मौका हाथ से न जाने दें Mauka Hath Se nA Jane de सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मौका हाथ से न जाने दें Mauka Hath Se nA Jane de

 मौका हाथ हाथ से न जाने दें 


सेठ जी की इंटरनेशनल स्यूमन रिसोर्स कंपनी ग्रुप को कई तरह की ह्यूमन चीजें चाहिए । जल्दी आइए और इनसे करोड़ों कमाइए । मॉडल ब्रांड एंकरी : हमारे टीवी न्यूज चैनल ' कल सबको खा जाऊ ' को एंकरनियों की सख्त आवश्यकता है , जो समाचार पढ़ते समय मॉडलिंग कर सकें । जो सनसनी क्वीन के रूप में प्रसिद्ध हों । जो तेज आवाज में चीख - चीखकर ड्रामा कर सकें । वही आवेदन करें जो उपरोक्त योग्यता रखती हो ।


 डिग्री , मीडिया आदि में काम करने का अनुभव व समाचारों में गहरी समझ जैसे दुर्गुण सेठ जी को बिल्कुल पसंद नहीं है । न्यूज चैनल द्वारा लाने ले जाने की व्यवस्था होगी । क्रीम , पाउडर , उबटन आदि का व्यय कंपनी द्वारा वहन किया जाएगा । उपरोक्त गुणों वाली , किसी भी पार्टी के नेता को वशीभूत कर हैंड बैग में धरने वाली कन्याएं अभी आएं और चैनल हेड बन जाएं । मेल एकर आवेदन पत्र को हाथ भी न लगाए । तोता छाप प्रवक्ता दल - दल पार्टी को तोता छाप प्रवक्ता की सख्त आवश्यकता है , जो कुतर्क करने में माहिर हो । जो आलाकमान के द्वारा उछाले गए शब्दों को कंठ में धारणकर तोते जैसा व्यवहार करने में पारंगत हो । जो विपक्षी पार्टी का हर बात का विरोध करता हो । चैनलों पर घंटों बैठकर चीखने - चिल्लाने में उस्ताद हो । विरोधियों की निंदा व अपनी स्तुति में शहंशाह हो । ऐसे जिद्दी तोता - तोती शीघ्र आवेदन करें पार्टी कमीशन , कालाबाजारी , ठेके , रंगदारी , भाई - भतीजावाद , ट्रांसफर , चंदा आदि में नियमानुसार लाभांश देने के लिए वचनबद्ध है ।




 बंदर ब्रांड लपके एक मेमोरियल हॉस्पिटल को ' लपकों ' की तुरंत आवश्यकता है , जो दवाइयों की कालाबाजारी में माहिर हों । जो नकली दवाइयों के गिरोहों से बेहतरीन संपर्क रखते हों । जो स्वस्थ व्यक्ति को मरीज बनाने में उस्ताद हों । जो मुर्दा लाश को हॉस्पिटल में भर्ती करने की योग्यता रखते हों । जो होटल , बस स्टैंड , रेलवे स्टेशन आदि जगहों से स्वस्थ व्यक्तियों को पकड़ - पकड़कर हॉस्पिटल में जमा कराने का गुण रखते हों । ऐसे गुणवान श्रेष्ठ लपकों की तुरंत आवश्यकता है इन्हें रहने , खाने , ठहरने आदि से लेकर हर प्रकार के डॉक्टरी कार्यों में उचित - अनुचित कमीशन दिया जाएगा । खूबसूरत हसीनाओं को प्राथमिकता दी जाएगी । उन्हें सेठ जी द्वारा समय - असमय सम्मानित किया जाएगा ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे