सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Shiv Par Vishwas Puri Ho Har Aas Es Sawan 2022 Mai सावन में पूरी हो आपकी सारी आस

 सावन बारिश का महीना है , सावन प्रकृति के खिलने का महीना है और सावन महादेव की भक्ति का भी महीना है । भगवान भोलेनाथ के सामने पूरे विश्वास के साथ समर्पण करने से मन की हर आस पूरी होती है ।


सावन में पूरी हो आपकी सारी आस
सावन में पूरी हो आपकी सारी आस 




मात्र एक लोटा गंगा जल , अक्षत , बिल्वपत्र और मुख से बम - बम की ध्वनि निकालने से भी आशुतोष भगवान शिव जी की पूजा परिपूर्ण मानी जाती है ।




एक बार सावन के महीने में प्रसिद्ध शिव मंदिर में भक्तों की भीड़ लगी थी । तभी अचानक आकाश मार्ग से सोने की एक थाली प्रकट हुई और भविष्यवाणी हुई कि जो कोई भगवान शिव का सच्चा भक्त होगा , उसे आशीर्वाद स्वरूप यह सोने की थाली प्राप्त होगी । यह सुनते ही बड़े - बड़े महात्मा , दानी , भक्त पधारे और थाली को उठाने का प्रयास करने लगे । सबसे पहले मंदिर के प्रधान पुजारी आगे आए और बोले , " मैं प्रतिदिन महादेव का अभिषेक करता हूं । मैं भोलेनाथ का सबसे निकटवर्ती भक्त हूं , इसलिए सोने की थाली मुझे ही मिलनी चाहिए । ” जैसे ही पंडित जी ने थाली उठाई , थाली पीतल की हो गई । इस प्रकार वहा • उपस्थित सभी लोगों ने खुद को आजमाया , लेकिन उनमें से कोई भी सच्चे भक्त के मानक पर खरा नहीं उतरा । जिस व्यक्ति ने बहुत बड़ी रकम दान - दक्षिणा के रूप में देकर मंदिर • बनवाया था , उसने भी प्रयास किया , मगर वह  भी सोने की थाली रूपी आशीर्वाद प्राप्त नहीं कर सका । उसी समय मंदिर में एक साधारण व्यक्ति ने प्रवेश किया । उसने भी भविष्यवाणी के बारे में सुना था , लेकिन वह शिव जी के दर्शन में इतना मग्न था कि उसने सोने की थाली की परवाह नहीं की । जब वह व्यक्ति मंदिर से पूजा करके जा रहा था तो किसी ने कहा कि मंदिर में आए सभी लोगों ने प्रयास किया है , तुम भी प्रयास करके देख लो , कहीं सच्चे भक्त तुम तो नहीं ! जैसे ही उस व्यक्ति ने थाली उठाई , थाली उसके हाथ में चमकने लगी , जिसे देखकर सभी लोग जयकारा लगाने लगे और एक सच्चे शिव भक्त की पहचान हुई । कुछ लोगों ने सच्चे भक्त से पूछा कि वह कैसे भक्ति करता है , जिससे महादेव उससे इतने प्रसन्न हैं । तब वह व्यक्ति बोला , " ईश्वर की भक्ति के साथ मैं अपना कार्य पूरे मनोयोग से करता हूं और नित्य थोड़ा - सा समय निकालकर जरूरतमंदों की मदद करता हूं , क्योंकि मैंने सुना है कि दूसरों की निःस्वार्थ मदद करने वालों की मदद स्वयं भगवान करते हैं । " 

happy sawan image
happy sawan image





सावन माह की यह कथा बताती है कि भक्त की कोई भी कामना ऐसी नहीं है , जो सावन में शिव आराधना से पूरी न हो सके । भगवान शिव सच्चे भक्त से शीघ्र प्रसन्न होते हैं । सात्विक , निर्मल , निश्छल भाव से की जाने वाली शिव आराधना का फल अनंत गुना मिलता है । रामचरितमानस में तुलसीदास ने लिखा है कि शिवरूप परमात्मा सभी प्राणियों के हृदय में ही स्थित है । काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह का आवरण हटने पर शिव कृपा का प्रत्यक्ष अनुभव किया जा सकता है । भक्तों के परम कल्याण और पूर्ण लाभ के लिए शुभ आचरण युक्त भक्ति अनिवार्य है । सावन मास में शिव आराधना के द्वारा प्रत्येक व्यक्ति अपने कष्टों को दूर कर जीवन में सुख समृद्धि प्राप्त कर सकता है । नौकरी की समस्या , दांपत्य जीवन में कोई मुसीबत , अथवा विवाह का योग न बन रहा हो या फिर जीवन में अचानक कोई विपत्ति आ गई हो , भक्त अपनी विशेष कामना पूरी करने के लिए शिव आराधना द्वारा मन की आस पूरी कर सकता है । विद्यार्थियों को सावन सोमवार व्रत रखकर शिव मंदिर में जलाभिषेक करने से एकाग्रता , विद्या , बुद्धि में वृद्धि होती है । सुहागिन स्त्रियों को व्रत - पूजन से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है , विवाह योग्य कुंवारी कन्याओं को व्रत रखने से मनोवांछित वर की प्राप्ति होती है , बेरोजगारों को रोजगार और सदगृहस्थ नौकरी - पेशा या व्यापारी वर्ग को धन - धान्य और लक्ष्मी की प्राप्ति होती है । संतान प्राप्ति के लिए भी सावन में शिव आराधना परम कल्याणकारी हैं । जिन्हें लौकिक वस्तुओं की अभिलाषा न हो , उन्हें सावन सोमवार व्रत करने से शिव भक्ति और मोक्ष की प्राप्ति होती है । 




अपनी राशि के अनुसार
अपनी राशि के अनुसार




अपनी राशि के अनुसार
 1 मेष : सावन मास में रोजाना शिवलिंग पर बेलपत्र पर सफेद चंदन से राम नाम लिखकर जल अर्पित करें । 
2 वृष : शिवलिंग पर दूध - दही से अभिषेक और हर शृंगार के फूलों की माला चढ़ाकर सफेद चंदन से तिलक
 3 मिथुन : सावन मास में रोजाना भगवान शिव का शहद से रुद्राभिषेक करें और गाय को हरी घास खिलाएं । 
4 कर्क : सावन माह में हर रोज भगवान शिव को दूध , दही , गंगा जल और मिश्री से स्नान करा अभिषेक करें । 
5 सिंह : सावन के महीने में प्रत्येक दिन शुद्ध देसी घी से भगवान शिव को स्नान कराएं ।
 6 कन्या : दूध और शहद से भगवान शिव का अभिषेक कर बेलपत्र , मदार के पुष्प , धतूरा और भांग अर्पित करें ।
 7 तुला : दही और गन्ने के रस से शिवलिंग को स्नान कराएं और पूजन के बाद गरीबों को मिश्री दान करें । 
8 वृश्चिक : शिवलिंग पर तीर्थस्थान का जल और दूध में शक्कर एवं शहद मिलाकर स्नान करा लाल चंदन से तिलक करें ।
9  धनु : कच्चे दूध में केसर , गुड़ , हल्दी मिलाकर शिवलिंग को स्नान करा केसर , हल्दी से तिलककर पीले पुष्प अर्पित करें । 10 मकर: घी , शहद , दही और बादाम के तेल से शिवलिंग का अभिषेक करें .. नारियल के जल से स्नान करा नीले पुष्प अर्पित करें । 
11 कुंभ : गंगा जल में भस्म मिलाकर भगवान शिव को स्नान कराने के बाद जटा वाला नारियल शिर्वाण करें । 
12 मीन : भगवान शिव को कच्चे दूध में हल्दी मिलाकर स्नान करा केसर का तिलक करें , पीले पुष्प और केसर अर्पित करें ।




कैसे करें पूजन
 सावन में शिव महिमा का गुणगान करते हुए अपनी श्रद्धा अनुसार शिवाष्टक , शिव तांडव स्तोत्र , शिव महिम्नस्तोत्र , शिव चालीसा , शिव सहस्रनाम , शिव के मंत्रों का जाप श्रद्धा भक्ति से करें । सरलता की दृष्टि से मात्र एक लोटा गंगा जल , अक्षत , बिल्वपत्र और मुख बम - बम की ध्वनि निकालने से भी आशुतोष भगवान शिव जी की पूजा परिपूर्ण मानी जाती है ।




  एक उपाय शिवामूठ 
सुख - समृद्धि , धन प्राप्ति अथवा रुके कार्यों को पूरा करने के लिए एक सरल और अत्यंत प्रभावशाली उपाय शिवामूठ के नाम से प्रचलित है । इसमें हर सोमवार को क्रमशः एक - एक मुट्ठी चावल , तिल , मूंग , जौ अर्पण करने से मनोवांछित कार्य पूरे होते हैं , लेकिन शर्त यह है कि यह उपाय आपको चार सोमवार बिना बाधा के पूरा करना है । इसके अंतर्गत सावन के पहले सोमवार को शिवमंदिर में जाकर शिवलिंग पर एक मुट्ठी कच्चे साबुत चावल अर्पण करें । दूसरे सोमवार को एक मुट्ठी सफेद तिल , तीसरे सोमवार को एक मुट्ठी खड़ी मूंग और चौथे सोमवार को एक मुट्ठी जौ अर्पित करें । साधारण ग्रहस्थ को कठिन अनुष्ठान की अपेक्षा सरल विधि से शिव पूजन करना चाहिए ।



अनिष्ट ग्रहों की चाल से बचाव
 सावन में शिवोपासना द्वारा अनिष्ट ग्रहों के दुष्प्रभावों का भी शमन स्वतः होने लगता है । शिवलिंग ब्रह्मांड का प्रतीक है और ब्रह्मांड में सभी ग्रह समाहित हैं । श्रावण मास में भगवान शिव का रुद्राभिषेक , महामृत्युंजय जप बड़ी से बड़ी ग्रह बाधा को भी दूर कर देता है । शनि ग्रह चाहे कितना भी पीड़ादायक क्यों न हो , शिवोपासना से शनि के समस्त कष्टों से निजात पाई जा सकती है । इसी के साथ राहु - केतु द्वारा निर्मित कालसर्प दोष का भी शमन शिवोपासना द्वारा संभव है ।

 
तीन बार ' महादेव ' 


भगवान के शिव , महादेव आदि नामों में अमोघ शक्ति है । मान्यताओं के अनुसार , मात्र एक बार सच्चे मन से ' महादेव ' उच्चारण करने पर भक्त सरलता से मुक्ति प्राप्त करता है । जब भक्त तीन बार ' महादेव , महादेव , महादेव ' , इस तरह भगवान का नाम उच्चारित करता है , तब भगवान एक नाम के प्रभाव से भक्त को मुक्ति दे देते हैं और शेष बचे दो नाम के निमित्त भक्त के सदा ऋणी हो जाते हैं ।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे