किया जायेगा ।

रिपोर्ट्स के अनुसार कंपनी की इलेक्ट्रिक कार में 48 kWh और 59 kWh की क्षमता के दो बैटरी पैक का इस्तेमाल करेगी। इसका बड़ा बैटरी पैक सिंगल चार्ज में 500 किलोमीटर तक का ड्राइविंग रेंज देगी। हालांकि अभी इसके बारे में आधिकारिक तौर पर घोषणा होना बाकी है। कंपनी इलेक्ट्रिक SUV या कार को लॉन्च कर सकती है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे