सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Asus Zenbook 17 Fold Oled Set To Launch In India 2022 Next Month, Know Specifications And Price - 'असूस' पहला फोल्डेबल लैपटॉप

Asus Zenbook 17 Fold Oled 2022 'Asus' का पहला फोल्डेबल लैपटॉप अगले महीने होगा भारत में लॉन्च, इसके फीचर्स भी जान लें


Asus अपने पहले फोल्डेबल लैपटॉप को भारत में लॉन्च करने के लिए तैयार है। Asus ZenBook 17 Fold OLED को 10 नवंबर को भारत में लॉन्च किया जाएगा। फिलहाल फोल्डेबल स्मार्टफोन ही मार्केट में आ रहे हैं लेकिन आसुस इस चेन को तोड़ते हुए Asus ZenBook 17 Fold OLED को लॉन्च करने जा रहा है। Asus ZenBook 17 Fold OLED को पहली बार इसी साल जनवरी में कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक शो (CES)2022 पेश किया गया था।


Asus का पहला फोल्डेबल लैपटॉप
Asus का पहला फोल्डेबल लैपटॉप



Asus ZenBook 17 Fold OLED के लिए भारत में प्री-ऑर्डर भी शुरू हो गया है जो कि 9 नवंबर तक चलेगा। Asus ZenBook 17 Fold OLED दुनिया का 17.3 इंच फोल्डेबल स्क्रीन वाला पहला लैपटॉप भी होगा। Asus ZenBook 17 Fold की प्री-बुकिंग भारत 3,29,990 रुपये की कीमत के साथ हो रही है, हालांकि प्री-ऑर्डर करने वाले ग्राहक इस लैपटॉप को 2,84,290 रुपये की प्रभावी कीमत पर खरीद सकेंगे। प्री-ऑर्डर करने वाले ग्राहकों को 32,100 रुपये का गिफ्ट मिलेगा। इसके अलावा इस लैपटॉप के साथ तीन साल की वारंटी के साथ एक साल का एक्सिडेंटल डैमेज भी मिलेगा।


Asus ZenBook 17 Fold OLED की स्पेसिफिकेशन
फीचर्स की बात करें तो Asus ZenBook 17 OLED में 4:3 इंच की OLED डिस्प्ले है और प्राइमरी स्क्रीन 17.3 इंच की है। स्क्रीन का रिजॉल्यूशन 2.5K है। लैपटॉप को बीच से मोड़ा जा सकेगा और दोनों हिस्सों को अलग-अलग भी किया जा सकेगा। अलग-अलग होने के बाद स्क्रीन की साइज 12.5 इंच की हो जाएगी। इसका हिंज 180 डिग्री वाला है। Asus ZenBook 17 Fold OLED की डिस्प्ले Pantone टेक्नोलॉजी के साथ आती है यानी बेहतर कलर एक्सपेरियंस मिलेगा। इसके साथ Dolby विजन और TUV Rheinland का सर्टिफिकेशन भी है।

Asus ZenBook 17 Fold OLED में 12th जेन इंटेल Core i7 प्रोसेसर के साथ ग्राफिक्स के लिए Iris Xe, 16 जीबी LPDDR5 रैम और 1TB PCIe Gen4 SSD स्टोरेज मिलती है। इसमें दो यूएसबी टाईप-सी थंडरबोल्ट 4.0 पोर्ट्स मिलते हैं। इसके अलावा इसमें 75Whr की बैटरी है। इसमें इंफ्रारेड कैमरा डिटेक्शन भी है और 5 मेगापिक्सल का वेब कैमरा भी मिलता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे