BMW i4 Electric Car with 590 Km Range and 190 Kmph top Speed Launched in India, Know the Price | Tech news in hindi सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

BMW i4 Electric Car with 590 Km Range and 190 Kmph top Speed Launched in India, Know the Price | Tech news in hindi

BMW i4 इलेक्ट्रिक सेडान को भारत में लॉन्च किया गया है। BMW ने नई i4 को सिंगल eDrive 40 वेरिएंट में पेश किया है, जिसे CBU (पूरी तरह से बनी हुई कार का आयात) के रूप में देश में इम्पोर्ट किया जाएगा। i4 इलेक्ट्रिक कार BMW CLAR मॉड्यूलर आर्किटेक्चर के एक अपडेटेड वर्जन पर आधारित है। कंपनी का दावा है कि इसमें मौजूद पावरट्रेन 340 PS की मैक्सिमम पावर और 430 Nm का पीक टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। कार दावे अनुसार, 0 से 100 kmph की स्पीड मात्र 5.7 सेकंड में पकड़ सकती है और इसकी टॉप स्पीड 190 kmph है।


BMW i4 Electric Car with 590 Km Range and 190 Kmph top Speed Launched in India, Know the Price | Tech news in hindi
BMW i4 इलेक्ट्रिक सेडान




BMW i4 इलेक्ट्रिक सेडान की भारत में कीमत 69.90 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) रखी गई है। जैसा कि हमने बताया, कार को CBU (Completely Build Unit) के रूप में भारत लाया जाएगा।




BMW i4 को BMW CLAR मॉड्यूलर आर्किटेक्चर के एक अपडेटेड वर्जन पर बानाया गया है। यह मूल रूप से विदेशी मार्केट में उपलब्ध 4 सीरीज ग्रैन कूप का एक ऑल-इलेक्ट्रिक वर्जन है। कंपनी का दावा है कि i4 का eDrive 40 वेरिएंट (सिंगल रियर इलेक्ट्रिक मोटर) 0-100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार 5.7 सेकंड में पकड़ सकती है और इसकी टॉप स्पीड 190 किमी प्रति घंटा है। इसकी इलेक्ट्रिक मोटर 340 PS की मैक्सिमम पावर और 430 Nm का पीक टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है।

BMW i4 में 80.7 kWh क्षमता का बैटरी पैक है, जिसकी अनुमानित रेंज 590 km (WLTP साइकिल) बताई गई है, जो भारत में किसी भी इलेक्ट्रिक वाहन के लिए सबसे अधिक है। 205 kW DC फास्ट चार्जर के साथ, i4 की बैटरी को केवल 31 मिनट में 10% से 80% तक चार्ज किया जा सकता है। एक इंट्रोडक्टरी ऑफर के रूप में, बीएमडब्ल्यू ईवी के साथ 11 kW वॉलबॉक्स एसी चार्जर भी दे रही है। यह चार्जर लगभग 8 घंटे में बैटरी को 0% से 100% तक पूरी तरह से चार्ज कर देगा।

इंटीरियर की बात करें, तो i4 में BMW का कर्व्ड डिस्प्ले है, जिसमें 12.3 इंच का डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर और साथ ही 14.9 इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम है। सिस्टम ओटीए अपडेट को सपोर्ट करेगा। इसमें 360-डिग्री कैमरा, 3-जोन क्लाइमेट कंट्रोल, वायरलेस चार्जिंग, सनरूफ, पावर्ड फ्रंट सीट आदि शामिल हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे