Holi-2020 Bura Na Mano Holi Hai सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Holi-2020 Bura Na Mano Holi Hai

hindi shayari h 

Holi-2020: बुरा तो मानो होली है
जनता को छलना राजनीति का धर्म है. इसलिए होली में इस बार देवर से ज्यादा तो राजनीति बेशर्म है. हो भी क्यों न, दावे सरकार के तो छलावे जनता की जिंदगी के अभिन्न अंग जो हैं.


अशोक गौतम



फगुआ में देशज बबुआ सब्सिडी की गलीसड़ी भंग के अधकचरे नशे में इधर से उधर, उधर से इधर बिन पेंदे के नेता सा चुनावी दिनों के धक्के खा रहा था. टिकट न मिलने पर कभी इस दल को तो कभी उस दल को कोसे जा रहा था. पता ही न चल रहा था कि यह नशा भंग का है या कमबख्त वसंत का.

बबुआ सरकार का आदमी होने के बाद भी सरकार की भंग के अधकचरे नशे में गा रहा था, ‘सरकार ने कहा कि बबुआ नोटबंदी के दौर में नोटबंदी के बाद भी हंस के दिखाओ, फिर यह जमाना तुम्हारा है. नोटबंदी में सरकार के सुरताल के साथ फटे गले से सुर मिलाओ, फिर यह आशियाना तुम्हारा है. …तो लो सरकार, हम नोटबंदी में जनता के गिरने के बाद भी खड़े हो गए और मिला ली है सरकार की ताल के साथ ताल, मिला ली है सरकार के चकाचक गाल के साथ अपनी फटी गाल…कि पग घुंघुरू बांध बबुआ नोटबंदी में नाचे रे…नाचे रे…नाचे रे…’ उधर जनता की खाली, बदहाली जेबें देख वसंत परेशान. खाली जेबों के ये, खाक रंग खेलेंगे? अब की बार होली के नाम पर देवर अपनी भाभियों को कैसे ठिठेलेंगे?

देशज बबुआ जब से सरकार से जुड़ा है, उसे पता है कि सरकार का काम ही है सोएजागे, हर पल हवाई दावे करना. जो दावे न करे, भला वह सरकार ही काहे की. और वफादार जनता का काम है सरकार के दावों की रक्षा के लिए चौकचौराहों पर दिनदहाड़े एकदूसरे को धक्के देते मरना. दावे सरकार के तो छलावे जनता की जिंदगी के अभिन्न अंग हैं.

ये भी पढ़ें- hindi kahani danto tale ungali

सो, सरकार ने फगुआ में रंग जमाने के बहाने, होली के नशे में जनता को धुत्त बनाने के साथ भंग के चकाचक रंग में दावा किया, ‘उस की नोटबंदी रंग ला रही है. ब्लैकमनिए की ब्लैकमनी नंगेपांव दौड़ जनता से गले लगने के लिए जनता के जनधन खातों की ओर बढ़ रही है. अब आम जनता सावधान हो जाए. उस की जेब भरने वाली है’. पर जनता ने भूख के नशे में भी जो बिना बैटरी की टौर्च लिए गौर से देखा तो पाया, रे बबुआ, ब्लैकमनिए नहीं, अबके भी मुई जनता ही लूटी जा रही है. यह जनता है ही ऐसी. इस की जिंदगी में कभी इस के तो कभी उस के हाथ लुटना ही लिखा है. आदमी के जो तीसरा हाथ होता तो तीसरे के हाथों भी लुटने को सहर्ष तैयार रहता. या उसे तीसरा हाथ भी लुटने को राजी कर लेता. सरकार कोई भी हो, वह दिल्ली के तख्त पर चढ़ बस दावे करती रहती है और बेचारे बबुआढबुआ कश्मीर से कन्याकुमारी तक तालियां बजाते भूखों मरते रहते हैं, अपनी खुशी से.


अब के सरकार ने चुनाव को वसंत में मिलाते मस्ती की कौकटेल तैयार की तो चुनावी घोषणापत्र को हर तरह के रंग में हर वोटर की मांग के अनुरूप लिपाया, ढोल मंजीरा ले आ डटी फगुआ के मंच पर. जनता को बरगलाबरगला गले का वैसे ही बुरा हाल था. पर भैया, तीजत्योहार है, गाना तो पड़ेगा ही. जनता को वोटों के लिए लुभाना तो पड़ेगा ही. यही राजनीति का धर्म है. इसीलिए होली में इस बार देवर से कहीं अधिक राजनीति बेशर्म है. सरकार को फगुआ के मंच पर जमे देख जनता छाछ की जली जीभ को मुंह में इधरउधर घुमाते बड़बड़ाने लगी. सरकार के दम में दम मिलाते ढोल की जगह अपना पिचका पेट बजाने लगी. उसे चुनाव के दिनों में भी ये सब करते देख सरकार ने उसे डांटा, ‘हद है री जनता, चुनाव के दिनों में भी पेट बजा रहे हो? क्या गम है जिस को दिखा रहे हो? अपना ये पिचका पेट दिखा तुम क्या बके जा रहे हो? ‘इधर हम एक आदमी के चारचार पेट भरने का इंतजाम कर रहे हैं, उधर वोटर भूखे मर रहे हैं. जरूर देश पर किसी भूतप्रेत का साया है. देखो तो, हम ने अपने घोषणापत्र में तुम्हारे लिए क्याक्या पकने को कड़ाही में सजाया है. बस, हमें वोट दो. इस बार सतयुग शर्तिया समझो आया है.’

जनता ने यह सुन चुनाव का तंबूरा बजाती सरकार के आगेपीछे हाथ जोड़े, ‘हुजूर, माना आप 5 साल हम से ठिठोली ही करते हो. ठिठोली करना आप का राजधर्म है. ठिठोली करना आप का जीवन का मर्म है. पर चुनाव के दिनों में तो कम से कम ठिठोली न कीजिए. होली है इस का मतलब यह बिलकुल नहीं कि होली के नाम पर जो मन करे, बके जाओ. देखो तो, हम नोटबंदी की मार से अभी भी नहीं उबरे हैं. हमें नोटबंदी से उबारो. ‘हे दीनानाथ, सुना है आप अबके भगवान को भी तारने जा रहे हो? हम तो नए नोटों के लिए अभी भी बंद पड़े एटीएम के आगे हाथ जोड़े लाइन में हाथ बांधे एकदूसरे को पीछे धकियाते, वहीं के वहीं खड़े हैं. कोई एकदूसरे से आगे न निकल जाए, इसलिए दिनरात जैसे भी हो, एकदूसरे के आगे विपक्षियों की तरह अड़े हैं. अड़ना हमारा जन्मसिद्घ अधिकार है. देखो तो, काले नोटों वाला लाला अब भी लंबी तान के सो रहा है. अब तो जागो सरकार, उस के कारनामे देख, उस के घर का पहरेदार कुत्ता तक रो रहा है.’


सरकार बोली, ‘लगता है साइकिल ने तुम्हारा दिमाग घुमाया है. रोटी हमारे आटे की खा रहे हो और हमारे ही विपरीत कमर मटका रहे हो. धत्त तेरे की जनता.’ ‘माफ करना, वादेदाता. सच तो सच है. मुंह में कीड़े पड़ें जो अब हम झूठ बोलें. झूठ बोलना इन का नहीं, लोकतंत्र के राजा का काम है,’ सरकार के खासमखास ने ढोल पर थाप देते सरकार के ऊंचा सुनने वाले कान में शब्द सरकाया कि अचानक नोटबंदी के चलते सरकार को कान्हा मान राधा ने उस पर रंग गिराया. सरकार होली के रंग में भीग गई सारी. ‘ये फजीहत का रंग हम पर, फिर से किस ने डाला? गोरी सरकार को ये किस रंग से नहला रहे हो? ये किस तरह का फगुआ मना रहे हो?’ सरकार दिल्ली गलिन में राधा को झाड़ती, अपने वसन संभालती राधा को लताड़ती चीखी तो राधा बौराई, ‘सरकार, माफ करना. नोटबंदी के दौर में दूसरे रंग न खरीद पाई. होली का त्योहार बचा रहे, इसलिए पानी में तवे की कालिख ले मिलाई. अब आप सामने आ गए तो??? मैं तो अपने श्याम को और श्याम करने के लिए… सोचा, श्याम कारे ही तो हैं. होली भी हो जाएगी और…पर सरकार, लगता है अब जनता के तीजत्योहार ऐसे ही मनेंगे. हे पौपुलर सरकार, हो सके तो दिल्ली से बाहर निकलो, मोहन प्यारे. हो सके तो बयानों से बाहर निकलो, सोहन प्यारे. ऊंचे लोगों की तिजोरियां नहीं, हम गरीबों के पेट भरो जनता के सहारे.’

मोहन सुन परेशान. राधा की आंखें धुएं से फूटने से बचाने के लिए उसे गैस भी दी, तो भी अपनी न हुई. चुनाव सिर पर. जनता को कैसे फुसलाएं? नोटबंदी का अब क्या तोड़ लाएं? लेओ भैया, जे तो उन के पैरों पर कुल्हाड़ी मारतेमारते अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी पड़ गई. होली में सारा चकाचक घोषणापत्र गुड़गोबर हो गया. एजेंडे का वोटर एजेंडे में ही खो गया. होली के हुल्लड़ में सरकार परेशान है. चुनाव से प्रैशरियाए सिर पर टोकरा भरा आसमान है. किस ओर जाएं. बिन कनैक्टिविटी के किसे डिजिटाई टोपी पहनाएं. डिजिटलिया हो छत पर खड़े कोई सिग्नल तलाश रहा है तो कोई सिग्नल के लिए हनुमानचालीसा बांच रहा है.



ऐसे में फगुआ के अवसर पर वोट बटोरने का कोई खालिस रास्ता तो दिखाओ, हे लोकतंत्र. होली में होली से अधिक वोटों को झटकने की मारधाड़ है. अब के लट्ठमार होली नहीं, वोटमार होली चली है. सभी अपनेअपने सिर पर अपनेअपने घोषणापत्रों का हैलमेट रख वोटों के लिए जनता द्वारा धकियाए जाने के बाद भी अड़े हुए हैं.




बुरा तो मानो होली है, बुरा तो मानो होली है कहानी, बुरा तो मानो होली है नई कहानी, बुरा तो मानो होली है हिंदी कहानी,

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब