सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Nirnaye Desi Kahani निर्णय: काव्य प्रतियोगिता देसी कहानी इन हिंदी

 निर्णय हिंदी कहानी कल संस्थान में बच्चों की काव्य प्रतियोगिता आयोजित की गई है, जिसमें जिले के सभी स्कूलों के विद्यार्थी प्रतिभागी हैं। 



किरण सिंह 


"हे "जी, आप सीमा जी बोल रही हैं? मैं

लो!" हिंदी उन्नयन संस्थान से बोल रहा हूँ। कल संस्थान में बच्चों की काव्य प्रतियोगिता आयोजित की गई है, जिसमें जिले के सभी स्कूलों के विद्यार्थी प्रतिभागी हैं। आपको हम उस प्रतियोगिता के निर्णायक की भूमिका के लिए सादर आमंत्रित कर रहे हैं। क्या आपकी सहमति है?" "जी, कल तो एक अन्य आयोजन में जाना है। लेकिन चूंकि बच्चों की काव्य प्रतियोगिता की बात है तो मैं मैनेज करती है।" "जी, शुक्रिया!"



सीमा जी बच्चों की काव्य प्रतियोगिता को लेकर बहुत उत्साहित थीं, क्योंकि वह अच्छी तरह समझती थीं कि बच्चे ही हमारी साहित्यिक धरोहर के उत्तराधिकारी हैं, इसलिए हिंदी के उत्थान में निर्णायकों की भूमिका अहम है। सीमा जी वैसे भी अपने हरेक कार्य में ईमानदारी बरतती थीं, इसलिए भी साहित्य जगत में उनका एक अलग स्थान था। कवि गोष्ठी में सभी बच्चे एक से एक प्रस्तुति देकर निर्णायकों को धर्म संकट में डाल रहे थे। फिर भी सभी निर्णायक अपनी समझ से प्रतियोगियों को अंक दे रहे थे तभी निर्णायकों को चाय-नाश्ता के साथ-साथ एक पर्ची थमाई गई, जिसमे प्रतियोगियों का अंक और क्रम (प्रथम, द्वितीय, तृतीय) लिखा था और उसी के आधार पर निर्णय देना था। सीमा जी की आत्मा इस निर्णय के लिए गवाही नहीं दे रही थी । सीमा जी ने अपनी आत्मा की आवाज सुनी और उन्होंने अपने बगल में बैठे हुए संस्था के अध्यक्ष को एक पर्ची थमाई, जिसमें उन्होंने अपनी समझ के अनुसार विजेताओं की घोषणा करते हुए लिखा था- "बच्चे ईश्वर का रूप होते हैं। कम से कम इनके लिए तो हमें ईमानदारी बरतनी चाहिए।"

अध्यक्ष महोदय का चेहरा लाल-पीला हो रहा था, लेकिन वह उस समय विवश थे। इसलिए सीमा जी का निर्णय मानना पड़ा, किंतु आगे से उस संस्था के किसी भी आयोजन में सीमा जी को आमंत्रित नहीं किया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे