Bhrastmew | Jaite Hindi Hasya Kahani - Hindi Shayari H संतोष के. राय | भ्रष्टमेव जयते, सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Bhrastmew | Jaite Hindi Hasya Kahani - Hindi Shayari H संतोष के. राय | भ्रष्टमेव जयते,

संतोष के. राय | भ्रष्टमेव जयते,
भ्रष्टाचार के भरोसे कैसे होती है मौजा ही मौजा?





भ्रष्टमेव जयते,| शासकीय सेवा में मैं ने 35 वर्ष गुजारे हैं और इतने लंबे कार्यकाल के अनुभव के बाद यही समझ में आया कि सफलता की कुंजी हमेशा परिश्रम, लगन और निष्ठा नहीं है, बल्कि खुराफाती दिमाग, स्कीमिंग में माहिर, चाटुकारिता में पीएचडी हासिल हो तो वही आज रेस का अपराजित घोड़ा बन सकता है. वैसे भी हमारा समाज नेताओं और नौकरशाहों के आसरे चलता है, पर अभी मैं उच्चतर सेवा की बात कर रहा हूं. आईसीएस का नाम बहुत था और गोरी सरकार के योजनाकार यह बखूबी जानते थे कि हिंदुस्तान में राज करने के लिए सेवा में ऐसे भारतीय चुने जाएं जो पश्चिमी सभ्यता से खासे प्रभावित रहते हों, फिर वे चाहे मध्यवर्गीय परिवार के ही क्यों न हों. घर में ‘बाबूजी’, ‘अम्माजी’ में कम आत्मीयता बल्कि ‘मम्मी’, ‘डैडी’ संबोधन में अधिक निकटता पाते हों.

वर्ष 1970 तक यह आईसीएस ब्रीड खत्म होने लगी और आला अधिकारी का चयन यूपीएससी के द्वारा होने लगा. पर चयनकर्ता भी पुराने आईसीएस से खासे प्रभावित थे, इसलिए प्रारंभ में ऐसे अधिकारी चुने गए जो न तो पूरी तरह भारतीय परिवेश में ढले थे, न ही अंगरेज अफसरों की तरह अनुशासित ही थे. पर हां, वे चयनित अधिकारी अकसर निष्ठावान व ईमानदार थे. वे न तो कानून व नियमों की अनदेखी करते थे और न ही मंत्री महोदय के गलत फैसले में साथ देने में कोई रुचि रखते थे. ऐसे अफसर यह समझते थे कि राजनीतिक दखल, बल्कि कहें स्वार्थपूर्ण दखल, को नजरअंदाज करने पर अधिक से अधिक उन का स्थानांतरण अन्यत्र कर दिया जाएगा.



ये भी पढ़ें-Sarlta Ka Aarth

समय ने करवट बदली और लाल बहादुर शास्त्री के कार्यकाल के बाद इंदिरा गांधी का दौर आया, जहां नौकरशाही और कौर्पोरेट सैक्टर के कंपनी मालिकों को अधिक महत्त्व दिया जाने लगा. कौर्पोरेट जगत का भी सोचना था कि यदि उन के हित की पालिसी बनती है और शासनतंत्र उस में अघोषित भागीदारी धन के लालच में, सहज में करने को तैयार है तो फिर सब आसान ही होता है.

मंत्रीगण और नौकरशाह जुट गए कि कैसे होशियारी से शासन को चूना लगाया जा सकता है. इस दौड़ में जो बाधाएं आईं, उन्हें निबटाया गया, कुछ अर्थ लालच से, कुछ अपने प्रभाव से, रास्ते आसान हो गए. मानसिकता इतनी बदली कि सही और गलत में कोई सीमारेखा नहीं बची जो लांघी न गई हो.

मुझे याद है, एक बड़े अधिकारी द्विवेदीजी थे जो वर्ष 1975 के आसपास सेवा में आए थे. उन का काम करने का तरीका अलग था. अधिकतर फाइल की नोटिंग में लिख देते थे, ‘कृपया चर्चा करें’ अथवा ‘इस नस्ती पर चर्चा की जाए जब मैं अपेक्षाकृत कम व्यस्त रहूं’. एक ऐसी फाइल जिसे अपर सचिव महत्त्वपूर्ण मानते थे पर चर्चा करने के लिए समय लेने हेतु वे 2-3 माह तक साहब के पीए और गंगाराम (चहेता चपरासी) को चाय व कोल्डडिं्रक पिलाते रहते यह पता करने के लिए कि साहब कब कम व्यस्त रहेंगे. किंतु मुहूर्त नहीं आया और द्विवेदीजी का ट्रांसफर किसी अन्य मलाईदार महकमे में हो गया.

ये भी पढ़ें-पिता की पगड़ी


हिंदी कहानी|भ्रष्टमेव जयते, ऐसा नहीं था कि द्विवेदीजी सभी नस्तियों पर ऐसा नोट लिख देते थे. कुछ पर विशेष कृपा भी होती है. उदाहरण के लिए उन के खास परिचित के फोन आने के बाद ऐसी नस्ती प्राथमिकता की श्रेणी में आ जाती थी. अथवा मंत्री महोदय के कोड वर्ड के कारण ‘अर्जेंट’ हो जाती थी, और फिर ऐसी फाइलें 2-3 घंटे में ही निबट जाती थीं.

द्विवेदीजी की बिदाई हो गई. उन के एक नजदीकी मित्र टहलते हुए मिल गए. पूछने पर पता चला कि द्विवेदीजी के काम करने का यही ढंग था. वे दिनभर औफिस में या तो फोन पर बतियाते रहते थे या रंगीन उपन्यास पढ़ते रहते थे. फाइल में टीप देना कि ‘व्यस्त’ हैं, उन के गुरु का गुरुमंत्र था.

उन के ही बैच के एक अन्य आला अधिकारी थे मीणाजी. वे राजस्थान के सुदूर अंचल से आते हैं. बचपन में ही विवाह हो गया था, किंतु उच्च सेवा में आने के बाद ‘राम प्यारी’ उन्हें रास नहीं आती थी. एक दूसरा विवाह कर लिया जिस का कोई रिकौर्ड नहीं था. घर पर 8-10 विदेशी कुत्ते थे जिन की सेवाटहल के लिए 4-5 चपरासी लगे रहते थे. पहली पत्नी से 2 लड़के आस्टे्रलिया में पढ़ रहे थे. मीणाजी बहुत समय ‘खनिज विभाग’ में थे. नीचे वालों पर रोब गांठना उन का प्रिय काम था. अपने साथ आचारसंहिता की पुस्तक रखते थे. कोई कर्मचारी नेता यदि पान चबाते हुए जोरजोर से बतिया रहा हो या दांत निपोर रहा हो तो फौरन ‘अनुशासनात्मक कार्यवाही’ हेतु सिफारिश कर देते थे.

3 साल पहले वे रिटायर हुए. पहली पत्नी गांव में रहती है. दोनों बेटे विदेश में अध्ययन करने के बाद माइनिंग विभाग (खनिज) का बड़ा ठेका लेते हैं. परंतु पिताजी से बेटों की आएदिन गालीगलौज होती है. महल्ले में उन्हें कोई नमस्कार नहीं करता. न तो अब विलायती कुत्तों की आवाज आती है और न ही आचारसंहिता का भय बेटों को अनुशासन में बांधता है.

यह आज का राज दरबारी है- ‘भ्रष्टमेव जयते’.








Read Hindi Kahani ,Best story in hindi, Bharastamew jayate, Bharastamew jayate best story, Bharastamew jayate hindi kahani, Bharastamew jayate hindi story, Bharastamew jayate story, Bharastamew jayate story in hindi, crime story online, hindi kahani, hindi kahani online, hindi story, hindi story online, story in hindi, thriller story, thriller story online, कहानी, बेस्ट स्टोरी, बेस्ट स्टोरी इन हिन्दी, भ्रष्टमेव जयते कहानी, भ्रष्टमेव जयते बेस्ट स्टोरी, भ्रष्टमेव जयते हिंदी कहानी, हिंदी कहानी, हिंदी कहानी औनलाइन, हिंदी स्टोरी, हिन्दी कहानी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे