सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Kunwar Narayan Best Hindi Kavita Collection -हमें आईना भी दिखाती हैं और सीख भी देती हैं, 'कुंवर नारायण' की ये कविताएं

 
हमें आईना भी दिखाती हैं और सीख भी देती हैं,  'कुंवर नारायण' की ये कविताएं   कुंवर नारायण की कविताएँ,
कुंवर नारायण पोयम्स इन हिंदी
, कुंवर नारायण फोटो, कुंवर नारायण का जीवन परिचय, कुंवर नारायण जन्मदिन

'कुंवर नारायण' की ये कविताएं
'कुंवर नारायण' की ये कविताएं 



'कुंवर नारायण' छोटी कविताएं...


कोई दुख 
मनुष्य के साहस से बड़ा नहीं
वही हारा 
जो लड़ा नहीं 
एक ही कविता में होती हैं 
कई कई कविताएं 
जैसे एक ही जीवन में
कई जीवन....

छोटी-छोटी संपूर्णताओं का 
एक अधूरा संग्रह 
पूरा जीवन 
तेज़ धारा की पकड़ में 
आ गया वह 
मेरे हाथों से छूट गया है 
उसका हाथ 
कच्चा तैराक़ है 
उखड़ती सांस 
उखड़ते पांव 
न थाह न ठहराव
पता नहीं 
यह धारा उसे बहा ले जाएगी 
या किसी नए तट से लगाएगी 
एक साफ़ सुथरे चौकोर काग़ज की तरह 
उठाकर ज़िंदगी को प्यार से 
सोचता हूं इस पर कुछ लिखूं 
फिर 
उसे कई मोड़ देकर 
कई तहों में बांटकर 
एक नाव बनाता हूं 
और बहते पानी पर चुपचाप छोड़कर 
उससे अलग हो जाता हूं 

बहाव में वह 
काग़ज नहीं 
एक बच्चे की खुशी है 
फूल फिर एक घटना है जो घट रही 
खुशबू एक ख़बर है जो फैल रही 
उसके अथाह वैभव की !
अचानक रंग चीख़ते- ''बचाओ 
खून हो रहा हरियाली पर ''
स्तब्ध है सन्नाटा 
समय फिर निकल भागा 
सर्वस्व लूटकर 
आदमी के बनाए 
किसी भी क़ानून की गिरफ़्त से छूटकर
आसमान से उतरी थी 
कभी सवेरे 
अप्सरा सी जगमगाती धूप 
दुनिया की सैर के लिए 
किराये के दो कमरों में 
रहती है आजकल 
शाम को आती है 
सिर्फ़ सोने के लिए 
कमरे में रुआंसी-सी 
ज़रा- सी धूप 




एक अजीब सी मुश्किल में हूं इन दिनों-
मेरी भरपूर नफरत कर सकने की ताकत
दिनों-दिन क्षीण पड़ती जा रही,

मुसलमानों से नफ़रत करने चलता
तो सामने ग़ालिब आकर खड़े हो जाते
अब आप ही बताइए किसी की कुछ चलती है
उनके सामने?
अंग्रेजों से नफ़रत करना चाहता
जिन्होंने दो सदी हम पर राज किया
तो शेक्सपियर आड़े आ जाते
जिनके मुझ पर न जाने कितने अहसान हैं

सिखों से नफ़रत करना चाहता 
तो गुरुनानक आंखों में छा जाते 
और सिर अपने आप झुक जाता 

और ये कंबन, त्यागराज, मुत्तुस्वामी...
लाख समझाता अपने को 
कि वे मेरे नहीं दूर कहीं दक्षिण के हैं 
पर मन है कि मानता ही नहीं 
बिना इन्हें अपनाए 
और वह प्रेमिका
जिससे मुझे पहला धोखा हुआ था
मिल जाए तो उसका खून कर दूं !
मिलती भी है, मगर
कभी मित्र, कभी मां, कभी बहन की तरह
तो प्यार का घूंट पीकर रह जाता

हर समय
पागलों की तरह भटकता रहता
कि कहीं कोई ऐसा मिल जाए
जिससे भरपूर नफरत कर के
अपना जी हल्का कर लूं !
पर होता है इसका ठीक उल्टा
कोई-न-कोई, कहीं-न-कहीं, कभी-न-कभी
ऐसा मिल जाता
जिससे प्यार किए बिना रह ही नहीं पाता

दिनों-दिन मेरा यह प्रेम-रोग बढ़ता ही जा रहा
और इस वहम ने पक्की जड़ पकड़ ली है
कि यह प्रेम किसी दिन मुझे स्वर्ग दिखाकर ही रहेगा




Kunwar narayan, kunwar narayan poems, kunwar narayan poems in hindi, kunwar narayan in hindi, kunwar narayan biography in hindi, kunwar narayan birth date, kunwar narayan photo,  कुंवर नारायण फोटो, कुंवर नारायण का जीवन परिचय, कुंवर नारायण जन्मदिन

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे