Short Story on Khushnuma Barish खुशनुमा बारिश पर कहानी सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Short Story on Khushnuma Barish खुशनुमा बारिश पर कहानी

 कैफे से बाहर आए तो बारिश की बूंदें भिगोने लगीं । उसने हथेलियां फैला दीं और बोली , “ देव बाबू , भीगेंगे मेरे साथ इस खुशनुमा बारिश में ? ” Story on Khushnuma Barish 

खुशनुमा बारिश पर कहानी
खुशनुमा बारिश पर कहानी 





आफिस आने - जाने के लिए मेट्रो पकड़ना और आराम से बैठकर या तो ऊंघते हुए या कुछ पढ़ते हुए या पूरे रास्ते भीड़ को कोसते हुए खड़े होकर सफर करना । किसी तरह से शाम को घर पहुंचकर खाना और सो जाना ... भागम - भाग • टाइम से नौकरी की जिम्मेवारी निभाने पहुच जाना और के सिवाय और कुछ नहीं था उसकी जिंदगी में मां लड़की ढूंढ रही थीं कि अब शादी हो जानी चाहिए । वह क्या चाहता है , उससे न तो कभी पूछा गया , न कभी उसने बताया ; या शायद उसे खुद ही नहीं पता था कि वह क्या चाहता है । भागते - दौड़ते , शोरगुल और न समझ आने वाली बेचैनी के साथ जी रहा था । दरवाजे बंद होने की घोषणा हुई । वह दरवाजे के पास ही खड़ा था । सीढ़ियों से भागती , सांसों को उखड़ने से बचाने का प्रयास करती , वह दौड़ी चली आ रही थी दरवाजा बंद होने ही वाला था । उसने अपना बैग दरवाजे . के बीच में फंसा दिया । दरवाजा खुल गया , वह लपकती हुई अंदर घुस गई । जीन्स के ऊपर पिंक कलर का शॉर्ट कुर्ता पहना था । कंधे पर मल्टीकलर स्टोल झूल रहा था सांवली रंगत में चांदनी - सी चमक रही थी । 
 short story in hindi


कंधे तक कटे बाल , कानों में झूलते ईयररिंग्स और बड़ा - सा लैदर बैग । देर तक वह उखड़ी सांसों को संभालती रही । भीड़ इतनी थी कि सटकर खड़े रहने के सिवाय और कोई विकल्प नहीं था । वह चाह रहा था कि खुद को थोड़ा समेट ले , पर स्पर्श सुकून दे रहा था । देख रही थी वह उसकी तरफ । आंखों ही आंखों में उसने धन्यवाद कहा । उन आंखों में सिवाय आभार के उसके लिए कुछ भी तो नहीं था , पर वह बह गया । क्या वह पल भर का उसका देखना , उसकी उन चाहतों को आकार दे सकता है जिसके बारे में आज तक उसे खुद ही पता न था । स्टेशन पर उतर वह भीड़ में न जाने कहा गुम हो गई । 




 रास्ते एक हों तो मुलाकातों में रवानगी आते देर नहीं लगती । बातचीत का सिलसिला मेट्रो के अलावा व्हाट्सएप चैट पर आ गया । पहले इधर - उधर की बातों से संवाद का सिलसिला शुरू हुआ , फिर फोन पर हंसी की फुलझड़ियों के बीच रोजमरों की बातें शेयर की जाने लगीं । शाम को कॉफी पीने चलें ? " उसने पूछा था । ग्रीन पेस्टल कलर का खादी का कुर्ता पहना हुआ था उसने । कानों में ऑक्सीडाइज्ड बालियां झूल रही थीं । बिल्कुल सादा रूप था पर आंखों की कशिश बहा ले जाने वाली थी हमेशा की तरह । कॉफी के हर घूंट के साथ वह चीज स्टिक को परियों जादुई छड़ी की तरह घुमाती किस्से सुना रही थी । वह वशीभूत - सा बैठा सुन रहा था । उसकी दुनिया अजनबी नहीं रही थी , वह बिना दस्तक दिए , आने की अनुमति मांगे बिना ही उसके मन पर अपना कब्जा जमा चुकी थी " हम यूं ही कभी - कभी मिल सकते हैं क्या ? " पूछते समय अपने स्वर में लरजते कंपन को महसूस किया उसने । वह उसे किसी भी हाल में खोना नहीं चाहता था , क्योंकि अब उसे पता था कि वह क्या चाहता है । वह मुस्कराई , " हां , मिल सकते हैं । वैसे मेट्रो में तो अक्सर मुलाकात हो ही जाती है , फिर क्या कॉफी पीने के लिए मिलना जरूरी है ? " उसकी आंखों में शरारत थी । " चलो मिल लेंगे यूं भी कभी - कभी , पर नो कमिटमेंट । दोस्ती जैसा अहसास पंख दे , उड़ान दे , यही चाहती हूं । अगर ऐसा कर सको तो तुम भी उड़ सकते हो मेरे साथ । " कैफे से बाहर आए तो बारिश की बूंदें भिगोने लगीं । उसने हथेलियां फैला दीं और बोली , " देव बाबू , भीगेंगे मेरे साथ इस खुशनुमा बारिश में ? " वह तो कब से भीग रहा था उसकी आंखों की मदहोशी में । उसने भी अपनी हथेलियां फैला दीं । बारिश की बूंदें मोती की तरह फिसलने लगीं । सच बारिश भी क्या कभी इतनी खुशनुमा होती है



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे