Fire Breaks Out in Okinawa Electric Scooter Moving on the Road | बमुश्किल बची चालक की जान - HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Fire Breaks Out in Okinawa Electric Scooter Moving on the Road | बमुश्किल बची चालक की जान - HindiShayariH

Okinawa: हाल ही में ओकिनावा ( Okinawa ) में इलेक्ट्रिक स्कूटर की बैटरी फटने से एक पिता-पुत्री की मौत हो गई थी। इस स्कूटर को घर में चार्ज किया जा रहा था। इसके अलावा पुणे में सड़क के किनारे खड़े नीले रंग के Ola S1 Pro इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई थी।

 
Fire Breaks Out in Okinawa Electric Scooter Moving on the Road | बमुश्किल बची चालक की जान
ओकिनावा



इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगने की घटनाएं लगातार बढ़ती ही जा रही हैं। बीते कुछ दिनों में इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगने के कई मामले में सामने आ चुके हैं। ताजा मामला तमिलनाडु के होसुर इलाके का है, जहां पर सड़क पर चलती हुई Okinawa इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई। गनीमत ये रहा कि, स्कूटर चालक ने चलती गाड़ी से कूदकर किसी तरह अपनी जान बचाई। ये ओकिनावा स्कूटर में आग लगने का लगातार दूसरा मामला है, हालांकि कंपनी ने इस घटना के संबंध में एक बयान भी जारी किया है, जिसमें कंपनी ने आग लगने के वजहों की तरफ संकेत किया है।





मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ये मामला होसुर के कृष्णागिरी इलाके का है। होसुर के रहने वाले सतीश ने तकरीबन एक साल पहले Okinawa Praise Pro मॉडल इलेक्ट्रिक स्कूटर को खरीदा था। बीते 30 अप्रैल को जब वो स्कूटर से ऑफिस के लिए निकले थें और अभी वो कृष्णागिरी इलाके में पहुंचे तो स्कूटर की सीट के नीचे से अचानक धुआं निकलने लगा। जब उन्हें धुएं का आभास हुआ तो उन्होनें स्कूटर के सीट को ओपेन किया तो पाया कि सीट के नीचे आग लगी है, और उन्होनें तत्काल स्कूटर से दूर भागकर अपनी जान बचाई। इस बीच स्कूटर में लगी आग धधक उठी और देखते ही देखते स्कूटर को आग की लपटों ने घेर लिया और थोडे़ ही देर में स्कूटर जलकर ख़ाक हो गया।

क्या कहती है कंपनी:

बताया जा रहा है कि, तकरीबन एक साल पहले इस स्कूटर को सतीश ने खरीदा था, लेकिन कई महीनों से इस स्कूटर को सर्विस के लिए नहीं लाया गया था। इस बारे में डीलर ने मीडिया को दिए अपने बयान में बताया कि “डिलीवरी के समय, ग्राहकों को ईवी स्कूटर के उपयोग, बैटरी रखरखाव और नियमित निवारक सेवाओं के बारे में सूचित किया जाता है, और यह कंपनी के मालिक के मैनुअल में भी स्पष्ट रूप से कहा गया है। हम वाहन के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करने के लिए नियमित अंतराल पर वाहन जांच शिविर और जागरूकता अभियान चलाते हैं।"


इसमें कहा गया है कि, "ग्राहक को फोन कॉल के रूप में बार-बार याद दिलाने के बावजूद, इस स्कूटर को महीनों से नियमित सर्विस चेकअप के लिए नहीं लाया गया था। "वहीं ट्रोनटेक इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड (जो ओकिनावा ऑटोटेक को बैटरी की आपूर्ति करता है) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी समरथ कोचर ने कहा कि बैटरी की गुणवत्ता और विनिर्माण मानक मानदंडों के अनुसार सभी नियामक दिशानिर्देशों का पालन करते हैं।"

 

हाल ही में, ओकिनावा इलेक्ट्रिक स्कूटर की बैटरी में विस्फोट होने के कारण एक पिता-पुत्री की मृत्यु हो गई थी। इस स्कूटर को घर में चार्ज किया जा रहा था। इसके अलावा पुणे में सड़क के किनारे खड़े नीले रंग के Ola S1 Pro इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई थी, और चंद मिनटों में पूरा स्कूटर ही जलकर स्वाहा हो गया था।



बीते कुछ महीनों से देश में इलेक्ट्रिक स्कूटरों में आग लगने की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। जिसके बाद नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने पिछले हफ्ते इलेक्ट्रिक स्कूटर निर्माताओं (OEM) को आग की घटनाओं में शामिल बैचों को स्वेच्छा से वापस बुलाने के लिए कहा था। आयोग के निर्देशन के बाद गुरुग्राम स्थित ओकिनावा ऑटोटेक ने कहा कि वह वाहन में बैटरी से संबंधित किसी भी समस्या को ठीक करने के लिए अपने Praise Pro इलेक्ट्रिक स्कूटर की 3,215 इकाइयों को स्वेच्छा से रिकॉल कर रही है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब