सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Top 4 बेस्ट Mini Projector, घर पर मिलेगा थिएटर का मजा, कीमत 7000 रुपये से शुरू

बेस्ट Mini Projector , Starting Price just 7000, घर पर मिलेगा थिएटर का मजा, कीमत 7000 रुपये से शुरू अधिकांश पोर्टेबल प्रोजेक्टर आपके लैपटॉप, टैबलेट, या स्मार्टफोन से वायरलेस कनेक्शन की अनुमति देते हैं, जिससे इन्हें इस्तेमाल और कैरी करना आसान हो जाता है।




Top 4 बेस्ट Mini Projector, घर पर मिलेगा थिएटर का मजा, कीमत 7000 रुपये से शुरू

मिनी प्रोजेक्टर सिर्फ 7000 से शुरू




अगर अपने बिजी शेड्यूल से सिनेमा जाने के लिए टाइम निकालना मुश्किल हो गया है, तो मिनी होम प्रोजेक्टर्स (Mini Projector) आपके लिए परफेक्ट सॉल्यूशन है। इनकी मदद से आप घर पर सिनेमा जैसा आनंद उठा सकते हैं। यही वजह है कि पिछले कुछ समय से होम प्रोजेक्टर्स का प्रचलन बढ़ा है। आप अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ घर पर ही विभिन्न OTT प्लेटफॉर्म्स पर मौजूद फिल्म्स और वेब सीरीज को बड़े पर्दे पर देखकर वीकेंड को मनोरंजक बना सकते हैं। अधिकांश पोर्टेबल प्रोजेक्टर आपके लैपटॉप, टैबलेट, या स्मार्टफोन से वायरलेस कनेक्शन की अनुमति देते हैं, जिससे इन्हें इस्तेमाल और कैरी करना आसान हो जाता है। अगर आप भी एक अच्छी क्वालिटी के पोर्टेबल मिनी होम प्रोजेक्टर की तलाश में हैं, तो हम आपके लिए कुछ बेहतरीन ऑप्शंस लेकर आए हैं।


बेस्ट मिनी होम प्रोजेक्टर


इगेट आई9 प्रो एलईडी प्रोजेक्टर


 XElectron C9 HD मिनी प्रोजेक्टर



 व्यूसोनिक एम1 मिनी प्रोजेक्टर



 इगेट आई9 प्रो एलईडी प्रोजेक्टर


होम प्रोजेक्टर्स की लिस्ट में EGate I9 Pro LED Projector बजट में रेंज में आने वाला अच्छा होम प्रोजेक्टर है। इस प्रोजेक्टर में आपको एचडी 720 नेटिव क्वालिटी, बढ़ी हुई ब्राइटनेस और 120 इंच की बड़ी स्क्रीन मिल जाती है। i9 PRO वास्तव में प्रो संस्करण है। एचडी लैंडस्केप एलसीडी चित्र को सीधे w / o पर इलेक्ट्रॉनिक रूप से तिरछा करके फेंकता है जैसे कि पोर्ट्रेट या लंबवत स्थित एलसीडी के मामले में, जिससे आपको सिनेमा हॉल के सामान व्यापक, बड़ी और बेहतर छवि गुणवत्ता वाला अनुभव मिलता है। साथ ही यह कई कनेक्टिविटी ऑप्शंस (VGA, AV, HDMI, USB, SD) के साथ आता है। यह किफायती प्रोजेक्टर बंगलों से लेकर अपार्टमेंट तक और शिक्षा और व्यवसाय आदि सभी जगहों के लिए परफेक्ट ऑप्शन है। इस प्रोडक्ट पर आपको एक साल की वारंटी और एक साल की एडिशनल एक्सटेंडेड वारंटी भी मिलती है। आप इसे 6,979 रुपये में अमेज़न से खरीद सकते हैं।





XElectron C9 HD Mini Projector


XElectron C9 HD Mini Projector नेटिव 1280×720 पिक्सेल (1080P सपोर्ट) प्रोजेक्टर 3800 लुमेन एलईडी से लैस है जो स्पष्ट रूप से मजबूत, जीवंत रंगों के साथ प्रोजेक्ट करता है। इसे घर और ऑफिस सभी जगह इस्तेमाल किया जा सकता है। यह आपको कई पोर्ट विकल्पों (2xHDMI/VGA/AV/2xUSB) के साथ मिलता है। इसमें एक इनबिल्ट स्पीकर है जो 180 इंच जितना बड़ा होम थिएटर जैसा अनुभव प्रदान करता है। C9 प्रोजेक्टर सीलिंग, वॉल और ट्राइपॉड माउंटिंग को सपोर्ट करता है।यह प्रोजेक्टर कम शोर वाले पंखे के साथ आता है जो शोर को आधा कर सकता है। इस प्रोजेक्टर पर आपको एक साल की वारंटी भी मिलती है और अमेज़न पर इसकी कीमत 9,490 रुपये है।



ViewSonic M1 Mini Projector


महज पॉकेट साइज आकर (4×4 इंच) में आने वाले ViewSonic M1 Mini Projector में आपको WVGA (854x480p) रिज़ॉल्यूशन और 1080p सपोर्ट मिलता है। यह LED प्रोजेक्टर लगभग किसी भी स्थान पर सुविधाजनक मनोरंजन प्रदान करता है। प्रीमियम ऑडियो क्वालिटी वाला एक एकीकृत जेबीएल स्पीकर घर पर या चलते-फिरते संगीत और फिल्मों के लिए एक छोटे पैकेज में बड़ी आवाज देने में सक्षम है। यह एक बिल्ट-इन बैटरी के साथ आता है जो 2.5 घंटे की बिजली प्रदान करती है साथ ही यह पावर बैंक कम्पेटिबल भी है। यह प्रोजेक्टर HDMI और USB पोर्ट के साथ आता है, जो आपको टैबलेट, कंप्यूटर, स्मार्टफोन, सेलफोन, मल्टीमीडिया प्लेयर, डोंगल और अन्य उपकरणों से जल्दी से कनेक्ट करने और वीडियो चलाने की अनुमति देता है। दो साल की वारंटी के साथ आने वाले ViewSonic प्रोजेक्टर को आप अमेज़न से 22,431 रुपये में आर्डर कर सकते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे