आसमान से गिरा नैनसुख Asaman Se Gira Nain Sukh Kahani in hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आसमान से गिरा नैनसुख Asaman Se Gira Nain Sukh Kahani in hindi

 नखुलने वाली आंख में झांकते हुए और खुली आंख में समाते हुए श्रीमती जी ने पूछा ' क्या किया था इस आंख से ? खुलती क्यों नहीं ? किससे लड़ी थी यह मुई ? 




हरीश नवल ho में बड़ा फख्र था कि हम कभी भी अस्पताल में नहीं रहे । एक हीन - सी भावना यह भी आती थी कि हमारे मित्र वहां डेरा डाले रहते हैं , मिलने पर अस्पताल - चर्चा जोरों से करते हैं , डॉक्टरों , नौं तथा अटेंडेंटों के गजब किस्से सुनाते रहते हैं , अपनी बीमारियों का रोचक वर्णन करते हैं और हम अनजान से बस सुनते रहते हैं , सुना नहीं पाते । जल्दी ही हमें भी मौका मिला । हुआ यूं कि उस दिन सुबह उठे तो आधा ही जाग पाए ।




 एक आंख खुल गई , परंतु दूजी खुलने का नाम नहीं ले रही थी । हमने विपत्ति समझकर हमेशा की तरह श्रीमती जी को पुकारा , वह वैसे ही चली आईं जैसे गज के पुकारने पर भगवान विष्णु चले आए थे । न खुलने वाली आंख में झांकते हुए और खुली आंख में समाते हुए श्रीमती जी ने पूछा- क्या किया था इस आंख से ? खुलती क्यों नहीं ? किससे लड़ी थी यह मुई ? इतने सीधे सरल प्रश्न सुनकर आंख के साथ - साथ हमारी जुबान भी बंद हो गई । हमें याद आया कि बस देर रात तक टीवी देखा था और एक मच्छर शरणार्थी की भांति इस आंख में घुसा जरूर था पर हमने पलकों के धक्के देकर उसे निकाल बाहर कर दिया था ।





 सरकारी बड़े अस्पताल में आंख का चेक - अप करते डॉक्टर ने आधा घंटा बिठाने के बाद कहा , मामला गड़बड़ है , नर्स से दवाई डलवाकर प्रॉपर चेक - अप करवाओ । नर्स ने पांच - पांच मिनट के अंतराल से अनेक बार क्षतिग्रस्त आंख में नींबू सा निचोड़ा । डेढ़ घंटे बाद हम टेबल पर थे और तीन - तीन डॉक्टर सिर पर रोशनी वाली टोपियां लगाए बारी - बारी से आंख देख रहे थे । बड़े स्पेशलिस्ट ने आंख से कुश्ती लड़ने के बाद बताया , रेटिना डिटैच्ड हो गया है । आपरेशन करना होगा । हम घर लौट आए और तैयारी में जुट गए । एक हफ्ते बाद हम वहां पहुच गए । हमने खुद ही ठाठ से अपना बिस्तर सेट किया । श्रीमती जी मौसमी का जूस निकालने में जुट गईं । डॉक्टरों तथा सीख रहे मेडिकल विद्यार्थियों की टीम अपने निर्धारित समय पर आई और हमारी आंख पर पिल पड़ी । रात को यूनिट डॉक्टर को  हम हमने आंख दिखाई । उसने कहा , " आज बुधवार है ।





 ऑपरेशन मंगल को ही होगा , तैयारी के लिए दो - एक दिन बहुत होते हैं । " हम छुट्टी काटकर सोमवार प्रातः ठीक समय पर हाजिर हो गए । मंगलवार की प्रातः छह बजे ही हमें कैदियों जैसे शानदार कपड़े पहना दिए गए । हम ऑपरेशन थिएटर के भीतर थे । साढ़े नौ बजे बेहोशी का डॉक्टर आया और हमारे होश गंवा कर चला गया । जब होश आया , हम अभी थिएटर के भीतर थे । हम प्रसन्न कि चलो ऑपरेशन निबट गया पर जब हमारे होश ठिकाने तब आए , जब हमें बताया गया कि ऑपरेशन हो नहीं सका , क्योंकि बड़े डॉक्टर साहब आ नहीं सके । प्राइवेट वार्ड में शिफ्ट कर दिए गए । 






होश में आए तो सचमुच ऑपरेशन हो चुका था । होश तो तब उड़े जब छह दिन प्राइवेट में रहने के बाद बिल में तीन शून्य और लगा दिए गए । डॉक्टर मित्र को खोजा । पता लगा कि वह अस्पताल से कमीशन लेता है । बात यहां तक भी रहती तो भी गनीमत थी , परंतु पट्टी हटने पर मालूम हुआ कि आंख का परदा जुड़ा ही नहीं । .

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे