सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Health Tips in Hindi Aise Mile Faalon Ka Sahi Fal

 वजन कम करना हो तो फिटनेस ट्रेनर फल खाने की सलाह देते हैं । त्वचा में ताजगी की बात आए तो डर्मेटोलॉजिस्ट फलों का सेवन करने को कहते हैं । लेकिन फलों के सेवन , उनको छीलने - काटने और स्टोर करने के सही तरीके क्या हैं , इस बात पर कभी गौर किया है आपने ? क्योंकि फलों के सेवन का सही ' फल ' आपको तभी मिल सकता है ।

Health Tips in Hindi





वजन बढ़ा नहीं कि आप  डाइटिंग , व्यायाम आदि शुरू कर देती हैं । लेकिन विशेषज्ञ कहते हैं कि दिनचर्या , आहार , खान - पान और जीवन - शैली में परिवर्तन के साथ फलों का सेवन सबसे जरूरी है । वजन कम करने , त्वचा की रौनक बनाए रखने , हाइपरटेंशन से छुटकारा पाने , दिल और गुर्दों को स्वस्थ रखने में फल बेहद कारगर होते हैं । इनसे शरीर को विटामिन , मिनरल , फाइबर जैसे पोषक तत्व मिलते हैं । इन्हें सबसे अच्छा दोस्त और साथी भी कह सकते हैं । लेकिन फलों के साथ कुछ शर्तें भी हैं , जैसे फलों को खाने का सही समय , उनको छीलने - काटने से लेकर स्टोर करने तक सभी नियमों का पालन आदि ।


 सही समय क्या है

 क्या फलों के सेवन का भी कोई उपयुक्त समय होता है ? दुनिया भर के विशेषज्ञों की अपनी - अपनी राय है । ' हीलिंग फूड्स ' नामक पुस्तक में सुबह के नाश्ते में फलों के सेवन 
को सबसे उत्तम बताया गया है । वहीं चिकित्सकों के अनुसार , सुबह के नाश्ते और दोपहर के भोजन के बीच या फिर दोपहर और रात्रि भोजन के बीच फलों का सेवन उत्तम होता है । दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ( एम्स ) की वरिष्ठ आहार विशेषज्ञ डॉ . स्वप्ना चतुर्वेदी बताती हैं , " सुबह के नाश्ते और दोपहर के भोजन के बीच के समय में पाचन की प्रक्रिया तेज होती है । शरीर में विभिन्न प्रकार के एंजाइम्स निकलते हैं । ऐसे में फलों के पाचन में भी दिक्कत या देर नहीं लगती । सभी पोषक तत्वों , फाइबर और शुगर की प्रोसेसिंग सही तरीके से होती है । कह सकते हैं कि दो मील्स के बीच फल सबसे अच्छे या पौष्टिक स्नैक होते हैं , जो न सिर्फ भूख को नियंत्रण में रखते हैं , बल्कि खनिज से भरपूर होने के कारण शरीर में सोडियम और पोटेशियम का संतुलन भी बनाए रखते हैं । "


अलग - अलग रंग वाले फलों के फायदे
अलग - अलग रंग वाले फलों के फायदे



अलग - अलग रंग वाले फलों के फायदे
 ■ लाल रंग के फल डायबिटीज , हार्ट , स्ट्रोक और त्वचा के लिए फायदेमंद होते हैं । नारंगी और पीले रंग के फल रोग - प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने , आंखों , त्वचा और जोड़ों की देखभाल करते हैं । ■ हरे रंग के फल टिशूज की मरम्मत , शरीर की आंतरिक सफाई और कैंसर के जोखिम को कम करते हैं । नीले और बैंगनी रंग के फल सूजन , यूरीनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और याद्दाश्त बढ़ाने में कारगर हैं ।




कई बार परहेज भी 


भारतीय परिवारों में अक्सर देखा जाता है कि दोपहर के भोजन के साथ ही डाइनिंग टेबल पर फल भी परोस दिए जाते हैं । डाइटिशियन अंशु चौहान बताती हैं कि भोजन के साथ फल खाने से शरीर को सिर्फ एक्सट्रा कैलोरी ही मिलती है । फलों में मौजूद विटामिन्स , मिनरल्स का भोजन के कार्ब्स और फैट के साथ ठीक से पाचन नहीं हो पाता । वहीं फलों में मौजूद कैलोरीज ( फ्रूकटोज ) शरीर में फैट बनकर जमा होने लगती है । इससे शरीर को फलों के पोषक तत्व नहीं मिलते हैं । दूसरी ओर कई कामकाजी महिलाएं रात में सोने से पहले फल ले लेती हैं । इससे पाचन और एसिडिटी की समस्या हो सकती है । इसके अलावा खाली पेट में खट्टे फलों ( साइट्रस फ्रूट्स ) और सेब का सेवन वर्जित है । यह एसिडिटी का कारण बन सकता है । विशेषज्ञों का यह भी मत है कि जिस प्रकार दूध और दही के साथ फलों का सेवन उपयुक्त नहीं है , उसी प्रकार दस्त के समय केला या पपीता कारगर नहीं होता । शोध बताते हैं कि फलों का चयन अपनी तासीर के अनुसार करना सही रहता है । जिनकी तासीर ठंडी है , वे केला , संतरा अनानास का अधिक सेवन न करें । वहीं गर्म तासीर वाले आम और पपीते का कम मात्रा में सेवन करें । डायबिटीज के मरीजों को भोजन के दो घंटे बाद ही फल लेना चाहिए या फिर भोजन करने से एक घंटा पहले । फलों में भी आम , अंगूर , अंजीर , चीकू से परहेज करना चाहिए , क्योंकि ये हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले मीठे फल होते हैं । इसी प्रकार जिन्हें गुर्दा संबंधी समस्या है , उन्हें फल नहीं लेने चाहिए । इन दिनों बाजार में कृत्रिम तरीके से पकाए गए और बेमौसमी फल बहुतायत में हैं । ऐसे फलों के सेवन से परहेज करना चाहिए । 




बीमारियों में कारगर



 सेब के लिए अंग्रेजी में एक कहावत महशूर है ' एन एप्पल अ डे , कीप्स द डॉक्टर अवे । ' अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन के अनुसार , जो महिलाएं नियमित रूप से सेब का सेवन करती हैं , उनमें हृदय जनित रोग की गुंजाइश कम होती है । संतरा , नींबू , अंगूर जैसे विटामिन सी युक्त फल भी दिल के साथ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को ठीक रखते हैं । पपीता , संतरा , आम जैसे पीले रंग के फलों में कैरोटीन , विटामिन ए , बीटा अलग - अलग प्रकार के फाइटोकेमिकल्स होते हैं , जो आंखों के लिए उत्तम माने जाते हैं । डॉ . स्वप्ना चतुर्वेदी कहती हैं , " पेक्टिन से भरपूर ये फल कब्ज , बावेल मूवमेंट , एसिडिटी , ब्लोटिंग , अपाचन की समस्या से भी निजात दिलाते हैं । जिन उम्रदराज महिलाओं को अर्थराइटिस , गठिया की समस्या होती है , उनके लिए चेरी फायदेमंद हो सकती है । जो फल नहीं ले सकती हैं , वे फ्रूट सलाद , शेक्स , जैम , जेली के रूप में उनका सेवन कर सकती हैं । " कैंसर से पीड़ित महिलाओं को चिकित्सक टमाटर का सेवन करने की सलाह देते हैं । इसमें ' लाइकोपीन ' नामक एंटी - ऑक्सिडेंट होता है , जो कैंसर सेल्स के निर्माण और फैलाव को रोकता है । जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार , अधिक मात्रा में टमाटर का सेवन करने वाली महिलाएं अपेक्षाकृत युवा दिखाई देती हैं । इसी प्रकार क्रैनबेरीज डिमेंशिया की शिकार महिलाओं के लिए लाभदायक है । इससे याद्दाश्त बढ़ती है । 


 



फल काटने का ढंग

  •   शोध बताते हैं कि फल - सब्जी काटते समय जिस हिस्से में चाकू का स्पर्श होता है , उसके एंटी - ऑक्सिडेंट्स और विटामिन्स को नुकसान होता है । इसलिए फल - सब्जी काटते समय धारदार चाकू का उपयोग करना चाहिए । 
  • फलों को हमेशा बड़े - बड़े टुकड़ों में





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे