Mukhya Atithi Ki Mahima Short Funny Kahani मुख्य अतिथि की महिमा सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mukhya Atithi Ki Mahima Short Funny Kahani मुख्य अतिथि की महिमा

मुख्य फलां जी सौदेबाजी के तहत मुख्य अतिथि बनते हैं । दरअसल , वे मुख्य अतिथि बनने के एवज में अच्छा खासा अमाउंट आयोजक के हाथों में थमा देते हैं ।




मुख्य अतिथि की महिमा कहानी


 वह शुरू से मुख्य अतिथि बनते रहे हैं । यूं कह सकते हैं कि मुख्य अतिथि होना उनकी पुरानी आदत रही है ... बचपन से ही । अतिरिक्त पैसा होने का लाभ बाल्यकाल से ही उन्हें मिलता रहा । पिता राजनीति में थे तो बेटा भी पिता के नक्शेकदम पर चल पड़ा और बच्चों के बीच भी मुख्य अतिथि वाले अंदाज में बैठने लगा । बड़ा हुआ तो राजनीति में आ गया । उसके बाद चुनाव जीतकर जनप्रतिनिधि भी बन गया । तब तो स्थायी रूप से मुख्य अतिथि होने लगा । जब कभी किसी संस्था को मुख्य अतिथि की जरूरत पड़ती तो लोग भागे - भागे फलां जी के पास पहुंच जाते । 




फला जी मुख्य अतिथि बनते और साथ ही एक अच्छा खासा अमाउंट आयोजक के हाथों में थमा देते । यही रहस्य था उनके मुख्य अतिथि बनते रहने का । वे सौदेबाजी के तहत मुख्य अतिथि बनते हैं , इस बारे में उन्होंने कभी सोचा ही नहीं । वह तो यही मानकर चलते रहे कि ये दुनिया का दस्तूर है । सब यही कर रहे हैं तो हम भी कर रहे हैं । इसमें नई बात क्या है ? ठिकाने और सयाने जी भी पैसा देकर अध्यक्षता करते हैं , तो मैं भी पैसे देकर मुख्य अतिथि क्यों न बनूं ।





 सिलसिला लगातार चलता रहा , लेकिन कहते हैं न कि ' सब दिन होत न एक समान ' । एक दिन वह राजनीति से सेवानिवृत्त हो गए , यानी बुरी तरह पराजित होकर घर बैठ गए । मगर मुख्य अतिथि होने की ललक बनी रही । इधर आयोजकों की आवक कम होती गई क्योंकि अब फलां जी को पैसे देने में भी तकलीफ होने लगी । पहले सरकारी निधि से लोगों को उपकृत करते रहे । अब ऐसी कोई व्यवस्था नहीं थी तो आयोजकों से कहते कि फोकट में मुख्य अतिथि बनाना है तो बात करो । लोग सोचते हैं कि फोकट का मुख्य अतिथि बनाना है तो किसी विद्वान व्यक्ति को बनाया जाए , यह सोचकर लोग खिसक लेते । 





जब लोगों का आना एकदम से बंद हो गया तो फलां जी की आत्मा बेचैन होने लगी । उन्होंने गीत गुनगुनाया- ' दुनिया में आए हैं तो जीना ही पड़ेगा , अगर मुख्य अतिथि बनना है तो भुगतान करना ही पड़ेगा । उन्होंने कुछ संस्थाओं के लोगों को फोन करके बताया कि अगर आप मुझे मुख्य अतिथि के रूप में बुलाएंगे तो आयोजन का पूरा खर्चा मेरा रहेगा । इतना सुनते ही लोग गदगदा गए और उनको  मुख्य अतिथि बनाकर अपना टेढ़ा उल्लू सीधा करने लगे । लेकिन अब फलां जी काफी बुजुर्ग हो गए थे , इसलिए स्मृति - भ्रम के शिकार भी हो जाया करते थे ।




 परिणाम यह होता कि आयोजन किसी और विषय को लेकर होता और फलां जी का भाषण कुछ और हो जाता । लोगों का मनोरंजन होता लेकिन कोई खुलकर हंसता भी नहीं था , क्योंकि मुख्य अतिथि की इज्जत का सवाल था । पिछले दिनों पैसा लेकर सम्मान करने वाली एक संस्था ने फलां जी को कत्था चूना लगाकर . एक कार्यक्रम का चीफ गेस्ट बना लिया ।



 प्रायोजित सम्मान समारोह होने के बाद बारी थी मुख्य अतिथि के उद्बोधन की , तो उन्होंने बोलना शुरू किया अहा ! बड़ा अच्छा आयोजन हो रहा है । यह कितना सुंदर भवन है । यहां की कुर्सियां भी कितनी खूबसूरत दिख रही हैं । दीवार का रंग भी बड़ा आकर्षक है । हमारे आयोजक महोदय ने जो शर्ट पहनी है , वह भी कितनी अच्छी लग रही है । पीछे बैठे भाई साहब मंद - मंद मुस्कुरा रहे हैं । लगता है मेरी बातें बहुत अच्छी लग रही हैं । धन्यवाद ! " फलाने जी ने सम्मान समारोह के बारे में कुछ नहीं कहा । इधर - उधर देखकर जो भी मन में आया , बोलते रहे । दर्शक मन - ही - मन हंस रहे थे आयोजक भी मजे ले रहे थे , पर गंभीर बने हुए थे , क्योंकि अगली बार फिर किसी आयोजन के लिए इनको ही तो मुख्य अतिथि बनाना था ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे