Mujhe Bachcha Nahi Chahiye Latest Hindi Kahani 19 Din Main 19 Kahaniya 19 दिन 19 कहानियां: मुझे बच्चा नहीं चाहिए सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mujhe Bachcha Nahi Chahiye Latest Hindi Kahani 19 Din Main 19 Kahaniya 19 दिन 19 कहानियां: मुझे बच्चा नहीं चाहिए

Mujhe Bachcha Nahi Chahiye Latest Hindi Kahani
Mujhe Bachcha Nahi Chahiye Latest Hindi Kahani





19 दिन 19 कहानियां: मुझे बच्चा नहीं चाहिए
‘अपना घर बनाने के लिए शादी की थी. क्या पता था कि घर नहीं, होटल मिलेगा. जहां हर चीज चमचमाती हुई होगी. करीने से रखी हुई कि मैं उसे हिला भी न सकूं.’ अर्शी ने धीरे से जवाब दिया.






अर्शी की आए-दिन मियां से लड़ाई हो जाती है. झगड़ा इतना बढ़ जाता है कि अर्शी सोचने लगती कि इस आदमी के साथ पूरी जिन्दगी कैसे काटेगी. डर लगता है कि कहीं किसी दिन आदिल उसे तलाक ही न दे दे. बड़ी असुरक्षित सी जिन्दगी जी रही थी. हर वक्त सीने में धुकधुकी सी लगी रहती. लड़ाई भी ऐसे मुद्दे पर कि कोई सुने तो हंसी निकल जाए.

आदिल को सफाई की सनक थी. सनक भी ऐसी-वैसी नहीं, बहुत बड़ी. उसे भी और उसकी मां को भी. वो घर को किसी होटल की तरह चमचमाता हुआ देखना चाहते थे. धूल का कण न मिले कहीं, हर चीज चमकती हुई हो, फर्श पर हर वक्त फिनाइल का पोछा. बाहर से आओ तो लगता कि घर में नहीं, किसी अस्पताल में घुसे हो. अर्शी यहां हर काम ऐसे संभाल-संभाल कर करती थी कि कहीं उससे कोई चूक न हो जाए. कहीं कुछ गिर न जाए, कुछ टूट न जाए. वह किचेन को कई-कई बार पोंछती कि कहीं पानी की कोई बूंद पड़ी न दिख जाए आदिल को.

बेडरूम में कोई कपड़ा, सामान, कागज, अखबार इधर-उधर न पड़ा हो. सबकुछ भलीभांति व्यवस्थित हो. आदिल के आफिस से आते ही वह उसकी हर चीज जल्दी-जल्दी करीने से लगा देती, ताकि उसके गुस्से से बची रहे. सात साल हो गए शादी को और अर्शी को इंसान से रोबोट बने हुए. वह आज तक इस घर को अपना नहीं समझ पायी. समझे भी कैसे, वह कभी अपने तरीके से कुछ कर ही नहीं पायी यहां. घर को सुविधानुसार और अपने अनुरूप तो वह रख ही नहीं पाती है.



आदिल की मां ने घर में जो चीज जहां सजा दी हैं, वह बस उसे वहीं देखना चाहता है. अर्शी अपने मन से कोई चीज इधर से उधर नहीं कर सकती. यहां तक कि अपने बेडरूम तक में वह अपने अनुसार तस्वीरें,  फूल या अन्य चीजें नहीं लगा पाती है. जरा सा चेंज करो तो सौ सवाल खड़े हो जाते हैं. यह क्यों किया? इस घर में अर्शी खुद को एक नौकरानी समझने लगी है. एक नौकरानी की तरह घर की तमाम चीजों को रोजाना झांड-पोंछ कर साफ तो करती है मगर इन्हें बदल कर इनकी जगह कुछ और सजाने का हक उसको नहीं है.

शादी के बाद दो साल तक तो उसे लगता रहा कि शायद एडजेस्मेंट प्रॉब्लम हो रही है. शायद उसके घर में साफ-सफाई का इतना ध्यान नहीं रखा जाता, जैसे यहां रखते हैं. नया घर, नये लोग हैं तो धीरे-धीरे वह इनके तौर-तरीके सीख लेगी. मगर बीते पांच साल से वह इस बात को शिद्दत से महसूस करने लगी थी कि आदिल और उसकी मां सफाई के मामले में बहुत ज्यादा सनकी हैं. उसे लगने लगा था कि आदिल से शादी करके उसने बहुत बड़ी गलती कर दी है. मां का घर तो छूटा ही, जो मिला वह अपना नहीं है.

इन सात सालों में उसके अंदर ही अंदर बहुत कुछ टूट चुका है, एक सन्नाटा सा बिखर गया है अर्शी के शरीर और आत्मा में. सात सालों में वह बिल्कुल अकेली हो गयी है. हाथ भी खाली, मन भी खाली और कोख भी खाली. कोख इसलिए खाली क्योंकि अर्शी गर्भनिरोधक दवाएं लेती है, आदिल को बताए बिना.

ये भी पढ़ें-नादानियां: भाग 

सोचती थी कि इस घर में एडजेस्ट हो जाऊं तब फैमिली बढ़ाऊंगी. फिर आदिल के गुस्से और लड़ाई-झगड़े की वजह से सोचती दो-चार साल में जब दोनों को एकदूसरे की आदत हो जाएगी, एक दूसरे को समझने लगेंगे और झगड़े कम हो जाएंगे तब वह अपनी बगिया में नये फूल का स्वागत करेगी. मगर अब तो लगता ही नहीं कि कभी ऐसा हो पाएगा.

उस दिन आदिल का मूड कुछ रोमांटिक सा था. बिस्तर पर लेटते ही उसने अर्शी को बांहों में जकड़ा और बोला, ‘अब हमें फैमिली बढ़ाने की सोचनी चाहिए. तुम किसी लेडी डॉक्टर से मशवरा क्यों नहीं करती, आखिर कब तक इंतजार करोगी?’

अर्शी उसकी बात सुन कर खामोश ही रही. आदिल अपनी रौ में बोलता रहा, ‘देखो, मैं बहुत आजाद ख्याल का आदमी हूं. तुम इलाज के चक्कर में अगर नहीं पड़ना चाहती तो हम बच्चा गोद भी ले सकते हैं.’

अर्शी को खामोश देखकर उसे खीज सी हुई. ‘कुछ तो कहो…’ उसने उसकी चुप्पी पर खिसियाते हुए कहा.

‘मुझे बच्चा नहीं चाहिए.’ अर्शी ने धीरे से जवाब दिया. आदिल इस जवाब पर चौंक कर उठ बैठा. अर्शी के चेहरे की ओर उसने गौर से देखा और पूछा, ‘बच्चा नहीं चाहिए? क्यों? फिर शादी क्यों की तुमने?’ उसकी आवाज कठोर हो गयी.

‘अपना घर बनाने के लिए शादी की थी. क्या पता था कि घर नहीं, होटल मिलेगा. जहां हर चीज चमचमाती हुई होगी. करीने से रखी हुई कि मैं उसे हिला भी न सकूं.’ अर्शी ने धीरे से जवाब दिया.

‘क्या… मतलब क्या है तुम्हारा? ये घर नहीं होटल है?’ आदिल चिल्लाया.

‘हां, होटल ही है… चमचमाता हुआ होटल… कभी देखा है उन घरों को जहां बच्चे होते हैं… कैसे होते हैं वह घर… वहां हर तरफ खिलौने बिखरे होते हैं, चॉकलेट-टॉफियां बिखरी पड़ी रहती हैं. घर वह होता है जहां बच्चों की किताबें पड़ी होती हैं…  उनके कपड़े यहां वहां सूख रहे होते हैं… कहीं वह खेल रहे होते हैं… कहीं खाना खा कर फैला रहे होते हैं तो कहीं पॉटी करके बैठे होते हैं… वो होता है घर, जहां जिन्दगी होती है, जहां हलचल होती है, शोर-शराबा, हंसी-मजाक होता है… ऐसा नहीं जैसा यहां है… फिनाइल की महक से भरा सन्नाटा… सिर्फ सन्नाटा… अंदर भी और बाहर भी… मुझे होटल में बच्चा पैदा नहीं करना है… तुम चाहो तो मुझे तलाक दे दो…’

आदिल बिस्तर पर सन्न बैठा था और अर्शी को आज इतने सालों बाद यह सच्चाई कहने के बाद बहुत हल्का महसूस हो रहा था. यह बात आदिल से कह पाने की हिम्मत उसमें आयी थी तलाक का कठोर फैसला लेने के बाद. आदिल को उसी हाल में छोड़कर वह छत पर चली गयी. आखिरी बार इस होटल के ऊपर का आकाश देखने के लिए क्योंकि कल सुबह उसे वहां से उड़ जाना था.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब