Saazish Shayri Collection साज़िशों पर कहे गए शेर.

  
साज़िशों पर कहे गए शेर.
Saazish Shayri


Meri Barbadi Shayri साज़िशों पर कहे गए शेर.


मामला चाहे प्रेम का हो या सियासत की, साजिश हर जगह दिखाई पड़ती है। पेश है 'साज़िश' पर शायरों के अल्फ़ाज़-


क़ातिल की सारी साज़िशें नाकाम ही रहीं
चेहरा कुछ और खिल उठा ज़हराब गर पिया
~बद्र वास्ती





मैं आप अपनी मौत की तय्यारियों में हूँ
मेरे ख़िलाफ़ आप की साज़िश फ़ुज़ूल है
~शाहिद ज़की





रिश्तों की दलदल से कैसे निकलेंगे
हर साज़िश के पीछे अपने निकलेंगे
~शकील जमाली



यह भी पढ़े: फादर्स डे स्पेशल सरोज दुबे जी की कहानी चौथापन



न ही बिजलियाँ न ही बारिशें न ही दुश्मनों की वो साज़िशें
भला क्या सबब है बता ज़रा जो तू आज भी नहीं आ सका
~हिलाल फ़रीद



समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई
कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता
~अज्ञात



हुई हैं दैर ओ हरम में ये साज़िशें कैसी
धुआँ सा उठने लगा शहर के मकानों से
~कुमार पाशी



फिर चीख़ते फिर रहे बद-हवास चेहरे
फिर रचे जानें लगें हैं षड्यंत्र गहरे
~माधव अवाना




तोड़ दो बढ़ कर अँधेरी रात के षड़यंत्र को
कुछ नहीं तो आरज़ू-ए-रौशनी पैदा करो
~अशोक साहनी





पड़े हैं नफ़रत के बीच दिल में बरस रहा है लहू का सावन
हरी-भरी हैं सरों की फ़सलें बदन पे ज़ख़्मों के गुल खिले हैं
~हारून फ़राज़




हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी
जिस को भी देखना हो कई बार देखना
~निदा फ़ाज़ली

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां