Top 5 Short Movies In Hindi: डिज्नी प्लस हॉट स्टार पर फ्री में देख सकते हैं ये शॉर्ट फिल्में, चाहिए होंगे सिर्फ 20 मिनट - HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Top 5 Short Movies In Hindi: डिज्नी प्लस हॉट स्टार पर फ्री में देख सकते हैं ये शॉर्ट फिल्में, चाहिए होंगे सिर्फ 20 मिनट - HindiShayariH

 
Top 5 Short Movies In Hindi: डिज्नी प्लस हॉट स्टार पर फ्री में देख सकते हैं ये शॉर्ट फिल्में, चाहिए होंगे सिर्फ 20 मिनट
Top 5 Short Movies In Hindi


Ott Platforms aaj kal Manoranjan ke poorak ban gaye hain yahan har roz darshakon ke liye kuchh naya release ho raha hai halanki kuchh darshak aise bhi hote hain jinke pass ott ka subscription nahi hota hai aise mein unke manoranjan ke liye bhi Disney plus Hotstar ne free content uplabdh karaya hua hai aaj hum aise hi darshakon ke liye paanch short filmen lekar aaye hain jo disney plus hotstar par bilkul free hai


 
 
 
 
 
मूवी का नाम- इतवार 
प्लेटफॉर्म - डिज्नी +हॉटस्टार 

15 मिनट की यह शॉर्ट फिल्म इतवार दर्शाती है कि हमेशा हमारे जीवन में आशा की एक किरण होती है। फिल्म में मुख्य भूमिका में अभिनेता कुमुद मिश्रा ने निभाई है, जो हर चीज को लेकर परेशान रहता है। लेकिन फिर एक ऐसी खबर आती है, जो उसका स्वभाव पूरी तरह बदल देती है। वह जिन भी चीजों से परेशान रहता था अब वह भी उसके जीवन में खुशियां और मुस्कान ला रही हैं। इस फिल्म का निर्देशन राहुल श्रीवास्तव ने किया है।   



 
 
 
मूवी का नाम- आदत
प्लेटफॉर्म - डिज्नी +हॉटस्टार 

डिज्नी +हॉटस्टार पर स्ट्रीम की जाने वाली शॉर्ट फिल्म आदत केवल 13 मिनट की फिल्म है, जो एक रोमांटिक स्टोरी है। इस फिल्म में आज कल के कपल्स के बीच चल रही समस्याओं को दिखाया गया है। इस फिल्म की कहानी एक लव कपल के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक मुश्किल दौर से गुजर रहा है। उनके रिश्ते में गड़बड़ की वजह पति की कोई समस्या है, जो आब उनके रिश्ते को भी प्रभावित करने लगी है। यह फिल्म अभिरुची चंद के निर्देशन में बनी है, जिसमें सिवानी देवकोटा, भारती परवानी और प्रखर सिंह ने मुख्य भूमिकाएं निभाई हैं। 
 


  
मूवी का नाम- आई एम प्रेग्नेंट
प्लेटफॉर्म - डिज्नी +हॉटस्टार 

15 मिनट की इस फिल्म में शादी के बाद एक बच्चे के लिए तरसते हुए एक कपल को दिखाया गया है। कपल की शादी को पांच साल हो गए हैं और उनको अभी तक बच्चा नहीं हुआ है, जिसकी वजह से उनके रिश्ते पर फर्क पड़ने लगा है। लेकिन उनकी जिंदगी बदल जाती है, जब वाइफ को पता चलता है कि वो प्रेग्नेंट है। 

 
 
 
मूवी का नाम- द गुड वाइफ 
प्लेटफॉर्म - डिज्नी +हॉटस्टार 

द गुड वाइफ 17 मिनट की शार्ट फिल्म है, जो  डिज्नी +हॉटस्टार पर फ्री में स्ट्रीम की जा सकती है। यह फिल्म 90 के दशक की कोलकाता की सुंदरता को दिखाती है। इस फिल्म का निर्देशन प्रत्यय साहा ने किया है। अंशुलिका कपूर अभिनीत, 'द गुड वाइफ' एक शराबी और अब्यूसिव पति के बारे में है, जिसकी पत्नी उसे भगवान की तरह मानती है। लेकिन उसकी पत्नी के व्यवहार में परिवर्तन हो जाता है, जब उसे उसके बारे में एक राज पता लग जाता है। 



 
मूवी का नाम- प्रेशर कुकर
प्लेटफॉर्म - डिज्नी +हॉटस्टार 
 
हिना डिसूजा के निर्देशन में बनी 15 मिनट की इस फिल्म में पल्लवी जोशी, मुकुल चड्ढा और राहुल बग्गा मुख्य किरदारों में हैं। फिल्म प्यार के विभिन्न पहलुओं - रोमांच, धोखा, स्थिरता और ऊब को 90 के दशक की एक मध्यमवर्गिय महिला के नजरिए से दिखाती है। शादी के मायनों को समझाने के लिए लेखक ने एक प्रेशर कुकर का इस्तेमाल किया है। कहानी में दिखाया गया है कि स्वाति, जो अपने पति द्वारा निगलेक्ट की जाती है। वह एक पुराने प्रेशर कुकर से परेशान है, वह अपने जीवन में नए ऑप्शन्स की तलाश कर रही है। जल्द ही उसे एक नया ऑप्शन मिल जाता है, लेकिन वो किसे चुनेगी? ये देखना दिल्चस्प होगा। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे